मौत की मंडी: फिर खुला वुहान बाजार, किलो के भाव में मिलते हैं मेंढक

मांसाहारी कचरे की वजह से कई बीमारियां फैलने का खतरा रहता है। आखिरकार यही हुआ भी। गंदगी के बीच बिक रहे एक जानवर से पहले वायरस सांप में गया। फिर सांप खाने की वजह से चीन के किसी इंसान में आया।

नई दिल्ली: एक तरफ चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में हडकंप मचा हुआ है। पूरी दुनिया में तीन लाख से ऊपर लोगों की मौत हो चुकी है। तो वहीं दूसरी तरफ़ चीन ने वही वुहान शहर का जिंदा जानवरों का बाजार फिर से खोल दिया है। इस बाजार में जीवित जंतुओं को बेचने वाले लोग वापस अपनी दुकानें लगाने लगे हैं। बस अंतर इतना है कि बाजार से थोड़ी दूर जाकर नई जगह पर। जिस बाजार से कोरोना वायरस फैलने की बात कही जाती है, उसका नाम है द हुआनान सीफूड होलसेल मार्केट।

इस बाज़ार में मरे जानवर भी अलग से बिकते हैं

गौरतलब है कि हुआनान सीफूड होलसेल मार्केट से ही कोरोना वायरस के फैलने की बात सबसे पहले सामने आई थी। 1 जनवरी को इस बाजार को बंद कर दिया गया था। बता दें कि इस बाजार में उन सभी जानवरों का मांस मिलता है जिसे इंसान खा सकता हो या उसे खाने की इच्छा रखता हो। वुहान के जानवर बाजार में करीब 112 प्रकार के जीवित जीव-जंतुओं का मांस व अंग बिकते हैं। इसके अलावा मरे जानवर अलग से बिकते हैं।

ये भी देखें: लॉकडाउन की उड़ी धज्जियां, अंधविश्वास के चलते जान जोखिम में डाल रहे लोग

अब दो-दो सीफूड मार्केट मार्केट साथ-साथ लगाये जा रहे हैं

चीन की सरकार ने बाजार को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया है। अब हुआनान सीफूड मार्केट उत्तरी हानकोउ सीफूड मार्केट के साथ लग रहा है। यहां पर जिंदा क्रेफिश और शेलफिश मिल रही हैं। नई जगह पर बाजार लगाने वाले दुकानदारों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वे कुछ दिनों बाद वापस अपनी पुरानी जगह पर बाजार लगा पाएंगे।

दूकान लगाने वाली महिला ने कहा- हमारी रोजी रोटी छिन गई है

हुआनान सीफूड बाजार में अपनी दुकान लगाने वाली एक महिला ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते बाजार बंद होने की वजह से हम लोगों को बहुत नुकसान हुआ है। हमारी रोजी रोटी छिन गई है। अब नई जगह से काम करना पड़ रहा है।

ये भी देखें: UAE में चढ़ा पारा: हुई इतनी गर्मी, आज मौसम बदल सकता है करवट

कीड़ों समेत हर प्रकार के जीवों का मांस आप ले सकते हैं

आपको यहां पर मुर्गा, सुअर, गाय, भैंस, लोमड़ी, कोआला, कुत्ता, मोर, शाही, भेड़िये के बच्चे, बतख, खरगोश, शुतुरमुर्ग, चूहे, हिरण, सांप, कंगारू, मगरमच्छ, बिच्छू, कछुआ, ऊंट, घड़ियाल, गधे, मेंढक, ईल, याक का सिर, कीड़ों समेत हर प्रकार के जीवों का मांस मिलता है।

बाजार में भीषण भीड़भाड़ और गंदगी होती है

बाहर से आने वाले लोगों के लिए यह बाजार इतनी भीड़भाड़ और गंदगी भरा होता है कि यहां चलना-फिरना ही दूभर है। कोरोना वायरस फैलने के बाद से यह बाजार अभी बंद है। इससे पहले इस बाजार में दुनियाभर के जीवों को खरीदने के लिए लोग आते थे। वुहान के जानवर बाजार में इन सभी जानवरों को एकसाथ बेचा जाता है। इन्हें यहीं काटा जाता है। उनसे निकलने वाला खून, जीव-जंतुओं पर उड़ती मक्खियां, बदबू, गंदगी एकमात्र कारण है यहां किसी भी प्रकार के संक्रमण के फैलने का।

ये भी देखें: पालघर में पुजारियों को जान से मारने की कोशिश, ऐसे बची साधुओं की जान

किलो के भाव में मिलते हैं मेंढक

मछलियों के साथ सांप रखे जाते हैं। किलो के भाव मेंढक मिलते हैं। चीन के लोग इन्हें जरूरत के हिसाब से ले जाते हैं। चीनी लोगों को जिस अंग की जरूरत होती है उसी अंग को खरीदते हैं। जिन अंगों की खरीद नहीं होती उनका कचरा कई घंटों के लिए उसी बाजार में पड़ा रहता है।

सांप खाने की वजह से कोरोना इंसान में आया

इस मांसाहारी कचरे की वजह से कई बीमारियां फैलने का खतरा रहता है। आखिरकार यही हुआ भी। गंदगी के बीच बिक रहे एक जानवर से पहले वायरस सांप में गया। फिर सांप खाने की वजह से चीन के किसी इंसान में आया।