×

कोरोना वायरस की 40 साल पहले हो गई थी भविष्यवाणी! चीन का ये झूठ आया सामने

चीन में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा रखा है। कोरोना वायरस से चीन में अब तक 1700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। चीनी के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर अब 25 से ज्यादा देशों में फैल चुका है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 17 Feb 2020 11:50 AM GMT

कोरोना वायरस की 40 साल पहले हो गई थी भविष्यवाणी! चीन का ये झूठ आया सामने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: चीन में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा रखा है। कोरोना वायरस से चीन में अब तक 1700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। चीनी के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर अब 25 से ज्यादा देशों में फैल चुका है, लेकिन यह बात आपको जानकर हैरानी होगी कि 40 साल पहले ही एक किताब में कोरोना वायरस की भविष्यवाणी की गई थी।

1981 में थ्रिलर नॉवेल 'द आइज ऑफ डार्कनेस' किताब लिखी गई थी, जिसमें वुहान-400 नाम के एक वायरस की बात कही गई थी। डियान कूंट्ज के इस उपन्यास में लैब में एक जैव हथियार बनाने की कोशिश में एक वायरस जन्म लेता है।

ट्विटर पर किसी ने एक ट्वीट किया जिसके बाद सोशल मीडिया पर यह किताब चर्चा का विषय बन गई है। एक यूजर ने किताब के कवर को भी पोस्ट किया और किताब में वुहान-400 नाम के वायरस के जिक्र वाले किताब के अंश को भी शेयर किया है।

यह भी पढ़ें...निर्भया के दोषियों का तीसरा डेथ वांरट जारी: इस दिन दी जाएगी फांसी

इस ट्वीट में कैप्शन लिखा है कि हम एक बेहद अजीब दुनिया में रह रहे हैं। कहानियां कई बार बेहद चौंकाने वाली हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें...SC का बड़ा फैसला: सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थायी कमीशन

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने भी किताब के एक पैराग्राफ को शेयर किया है और लिखा, क्या कोरोना वायरस एक जैवहथियार वुहान-400 है, जिसे चीनियों ने विकसित किया है? ये किताब 1981 में प्रकाशित हुई थी, आप इसके अंश को पढ़िए।

यह भी पढ़ें...अभी-अभी एलिगेंट विले सोसाइटी की बिल्डिंग में लगी भीषण आग, कई लोग फंसे

दुनिया भर में कई वैज्ञानिकों ने भी ये आशंका जताई है कि कोरोना वायरस को लेकर चीन कोई न कोई सच्चाई छिपा रहा है। उनका कहना है कि कोरोना वायरस चीन की लैब से निकला है और वह जैव हथियार बनाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन चीन के तमाम वैज्ञानिकों ने इस दावे को खारिज करते हुए इसका कारण प्राकृतिक बताया है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story