दहशत के 41 मिनट: हत्यारों से जूझते रहे पति-पत्नी, बेरहमी से हुई मौत

दिल्ली से सटे फरीदाबाद में मंगलवार दोपहर को एक दंपति की निर्मम हत्या कर दी गई। हत्या करने से पहले पति और पत्नी दोनों को रस्सी से बांध दिया गया और फिर बाद में गोली मार दी गई।

Duble Murder in Faridabad

Duble Murder in Faridabad

फरीदाबाद: दिल्ली से सटे फरीदाबाद में मंगलवार दोपहर को एक दंपति की निर्मम हत्या कर दी गई। हत्या करने से पहले पति और पत्नी दोनों को रस्सी से बांध दिया गया और फिर बाद में गोली मार दी गई। घटना मंगलवार दोपहर की है लेकिन परिजनों और गांववालों को इस बारे में देर रात में जानकारी हुई। ये पूरी घटना फरीदाबाद के जसाना गांव की है।

सीसीटीवी में नजर आए चार संदिग्ध

पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो उसमें चार संदिग्ध नजर आए। पुलिस का मानना है कि इन चारों ने ही पती-पत्नी की हत्या की घटना को अंजाम दिया है। उनकी पहचान की जा रही है। आरोपियों ने पहले दंपति के घर में घुसकर दोनों के हाथ-पैर बांधे और फिर बाद में पति के सिर में गोली मार दी। जबकि महिला के सिर को दीवार पर पटका गया। जिससे महिला की गर्दन टूटी मिली। पुलिस को पास के ही एक मकान से सीसीटीवी फुटेज मिली है।

यह भी पढ़ें: टैक्सपेयर्स की बल्ले-बल्ले: अब मिलेगा फायदा, PM मोदी लॉन्च करेंगे ये योजना

ये है हत्या की पूरी कहानी

सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि मंगलवार दोपहर एक बजकर 37 मिनट पर चार युवक दो बाइकों से मकान के पास गली में आए। उन्होंने मकान से दूर अपनी बाइकों को खड़ा किया। उसके बाद पति पत्नी का खून कर दोनों दो बजकर 18 मिनट पर वापस जाते दिखे। घर से पहले दो युवक निकले, जिन्होंने बाइक स्टार्ट की और मकान के पास आकर खड़े हो गए। उसके कुछ देर बाद अन्य दो युवक घर से भागते हुए निकले और बाइक पर बैठकर फरार हो गए।

Double Murder in Faridabad

पती के बाधें हाथ पैर फिर मारी गोली

पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज में इन चार संदिग्धों ने ही घटना को अंजाम दिया है। उनकी पहचान की जा रही है। वहीं घर के हालात और मोनिका के शव को देखकर पुलिस को शक है कि 27 वर्षीय मोनिका ने हत्यारों का विरोध किया था। जिस वजह से घर में सामान भी फैला हुआ था। कहा जा रहा है कि हत्यारों ने पहले 30 वर्षीय सुखवीर के हाथ पैर बांधे होंगे और फिर मोनिका को बांधा है।

यह भी पढ़ें: बेंगलुरु हिंसा: कर्नाटक सरकार अपनाएगी ‘योगी मॉडल’, दोषियों से नुकसान की भरपाई

गर्दन तोड़ कर की गई महिला की हत्या

मोनिका की हत्या सिर में चोट लगने की वजह से हुई है। माना जा रहा है कि प्रतिशोध के दौरान हत्यारों ने महिला के सिर को दीवार पर पटका होगा और फिर उसकी गर्दन तोड़ी होगी। इसके बाद सुखवीर के सिर में गोली मारी है। पुलिस के मुताबिक, सुखवीर के सिर में पिस्टल से गोली मारी गई है। उनके घर में 9 एमएम गोली का खोल मिला है। पुलिस ने इस कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

घटना के वक्त किसी ने भी गोली चलने की आवाज नहीं सुनी। क्योंकि सुखवीर जिस जगह पर मकान बनाकर रहता है, वहां पर आसपास और पीछे के एरिया में सभी प्लॉट खाली हैं। जबकि सामने पड़ोस में रहने वाले मकान मालिक घटना के समय घर पर नहीं थे। यह परिवार किसी काम से बाहर गया हुआ था।

यह भी पढ़ें: UP में लाखों घरों में बिजली गुल, ऊर्जा मंत्री को आया गुस्सा, दिया ये बड़ा आदेश

