जम्मू-कश्मीर पर चीन ने पाकिस्तान को दिया करार झटका, कह दी ये बड़ी बात

जम्मू-कश्मीर मामले को लेकर भारत और पाकिस्तान में तनाव जारी है। इस बीच चीन ने शांति की अपील की है। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की मुलाकात हुई। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि कोई भी द्विपक्षीय मतभेद विवाद का कारण नहीं बनना चाहिए।

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर मामले को लेकर भारत और पाकिस्तान में तनाव जारी है। इस बीच चीन ने शांति की अपील की है। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की मुलाकात हुई। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि कोई भी द्विपक्षीय मतभेद विवाद का कारण नहीं बनना चाहिए।

चीन ने कहा कि भारत और पाक के बीच जारी तनाव पर उसकी पैनी नजर है। इसके साथ ही चीन ने भारत से इस मसले पर सकारात्मक प्रयास करने की भी उम्मीद जताई है। चीन के इस बयान को पाक के लिए झटका माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें…पाकिस्तान की बेहूदा हरकतः इस बात पर खून खौल जाएगा आपका

जम्मू-कश्मीर मामले को लेकर हाल ही में पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन दौरे पर गए थे। बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान को चीन से किसी तरह के सख्त बयान या फिर दखल की उम्मीद थी, लेकिन चीन ने द्विपक्षीय मसले को शांति से निपटाने की बात कह दूरी बनाने की कोशिश है।

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी के अलावा उपराष्ट्रपति वांग किशान से भी मुलाकात की। इसके बाद दोनों देशों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत भी हुई। लंबे समय तक चीन में राजदूत रहे एस. जयशंकर का स्वागत करते हुए वांग यी ने कहा कि भारत और चीन का क्षेत्रीय शांति और स्थिरता में अहम योगदान होना चाहिए।

यह भी पढ़ें…इमरान के पास सिर्फ बहादुर शाह बनने का विकल्प | Yogesh Mishra Blog

वांग ने कहा, ‘भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की बात है तो हमारी इस पर पैनी नजर है। हमें उम्मीद है कि भारत भी शांति और स्थिरता को ध्यान में रखते हुए सकारात्मक कदम उठाएगा।’ जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद मोदी कैबिनेट के किसी मंत्री का यह पहला चीन दौरा है। भारत ने जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने का भी फैसला लिया है।

यह भी पढ़ें…विशाखापट्टनम: समुद्री जहाज में अचानक लगी भीषण आग, लोगों की ऐसे बची जान

विदेश सेवा में रहने के दौरान जयशंकर काफी लंबे समय तक चीन में रहे। उनका स्वागत करते हुए चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि चीन में फिर से आना बहुत खुशी की बात है और मैं अपने पिछले वर्षों को बड़े उत्साह के साथ याद करता हूं। मैं बहुत खुश हूं।