×

कोरोना: ट्रंप की सलाह पड़ी भारी, वायरस से बचने के चक्कर में गंवाई जान

कोरोना वायरस से बचने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सलाह मानना एक शख्स के लिए भारी पड़ गया। कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में उसकी जान चली गई।

Aradhya Tripathi

Aradhya TripathiBy Aradhya Tripathi

Published on 24 March 2020 9:00 AM GMT

कोरोना: ट्रंप की सलाह पड़ी भारी, वायरस से बचने के चक्कर में गंवाई जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कोरोना वायरस से बचने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सलाह मानना एक शख्स के लिए भारी पड़ गया। कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में उसकी जान चली गई। उस शख्स और उसकी पत्नी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सलाह पर चलने की कोशिश की थी। लेकिन ट्रंप ने जिस दवाई का नाम लिया था, उससे मिलता जुलता एक गलत केमिकल पति-पत्नी ने पी लिया। इसकी वजह से पति की मौत हो गई और पत्नी अभी भी हॉस्पिटल में मौत से जूझ रही है।

मछली के टैंक को साफ करने वाला केमिकल पिया

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी आज फिर करेंगे देश को संबोधित, कोरोना पर होगी बात

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक कपल ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए मछली के टैंक को साफ करने वाला केमिकल पी लिया। पति-पत्नी को लगा कि ये वही जादुई दवाई है, जिसका जिक्र अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया था। केमिकल के पीते ही पति-पत्नी की तबीयत बिगड़नी शुरू हो गई। दोनों को हॉस्पिटल में भर्ती करवाना पड़ा, जहां पति की मौत हो गई और पत्नी की स्थिति अभी भी नाजुक बनी हुई है।

अमेरिकी स्वास्थ्य संस्था कर रही सचेत

ये भी पढ़ें- कोरोना के खिलाफ जंग: खड़े हुए ये वीर जनप्रतिनिधि, ऐसे कर रहे सरकार की मदद

कोरोना के करीब थे ट्रंप: इनसे मिलाया था हाथ, जानिए फिर क्या हुआ

अमेरिका में एरिजोना की स्वयंसेवी संस्था बैनर हेल्थ इसे एक उदाहरण की तरह पेशकर अमेरिकी लोगों को सचेत कर रही है कि कोरोना वायरस का खुद के मुताबिक इलाज करना कितना जानलेवा साबित हो सकता है। संस्था लोगों को घरेलू चीजों से कोरोना वायरस के इलाज के प्रति जागरूक कर रही है। जानकारी के मुताबिक 60 साल की उम्र के आसपास के उस कपल ने क्लोरोक्वीन फॉस्फेट नाम का एक केमिकल पी लिया था। इस केमिकल का इस्तेमाल मछली के टैंक की सफाई में होता है। केमिकल उस कपल के घर में मौजूद था।

केमिकल पीने के ३० मिनट बाद बिगड़ी हालत

ये भी पढ़ें- कोरोना : 67 दिन में 1 लाख, 11 दिन में 2 लाख और 4 दिन में 3 लाख हुये संक्रमित

पति-पत्नी ने सोचा कि ये वही केमिकल है, जिसका जिक्र बड़ी मजबूती से डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए किया था। केमिकल पीने के 30 मिनट के भीतर पति-पत्नी को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। जहां पति की मौत हो गई। दरअसल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि एंटी मलेरिया ड्रग हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन कोरोना वायरस के इलाज में काफी कारगर साबित हो सकता है। इस दवा को ट्रंप ने भगवान का वरदान बताते हुए कहा था कि इसका इस्तेमाल कोरोना वायरस के इलाज में किया जा सकता है।

गलत केमिकल पी लिया

ये भी पढ़ें- ये है WHO की चौंकाने वाली सूची, दुनिया कोरोना का फैलाव देखकर सहम जाएंगे आप

हालांकि अमेरिकी डॉक्टर ट्रंप इस बयान से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक इस दवा का इस्तेमाल अपने शुरुआती चरण में है और अभी कोरोना वायरस के इलाज में इसके इस्तेमाल को लेकर कुछ पुख्ता तौर पर नहीं कहा जा सकता है। उस कपल ने राष्ट्रपति के बताए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की जगह क्लोरोक्वीन फॉस्फेट नाम का केमिकल पी लिया। उन्हें लगा कि राष्ट्रपति ने यही दवाई बताई थी।

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story