अब नागरिकता बिल पर आगबबूला हुआ पाकिस्तान, इमरान खान ने दिया ये बयान

विपक्ष के विरोध के बीच लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में पास हो गया है। पड़ोसी देश पाकिस्तान ने इस बिल को भेदभावकारी करार दिया है और इसका विरोध जताया है। पाकिस्तान का कहना है कि यह बिल दोनों देशों के बीच तमाम द्विपक्षीय समझौतों का पूरी तरह से उल्लंघन है।

नई दिल्ली: विपक्ष के विरोध के बीच लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में पास हो गया है। पड़ोसी देश पाकिस्तान ने इस बिल को भेदभावकारी करार दिया है और इसका विरोध जताया है। पाकिस्तान का कहना है कि यह बिल दोनों देशों के बीच तमाम द्विपक्षीय समझौतों का पूरी तरह से उल्लंघन है और खासतौर पर अल्पसंख्यकों के अधिकारों और उनकी सुरक्षा के लिए चिंताजनक है।

इसके अलावा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इमरान खान ने आरएसएस पर भी निशाना साधा है। इमरान ने ट्वीट कर मोदी सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर हमला बोला है। इमरान का आरोप है कि यह बिल दोनों देशों के बीच हुए समझौते के खिलाफ है।

यह भी पढ़ें…बम धमाके में खुंखार आतंकी का बेटा बाल बाल बचा, बौखला कर उठाया ये कदम

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की लोकसभा में जो नागरिकता बिल पास हुआ है, उसका हम विरोध करते हैं। यह कानून पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय समझौते और मानवाधिकार कानून का उल्लंघन करता है। यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हिंदू राष्ट्र का एजेंडा है जिसे अब मोदी सरकार लागू कर रही है।

यह भी पढ़ें…इस जेल से आया फंदा! निर्भया गैंगरेप के आरोपी को भेजा गया तिहाड़

इसके पहले पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारतीय लोकसभा ने जो नागरिकता बिल पास किया है। उसमें पाकिस्तान और दो अन्य दक्षिण एशियाई देशों के मुस्लिमों को छोड़कर सभी धर्मों के शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान करता है जो पूरी तरह गलत है। यह धर्म के आधार पर भेदभाव करने वाले तमाम अंतरराष्ट्रीय समझौतों का उल्लंघन है।

यह भी पढ़ें…तो गया पाकिस्तान! आंतकियो और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, रात भर होता रहा ये काम

पाकिस्तान की तरफ से कहा गया है कि यह नया बिल दक्षिणपंथी हिंदू नेताओं द्वारा गढ़े जा रहे ‘हिंदू राष्ट्र’ की दिशा में एक और कदम है। यह बिल कट्टर हिंदूवाद की विचारधारा और क्षेत्र में तानाशाही की महत्वाकांक्षा का मिला-जुला परिणाम है।

पाकिस्तान ने कहा कि गलत मंशा से धर्म के जरिए पड़ोसी देशों के आंतरिक मामलों में भी हस्तक्षेप करने का तरीका है इसको हम खारिज करते हैं।