मोबाइल व लैपटॉप भी लेकर फरार हुए हत्यारे

कहा जा रहा है कि जिस तरह से हत्यारों ने पति पत्नी की बेरहमी से हत्या की है, वो पेशेवर होंगे। सुखवीर के घर के बाहर सीसीटीवी लगा हुआ है। हत्यारों ने घर में पहुंचने से पहले गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे को सबसे पहले तोड़ा और फिर बाद में वह घर के अंदर गए। जानकारी के मुताबिक, सुखवीर ने सीसीटीवी को अपने मोबाइल से कनेक्ट किया हुआ था। ऐसा लग रहा है कि बदमाशों को इस बात की जानकारी पहले से थी। तभी वह सबूत मिटाने के लिए पति-पत्नी का मोबाइल व लैपटॉप भी अपने साथ ले गए।

पुलिस कर रही मामले की जांच

पुलिस ने मामले में मोनिका के पिता रामवीर की शिकायत पर लूटपाट में हत्या की धारा और आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: यात्रीगण ध्यान दें! भारत में चलेंगी शानदार प्राइवेट ट्रेनें, ऐसा होगा सफर

ऐसे हुई परिवार को खबर

पुलिस के मुताबिक, ग्रेटर फरीदाबाद के जसाना गांव के निवासी रामबीर गांव में ही दूध की डेरी चलाते हैं। रामबीर ने अपनी बेटी मोनिका की शादी 2013 में सेक्टर-21 स्थित फतेहपुर चंदीला गांव निवासी सुखबीर से की थी। शादी के सात साल हो गए थे, लेकिन दोनों की कोई औलाद नहीं थी। 27 वर्षीय मोनिका अपने पति के साथ बीते दो सालों से अपने मायके में ही अलग मकान बनाकर रह रही थी।

वहीं 30 वर्षीय सुखवीर ने अपने दो भाइयों के साथ बड़खल के पास संजय कॉलोनी में वर्कशॉप लगाई हुई थी। वो रोज अपने घर से वर्कशॉप पर आया करता था। लेकिन मंगलवार को वह वर्कशॉप पर नहीं गया। मंगलवार को सुखबीर मोनिका को डॉक्टर के पास चेकअप के लिए ले गया था। दोनों डॉक्टर के पास से करीब साढ़े 11 बजे घर लौटे थे।

यह भी पढ़ें: नीता अंबानी और इवांका ट्रंप भारत में डिजिटल जेंडर डिवाइड के खात्में के लिए साथ आए

मंगलवार शाम दूध लेने नहीं पहुंची मोनिका

मोनिका के घर के पास ही उसके पिता की डेरी है, जहां से मोनिका रोज शाम को दूध लेने जाती थी। लेकिन वह मंगलवार शाम दूध लेने नहीं पहुंची, ऐसे में पिता ने मोनिका के लिए डिब्बे में दूध भरकर रख दिया और वह अपने घर पर आ गए। रात को करीब रामबीर ने अपने बेटे मनीष से रात करीब साढ़े आठ बजे बेटी मोनिका को फोन कराया, लेकिन फोन बंद आ रहा था।

यह भी पढ़ें: थरथर कांपे आतंकी: सेना ने दिया बड़ा झटका, दहशतगर्दों का अड्डा किया नष्ट

भाई घर गया तो लगा झटका

इसके बाद रामवीर ने रात को 9 बजे मनीष को डेरी पर सोने के लिए भेजा और कहा कि मोनिका के लिए दूध डिब्बे में रखा हुआ है। उसे उसके घर पर दे देना। जब मनीष मोनिका के घर पर पहुंचा, तो वहां अंधेरा था। घर का मेन गेट और अन्य दरवाजे भी खुले हुए थे। मनीष ने अपनी बहन को आवाज दी, लेकिन कोई आवाज नहीं आई। ऐसे में मनीष ने अंदर जाकर लाइट जलाई तो वो दंग रह गया।

भाई की चीख सुन पहुंचे परिवार और पड़ोस के लोग

मनीष के सामने सुखवीर और मोनिका के शव खून से लथपथ फर्श पर पड़े हुए थे। उसके चीखने की आवाज सुनकर आसपास के लोग आ गए। यह खबर थोड़ी ही देर में गांव में फैल गई। खबर मिलते ही गांव और परिवार के सभी लोग मौके पर आ गए। फिर इस घटना की सूचना पुलिस को दी गई।

यह भी पढ़ें: live: नया टैक्स प्लेटफॉर्म हुआ लॉन्च,पीएम मोदी ने कहा- लोगों पर भरोसा जरूरी

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App