ऐसे हुआ खुलासा! रची गई थी सुखबीर सिंह बादल की हत्या की साजिश

बताते चलें कि यह ब्लास्ट 5 सितंबर 2016 को हुआ था, तरनतारन के पंडोरा गोला गांव में खाली प्लॉट में बम दबाकर रखे गए थे। लेकिन बम निकालने के दौरान जब फावड़े से जमीन की खुदाई होने लगी तो फावड़े की टक्कर से बम धमाका हो गया। इस

पंजाब: तरन तारन में हुए बम ब्लास्ट की जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तरन तारन के पंडोरी गोला गांव में हुए ब्लास्ट के आतंकी शिरोमणि, अकाली दल प्रमुख और राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल को बम धमाके से निशाने पर लेने की साजिश बना रहे थे।

सूत्रों के अनुसार…

पंजाब पुलिस के सूत्रों के हवाले से खबर है कि सुखबीर सिंह बादल के अमृतसर दौरे के दौरान आतंकियों ने बम धमाका करने की साजिश रची थी।

बताते चलें कि यह ब्लास्ट 5 सितंबर 2016 को हुआ था, तरनतारन के पंडोरा गोला गांव में खाली प्लॉट में बम दबाकर रखे गए थे। लेकिन बम निकालने के दौरान जब फावड़े से जमीन की खुदाई होने लगी तो फावड़े की टक्कर से बम धमाका हो गया। इस धमाके में मौके पर ही दो आतंकी की मौत हो गई थी।

पुलिस जांच में दावा…

यह भी पढ़ें.  होंठों का ये राज! मर्द हो तो जरूर जान लो, किताबों में भी नहीं ये ज्ञान

आतंकी बम धमाके की जांच में पुलिस के द्वारा दावा किया गया कि आतंकियों ने एक और हमले की योजना बनाई थी,जो नवम्बर 2016 में होने वाला था।

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि दरअसल, आंतकी पंजाब में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामलों और उसके बाद प्रदर्शनकारियों पर की गई पुलिस फायरिंग के पीछे सुखबीर बादल को साजिशकर्ता मानते हैं। यही कारण था कि आतंकियों ने सुखबीर सिंह बादल को निशाना बनाकर हमले की साजिश रची थी।

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

गौरतलब है कि पंजाब पुलिस द्वारा अबतक हुई जांच के पूरे रिकॉर्ड और सबूतों को NIA ने अपने कब्जे में ले लिया है, अब आगे इस मामले की जांच NIA करेगी। तरन तारन में हुए बम ब्लास्ट की जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तरन तारन के पंडोरी गोला गांव में हुए ब्लास्ट के आतंकी शिरोमणि, अकाली दल प्रमुख और राज्य के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल को बम धमाके से निशाने पर लेने की साजिश बना रहे थे।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?