बेहद गरीब अनिल अंबानी: वकीलों को देने के लिए पैसे नहीं, गहनें बेचकर दे रहे फीस

कारोबारी अनिल अंबानी कभी देश के अमीरों में शुमार थे, लेकिन वह बेहद गरीब हो चुकी हैं। अनिल अंबानी के पास अपने वकीलों को देने के लिए पैसे नहीं हैं। वह गहने बेचकर वकीलों की फीस दे रहे हैं।

Anil Ambani

बेहद गरीब अनिल अंबानी: वकीलों को देने के लिए पैसे नहीं, गहने बेचकर दे रहे फीस (फोटो: सोशल मीडिया)

लखनऊ: कारोबारी अनिल अंबानी कभी देश के अमीरों में शुमार थे, लेकिन वह बेहद गरीब हो चुकी हैं। अनिल अंबानी के पास अपने वकीलों को देने के लिए पैसे नहीं हैं। वह गहने बेचकर वकीलों की फीस दे रहे हैं। कर्ज के बोझ के नीचे दबे उद्योगपति अनिल अंबानी ने खुद यूके की एक अदालत को यह जानकारी दी है। उन्होंने कोर्ट से कहा कि वह एक साधारण जीवन जी रहे हैं और अभी वह सिर्फ एक कार का इस्तेमाल करते हैं।

”6 महीने में 9.9 करोड़ रुपये गहने बेचे”

अनिल अंबानी ने बताय इस साल जनवरी से जून के बीच उन्होंने 9.9 करोड़ रुपये के कीमत गहने बेचे और अब उनके पास वैसा कुछ कीमती सामान नहीं बचा है। अनिल अंबानी से जब लग्जरी कारों को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि ये सारे मीडिया में आ रही अफवाहें। मेरे पास कभी रॉल्स रॉयस नहीं थी। अभी मैं सिर्फ एक कार का इस्तेमाल कर रहा हूं।

कोर्ट ने मांगा संपत्तियों का ब्योरा

यूके हाईकोर्ट ने 22 मई, 2020 को अनिल अंबानी से कहा था कि वो चीन के तीन बैंकों को 12 जून, 2020 तक 71,69,17,681 डॉलर (करीब 5,281 करोड़ रुपये) कर्ज की रकम और 50,000 पाउंड (करीब 7 करोड़ रुपये) बतौर कानूनी खर्च के रूप में भुगतान करें। इसके बाद 15 जून को इंडस्ट्रियल ऐंड कमर्शल बैंक ऑफ चाइना की अगुआई में चीनी बैंकों ने अनिल अंबानी की संपत्तियों की जानकारी देने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें…दीपिका-सारा ने लिया ड्रग्स! सच का होगा खुलासा, NCB दागेगा ऐसे तीखे सवाल

29 जून को मास्टर डेविसन ने अनिल अंबानी को ऐफिडेविट के माध्यम से दुनियाभर में फैली अपनी उन संपत्तियों की जानकारी देने का आदेश दिया जिनकी कीमत 1,00,000 लाख डॉलर (करीब 74 लाख रुपये) से ज्यादा है। उनसे ऐफिडेविट में यह भी बताने को कहा गया कि उन संपत्तियों में उनकी पूरी हिस्सेदारी है या वो इनके किसी के साथ संयुक्त हकदार हैं।

Anil Ambani

कोर्ट के आदेश पर अंबानी ने दी जानकारी

इस आदेश पर कोर्ट को दिए ऐफिडेविट में अनिल अंबानी की तरफ से बताया गया है कि उन्होंने रिलायंस इनोवेंचर्स को 5 अरब रुपये का लोन दिया है। उन्होंने बताया कि रिलायंस इनोवेंचर्स में 1.20 करोड़ इक्विटी शेयर की कोई कीमत नहीं है। अंबानी ने कोर्ट से कहा कि अपने पारिवारिक ट्रस्ट समेत दुनियाभर के किसी भी ट्रस्ट में उनका कोई आर्थिक हित नहीं है।

यह भी पढ़ें…मनमोहन सिंह जन्मदिन ख़ास: शांत पूर्व PM की रोचक बातें, नहीं जानते होंगे ये किस्से

