Top

इस देश में बिकने लगा कोरोना का टीका: इतनी है कीमत, सबसे पहले मिलेगा इनको

चीन के जियाशिंग शहर में क्लिनिकल ट्रायल से अलग प्रयोग के तौर पर कोरोना का टीका बेचा जा रहा है। यह अभी फिलहाल हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को ही दिया जा रहा है। आपातकालीन टीकाकरण कार्यक्रम के तहत कोरोना का टीका 60 डॉलर (करीब 4400 रुपए) में बेचा जा रहा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 16 Oct 2020 2:49 PM GMT

इस देश में बिकने लगा कोरोना का टीका: इतनी है कीमत, सबसे पहले मिलेगा इनको
X
चीन में क्लिनिकल ट्रायल से अलग प्रयोग के तौर पर कोरोना का टीका बेचा जा रहा है। यह अभी फिलहाल हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को ही दिया जा रहा है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: दुनियाभर में कोरोना वायरस ने तबाही मचा कर रख दी है। कोरोना वायरस की अभी तक कोई दवा नहीं बन पाई है। हालांकि रूस ने कोरोना वैक्सीन बनाने लेने का दावा किया है। अब इस बीच चीन में भी कोरोना वायरस का टीका बिकने लगा है।

मिली जानकारी के मुताबिक, पूर्वी चीन के एक शहर में क्लिनिकल ट्रायल से अलग प्रयोग के तौर पर कोरोना का टीका बेचा जा रहा है। यह अभी फिलहाल हाई रिस्क ग्रुप के लोगों को ही दिया जा रहा है। आपातकालीन टीकाकरण कार्यक्रम के तहत कोरोना टीका 60 डॉलर (करीब 4400 रुपए) में बेचा जा रहा है। चीन के बीजिंग में स्थित कंपनी सिनोवैक बायोटेक की ओर से CoronaVac वैक्सनी विकसित किया है। CoronaVac को पूर्वी चीन के झेजियांग प्रांत के जियाशिंग शहर में स्वास्थ्यकर्मियों, महामारी की रोकथाम में जुटे लोगों, जनसेवा में जुटे लोगों और पोर्ट इस्पेक्टर्स को बेचा जा रहा है।

वैक्सीन के दिए जाएंगे दो डोज

चीन की सरकारी मीडिया ने इस बारे में बताया कि प्रायोगिक टीका बाद में आम नागरिकों को दिया जाएगा। जियाशिंग सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का कहना है कि चाइनीज कंपनी सिनोवैक बायोटेक लिमिडेट की तरफ विकसित किए गए टीके को 18 से 59 साल के लोगों को 400 युयान (करीब 4400 रुपए) में दिया जाएगा।

Covid-19

ये भी पढ़ें...सैनिकों पर गिरी पहाड़ी: रेस्क्यू में लगे 13 लोगों की मौत, कई अबतक मलबे में दबे

जियाशिंग सीडीसी ने यह बताया कि वैक्सीन को आधिकारिक रूप से मार्केटिंग के लिए मंजूरी नहीं दी गई है। इसे अभी सिर्फ अर्जेंट इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी गई है। वैक्सीन के दो डोज हैं जो 14-28 दिनों के अंतराल पर लगाया जाता है।

ये भी पढ़ें...दुश्मनों की खैर नहीं: भारत-अमेरिका की 2+2 बैठक, चीन का मुद्दा होगा शामिल

अंतिम चरण में है ट्रायल

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी की वैक्सीन ब्राजील, इंडोनेशिया और तुर्की में ट्रायल के अंतिम चरण में है। कंपनी ने बताया है कि फेज 3 का अंतरिम विश्लेषण नवंबर की शुरुआत में आने की संभावना है। जून के अंत में चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन (NHC) ने चाइनीज वैक्सीन मैनेजमेंट कानून के तहत हाई रिस्क लोगों के लिए वैक्सीन के इमर्जेंसी इस्तेमाले के लिए मंजूरी दी थी।

ये भी पढ़ें...आतंकी साजिश का खुलासा: सेना ने लश्कर का ठिकाना किया तबाह, सर्च ऑपरेशन जारी

एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि चीन को यूज के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ ) ने सहमति और समर्थन दिया है। जुलाई से अब तक चीन में प्रायोगिक टीका हजारों लोगों को लगाया जा चुका है। लेकिन डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि चीन ने घरेलू प्राधिकरण के फैसले पर टीकाकरण शुरू किया था।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story