ब्लैकलिस्ट होने से बचने के लिए पाक का पैंतरा, लश्कर के 4 खूंखार आतंकी अरेस्ट

पाकिस्तान की कानून प्रवर्तन एजेंसी ने आतंकियों को फंडिंग के मामले में हाफिज सईद के संगठन लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा के 4 बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने कहा कि इन संगठनों के नेतृत्व की जांच की जाएगी।

नई दिल्ली: पाकिस्तान की कानून प्रवर्तन एजेंसी ने आतंकियों को फंडिंग के मामले में हाफिज सईद के आतंकी संगठन लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा के 4 बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने कहा कि इन संगठनों के नेतृत्व की जांच की जाएगी।

लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा के जिन 4 बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया गया है उनमें प्रोफेसर जफर इकबाल, याह्या अजीज, मुहम्मद अशरफ और अब्दुल सलाम शामिल हैं।

यह भी पढ़ें…महाराष्ट्र चुनाव: जानें अमित शाह ने अपने भाषण में खून की नदियों का क्यों किया जिक्र

हाफिज सईद के संगठन के खिलाफ यह बड़ी कार्रवाई पेरिस होने वाले फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स(FATF) की महत्वपूर्ण पूर्ण बैठक से पहले की गई है। पेरिस में FATF की 12 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक बैठक होनी है।

बता दें कि पाकिस्तान को पिछले साल जून में पेरिस में हुई FATF की बैठक में ग्रे सूची में डाल दिया गया है। इसके साथ ही चेतावनी दी गई थी कि अक्तूबर 2019 तक वह आतंकी फंडिंग रोकने की कार्रवाई करे। पाकिस्तान पर ईरान और उत्तर कोरिया के साथ ब्लैकलिस्ट में डाले जाने का खतरा मंडर रहा है।

यह भी पढ़ें…खतरनाक साजिश! ​कश्मीर में हाफिज सईद की रैली, जानें क्या है मकसद

आतंकवाद निरोधी विभाग (CTD) के एक प्रवक्ता ने कहा कि राष्ट्रीय कार्य योजना (NAP) में एक महत्व  महत्वपूर्ण प्रगति हुई है। लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा मुख्य नेताओं को पंजाब में आतंकवादियों को फंडिंग को लेकर गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़ें…सेना ने की एयरस्ट्राइक, बिछ गईं आतंकियों की लाशें, 12 जिहादी ढेर

CTD ने कहा कि लश्करे-ए-तयैबा और जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद पहले से ही आतंकवादियों के फंडिंग के अपराधों के मामले में मुकदमे का सामना कर रहा है। इस संगठन के पूरे मुख्य नेतृत्व की जांच की जाएगी।

प्रवक्ता ने कहा कि CTD पंजाब आतंकियों के फंडिग को लेकर अपराधों की जांच कर रहा है जिसमें इन आरोपियों ने आतंकियों के फंडिंग के माध्यम से धन का इकट्ठा कर संपत्ति बनाई है।