कोर्ट में उठे सवाल का दिया जवाब

यूके हाईकोर्ट में चीनी बैंकों का पक्ष रख रहे वकील बंकिम थांकी क्यूसी ने अंबानी से कहा कि आप सही सबूत नहीं रख रहे हैं। क्या आपका ट्रस्टों के साथ आर्थिक हित जुड़ा है?’ कोर्ट को पता चला कि अंबानी का बैंक बैलेंस 31 दिसंबर, 2019 को 40.2 लाख रुपये था जो रातोंरात घटकर 1 जनवरी, 2020 को 20.8 लाख रुपये रह गया। अंबानी ने कोर्ट को बताया कि वो हाल तक भारत के सबसे धनी व्यक्तियों में शुमार होते रहे, लेकिन उनके पास 1,10,000 डॉलर मूल्य की सिर्फ एक कलाकृति है।

इस पर चीनी बैंकों के वकील ने सवाल किया कि, टीना और अनिल अंबानी कलेक्शन की जानकारी क्यों नहीं देते?

इस पर सवाल के जवाब में अंबानी ने कहा कि यह मेरे पत्नी का संग्रह है। चूंकि मैं उनका पति हूं, इसिलए उन्होंने यह बताने के लिए मेरी अनुमति मांगी थी। उन्होंने बताया कि उन्होंने 2019-20 में रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर से कोई प्रफेशनल फीस नहीं ली और जिस तरह के हालात हैं, उनसे नहीं लगता कि इस वर्ष भी कुछ मिलने वाला है।

यह भी पढ़ें…टुकड़ों में बंटा विमान: 25 लोगों की मौत, हादसे से कांपा पूरा देश

अनिल अंबानी ने यूके की कोर्ट में कहा कि मेरा खर्च बहुत कम है जो मेरी पत्नी और परिवार वहन करते हैं। मेरी कोई चकाचौंध भरी जिंदगी नहीं है, ना तो आमदनी का कोई दूसरा जरिया है। मैं अपना कानूनी खर्च गहने बेचकर जुटा रहा हूं। मुझे बाकी खर्चों के लिए दूसरी संपत्तियां बेचने की कोर्ट से अनुमति की दरकार होगी।

जब उनसे प्राइवेट हेलिकॉप्टर के बारे में सवाल किया गया तो अंबानी ने कहा कि मैं सिर्फ व्यक्तिगत इस्तेमाल पर ही इसका पेमेंट करता हूं। उन्होंने बताया कि मैंने लॉकडाउन में इसका इस्तेमाल नहीं किया है।

वकील थांकी ने कहा कि खबरें आईं कि आपने पत्नी टीना को लग्जरी मोटर याट गिफ्ट किया है। अंबानी ने कहा कि याट एक कंपनी के नाम पर है। मुझे समुद्र से डर लगता है, इसलिए मैंने इसका सिर्फ एक बार इस्तेमाल किया जब वह हमारे पास आया।

उनसे लंदन, कैलिफॉर्निया, बीजिंग एवं अन्य जगहों पर शॉपिंग का खुलासा करने वाले क्रेडिट कार्ड बिल पर भी सवाल किए गए।

यह भी पढ़ें…इमरान खान को लताड़: भारत ने किया पाक को बेनकाब, आतंकवाद पर पर दिया जवाब

अंबानी ने कहा कि इनमें अधिकतर शॉपिंग उनकी मां ने की थी। अंबानी ने बताया कि उनके घर सीविंड में आठ महीने का बिजली बिल 60.6 लाख रुपये आया। उन्होंने इतना भारी-भरकम बिल के लिए बिजली मुहैया कराने वाली कंपनी पर ठीकरा फोड़ा और कहा कि कंपनी बहुत मंहगी कीमत पर बिजली देती है।

सुनवाई के बाद दोनों पक्षों की तरफ से जारी हुआ बयान

कोर्ट में चली इस सुनवाई के बाद अनिल अंबानी के प्रवक्ता की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि वो हमेशा से ही एक सामान्य जिंदगी जीने में विश्वास करते हैं जबकि उनके बारे में कई तरह की कोरी अफवाहें उड़ती रहती हैं।

तो वहीं इंडस्ट्रियल ऐंड कमर्शल बैंक ऑफ चाइना, एक्सपोर्ट ऐंड इंपोर्ट बैंक ऑफ चाइना और चाइना डिवेलपमेंट बैंक ने अपने जारी बयान में कहा कि वो अंबानी के खिलाफ बाकी सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करेंगे।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App