चीन के खिलाफ हो रही पूरी दुनिया! अब इस शक्तिशाली देश ने दी कड़ी चेतावनी

कोरोना और अपनी विस्तारवादी नीति की वजह से चीन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बुरी तरह से घिर गया है। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। अब इस बीच फिलीपींस ने चीन को चेतावनी दी है।

नई दिल्ली: कोरोना और अपनी विस्तारवादी नीति की वजह से चीन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बुरी तरह से घिर गया है। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। अब इस बीच फिलीपींस ने चीन को चेतावनी दी है। फिलीपींस ने कहा कि अगर चीन विवादित दक्षिण चीन सागर में अपनी सैन्य अभ्यास जारी रखता है तो वह ‘गंभीर प्रतिक्रिया’ देगा। इस बीच लद्दाख मामले पर जापान ने भारत का समर्थन किया है।

फिलीपींस के विदेश सचिव ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर चीन विवादित दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास जारी रखता है तो फिलीपींस गंभीर प्रतिक्रिया देगा। विदेश सचिव तियोदोरो लोक्सिन जूनियर ने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) 1 जुलाई से पेरासेल द्वीप समूह के बाहर अभ्यास कर रही है और चीनी समुद्री अधिकारियों ने सभी जहाजों को युद्धाभ्यास के क्षेत्र में नेविगेट करने से रोका हुआ है।

चीन जहां सैन्य युद्धाभ्यास करने जा रहा है, वहां के नो-एंट्री जोन की जांच करने के बाद, लोक्सिन ने कहा कि पेरासेल से पानी बंद हो गया है, जिसका वियतनाम की ओर से दावा किया जाता है। अब फिलीपींस के क्षेत्र पर अतिक्रमण की कोशिश न करे।

यह भी पढ़ें…चीन को लगा एक और तगड़ा झटका, UPMRC ने लिया ये बड़ा फैसला

विदेश सचिव लोक्सिन ने कहा कि क्या फिलीपींस के क्षेत्र में अभ्यास करना चाहिए, तो चीन को इस बात का एहसास है कि उसे इसकी गंभीर प्रतिक्रिया, कूटनीतिक और जो भी उचित हो, मिल सकती है।

यह भी पढ़ें…रूस और चीन के बीच होगा भयानक युद्ध! ड्रैगन ने इस शहर को बता दिया अपना

अब तक की सबसे कड़ी चीन की चेतावनी

क्षेत्रीय संघर्षों के बीच फिलीपींस ने इस साल की यह अब तक की सबसे कड़ी चीन की चेतावनी दी है। यह चेतावनी ऐसे समय में दी है जब 2016 में रोड्रिगो डुटर्टे के राष्ट्रपति बनने के बाद दोनों देशों के संबंधों में सुधार हुआ है।

यह भी पढ़ें…चीन को फिर लगा झटका: अब इस देश ने किया विरोध, भारत का खुला समर्थन

अब इस बीच जापान ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ तनाव पर भारत का साथ दिया है। जापान ने शुक्रवार को कहा कि एलएसी पर यथास्थिति को बदलने के ‘एकतरफा’ प्रयासों का वह विरोध करेगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।