Top

भारत-चीन के बीच वार्ता: झड़प के बाद तनाव कम करने की कोशिश, इस पर होगी चर्चा

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारतीय क्षेत्र में चुशूल में दोनों पक्षों के बीच चुशूल में सुबह 10 बजे यह ब्रिगेड कमांडर-स्तरीय वार्ता शुरू हुई। यह बैठक अभी जारी है। इस बैठक का विशिष्ट एजेंडा पैंगोंग झील के आसपास की स्थिति पर चर्चा है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 1 Sep 2020 11:30 AM GMT

भारत-चीन के बीच वार्ता: झड़प के बाद तनाव कम करने की कोशिश, इस पर होगी चर्चा
X
भारत और चीन में ब्रिगेड कमांडर स्तरीय वार्ता
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच 29-30 अगस्त की रात को हुई झड़प के बाद दोनों पक्षों ने तनाव कम करने के लिए वार्ता की। भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच ब्रिगेड कमांडर स्तर की वार्ता हो रही है। यह वार्ता चुशुल/मोल्डो में हो रही है, जिसमें सीमा विवाद घटना पर चर्चा की जा रही है। सरकारी सूत्रों से इसकी जानकारी मिली है।

यहां पर हो रही है वार्ता

सूत्रों के मुताबिक, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारतीय क्षेत्र में चुशूल में दोनों पक्षों के बीच चुशूल में सुबह 10 बजे यह ब्रिगेड कमांडर-स्तरीय वार्ता शुरू हुई। यह बैठक अभी जारी है। इस बैठक का विशिष्ट एजेंडा पैंगोंग झील के आसपास की स्थिति पर चर्चा है। इसमें सीमा विवाद घटना पर भी चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें: चंदौली हत्याकांड: न्याय के लिए आगे आए सपा प्रवक्ता मनोज काका, सरकार को दी चेतावनी

चीनी सेना करना चाहती थी कब्जा

सोमवार को भारतीय सेना की तरफ से कहा गया था कि 29-30 अगस्त की रात चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख में उकसावे की कार्रवाई करते हुए पैंगोंग झील के दक्षिण में एकतरफा तरीके से यथास्थिति बदलने की कोशिश की गई। लेकिन भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना के इस कोशिश को नाकाम कर दिया और चीनी सैनिकों को मार खदेड़ा।

यह भी पढ़ें: यूपी में दलितों पर हो रहे अत्याचार, आप की SC-ST विंग ने किया विरोध-प्रदर्शन

सोमवार को भी हुई थी बैठक, नहीं निकला नतीजा

सोमवार को दोनों पक्षों के बीच करीब छह घंटे तक वार्ता चली, लेकिन उसका कोई ठोस नतीजा नहीं निकला। सूत्रों के मुताबिक, चीनी सैनिक बड़ी संख्या क्षेत्र पर कब्जा करने के प्रयास के तहत पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे की तरफ बढ़ रहे थे, लेकिन सेना ने उनकी घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। बता दें कि दोनों पक्षों के बीच विवाद को हल करने के लिए बीते महीने से बातचीत जारी है।

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव: क्या मगध का सियासी किला बचाने में कामयाब हो पाएंगे तेजस्वी?

15 जून के बाद पहली बड़ी घटना

दोनों पक्षों के बीच मई महीने से ही तनाव जारी है। इसके बाद 15 जून को भारत और चीन के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें हमारे 20 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना में चीनी पक्ष की ओर भी काफी नुकसान हुआ था, लेकिन उसने अपने मारे और घायल हुए सैनिकों की संख्या सार्वजनिक नहीं क थी। इस झड़प के बाद 29-30 की रात हुई घटना पहली बड़ी घटना है।

यह भी पढ़ें: प्रणब दा को राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम सलामी, बेटे ने किया अंतिम संस्‍कार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story