Top

WHO बना तबाही: भारत-अमेरिका समेत सभी देशों पर बढ़ा खतरा, सामने आई ये रिपोर्ट

कोरोना वायरस से बुरी तरह जूझ रहे महाशक्तिशाली देश अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर फिर से हल्ला बोला है। ऐसे में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) हेड को चीन ने खरीद लिया था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 22 July 2020 6:29 AM GMT

WHO बना तबाही: भारत-अमेरिका समेत सभी देशों पर बढ़ा खतरा, सामने आई ये रिपोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से बुरी तरह जूझ रहे महाशक्तिशाली देश अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर फिर से हल्ला बोला है। ऐसे में अमेरिका का कहना है कि चीन से पूरी दुनिया में फैले कोरोना वायरस के लिए जितना चीन जिम्मेदार है उतना ही डब्ल्यूएचओ भी जिम्मेदार है। ऐसे में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) हेड को चीन ने खरीद लिया था। साथ ही WHO के एक प्रवक्ता ने कहा है कि संस्था ऐसे हमलों को खारिज करती है और विभिन्न देशों से अपील करता है कि वे महामारी रोकने के कामों पर ध्यान केंद्रित करें।

ये भी पढ़ें... सरकार की बड़ी राहत: IT-BPO कंपनियों पर बड़ा एलान, वर्क फ्रॉम होम पर कही ये बात

WHO पर बड़ा आरोप

इसी सिलसिले में सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को लंदन में सांसदों के साथ एक निजी मीटिंग में माइक पोम्पियो ने WHO पर बड़ा आरोप लगाया है। अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो ने कहा कि WHO के फेल होने की वजह से ब्रिटेन में मौतें बढ़ीं।

साथ ही माइक पोम्पियो ने आरोप लगाया है कि WHO के प्रमुख टेड्रोस एडहैनम घेब्रियेसुस ने चुनाव जीतने में मदद पाने के लिए चीन के साथ समझौता किया था। आगे पोम्पियो ने कहा कि टेड्रोस और चीन से समझौते की वजह से लोगों की मौतें हुईं।

ये भी पढ़ें...ड्रैगन अभी भी दिखा रहा चालबाजी, बफर जोन से पीछे नहीं हटी चीनी सेना

WHO एक राजनीतिक संस्था

विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि विज्ञान पर आधारित संस्था न होकर WHO एक राजनीतिक संस्था बन गई और कोरोना महामारी का सामना करने में नाकाम रही।

आपको बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का यह बयान उस समय आया है, जब वे चीन के खिलाफ सख्त बर्ताव करने के लिए ब्रिटेन और यूरोपीय देश पर दबाव बढ़ाने के उद्देश्य से यूरोप का दौरा शुरू कर रहे हैं। साथ ही कुछ ही दिन पहले ब्रिटेन ने 5G नेटवर्क के लिए चीनी कंपनी Huawei को बैन करने की भी घोषणा की थी।

ये भी पढ़ें...भारत पर नया खतरा: सरकार की भी हालत हुई खराब, अब आई ये बीमारी

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story