×

बच्चे में खतरनाक तत्व: UNICEF ने किया ये बड़ा खुलासा, खून में मौजूद है ये

दुनिया भर में तीन बच्चों में से एक के खून में एक बहुत ज्यादा खतरनाक तत्व मौजूद है। यह खुलासा किया है यूनिसेफ (UNICEF) ने।

Shreya
Updated on: 30 July 2020 8:10 AM GMT
बच्चे में खतरनाक तत्व: UNICEF ने किया ये बड़ा खुलासा, खून में मौजूद है ये
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: एक नए स्टडी में पाया गया है कि दुनिया भर में तीन बच्चों में से एक के खून में एक बहुत ज्यादा खतरनाक तत्व मौजूद है। यह खुलासा किया है यूनिसेफ (UNICEF) ने। बता दें कि यह संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी है, जो बच्चों के लिए काम करती है। UNICEF के अध्ययन के मुताबिक, खून में लेड काफी ज्यादा मात्रा में मौजूद है। इसकी वजह से बच्चों की मानसिक और शारीरिक सेहत पर भी बुरा असर पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: कल्याण सिंह-अयोध्या आंदोलन: बाबरी विद्वंश से क्यों जुड़ा इनका नाम, जाने इतिहास

बच्चों के मानसिक विकास पर बुरा प्रभाव

यूनिसेफ की स्टडी के मुताबिक, दुनिया भर में तकरीबन 80 करोड़ बच्चों के शरीर में लेड पांच माइक्रोग्राम प्रति डेसीलीटर से या उससे ज्यादा मात्रा में मौजूद है। संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी यूनिसेफ और पर्यावरण के लिए काम करने वाली संस्था प्योर अर्थ द्वारा किए गए अध्ययन से पता चला है कि खून के अंदर इतनी अधिक मात्रा में लेड मौजूद होने से बच्चों का मानसिक विकास नहीं हो पाता है।

यह भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल बहुत सस्ता: सीधे 8.36 पैसे प्रति लीटर गिरा दाम, लोगों में ख़ुशी की लहर

दिल और फेफड़ जैसे कई अंग सही से नहीं करते काम

अध्ययन के मुताबिक, इससे ना केवल बच्चों का मानसिक विकास रुक जाता है, बल्कि उनका नर्वस सिस्टम भी कमजोर हो जाता है। दिल और फेफड़ जैसे कई अंग सही से काम करना बंद कर देते हैं। जिसके चलते हर साल करीब लाखों बच्चे बुरी तरह से बीमार पड़ जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने बच्चों में लेड का उच्च स्तर को बेहद गंभीर बताया है।

यह भी पढ़ें: दरोगा पर चढ़ा बॉलीवुड का बुखार, बदमाश को पकड़ खिंचाई ऐसी फोटो

ऐसे प्रवेश करता है शरीर में लेड

इन सभी संस्थाओं ने कहा है कि बच्चों के शरीर में इतनी अधिक मात्रा में लेड होना काफी नुकसानदेह है। हमें इसे रोकने की कोशिश करनी होगी। साथ ही प्रदूषण का स्तर कम करना होगा। बच्चों की शरीर में वायु प्रदूषण, बैटरी रीसाइक्लिंग, ओपन-एयर स्मेलटर्स और लीड का प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों के जरिए लेड सबसे ज्यादा प्रवेश करता है।

यह भी पढ़ें: ऐसे शुरू हुई सुशांत और रिया की 15 करोड़ वाली Love Story, जानकर हो जाएंगे दंग

इन उद्योगों से बच्चों को हटाना होगा

गुरुवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया को बच्चों को उन उद्योगों से तत्काल हटा देना चाहिए, जहां पर बहुत ज्यादा मात्रा में लेड निकलता है। जैसे कि बैट्री, ऑटोमोबाइल पार्ट्स, इलेक्ट्रॉनिक कचरे, पॉटरी आदि। बच्चों के शरीर में सबसे ज्यादा लेड बैट्री के जहरीले धुओं या केमिकल, जो कि लेड-एसिड के मिश्रण से बनाई जाती है, से प्रवेश करता है। बैट्री की वजह से 85 फीसदी बच्चे लेड की अधिकता की वजह से बीमार होते हैं।

यह भी पढ़ें: दरोगा पर चढ़ा बॉलीवुड का बुखार, बदमाश को पकड़ खिंचाई ऐसी फोटो

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story