नापाक हरकत! आतंकी साजिश के लिए, इस धर्म की लड़कियों का इस्तेमाल

इस मसले पर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष जॉर्ज कुरियन ने गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर दावा किया है कि केरल में ईसाई लड़कियों को लव जेहाद का शिकार बनाया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने आकड़ा देते हुए बताया कि 7 साल में 4000 ईसाई लड़कियां लव जिहाद की शिकार हुई हैं।

Published by Harsh Pandey Published: September 24, 2019 | 9:15 pm
Modified: September 24, 2019 | 9:18 pm

नई दिल्लीः आतंकी साजिश के लिए ईसाई लड़कियों का इस्तेमाल होता है। राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग द्वारा किए गए खुलासे यह बाक सामने आई है कि ईसाई लड़कियां इस्लामिक कट्टरपंथियों के लिए सॉफ्ट टारगेट हैं और इन्हें लव जिहाद का शिकार बनाकर आतंकी गतिविधियों में इस्तेमाल किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें.  होंठों की लाल लिपिस्टिक! लड़कियों के लिए है इतनी खास

गृह मंत्रालय को लिखा चिट्ठी…

इस मसले पर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष जॉर्ज कुरियन ने गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर दावा किया है कि केरल में ईसाई लड़कियों को लव जेहाद का शिकार बनाया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने आकड़ा देते हुए बताया कि 7 साल में 4000 ईसाई लड़कियां लव जिहाद की शिकार हुई हैं।

यह भी पढ़ें. बेस्ट फ्रेंड बनेगी गर्लफ्रेंड! आज ही आजमाइये ये टिप्स

NIA से जांच की मांग…

इसके साथ ही राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष जॉर्ज कुरियन की चिट्ठी में लिखा कि केरल में ईसाई लड़कियां ‘लव जिहाद’का सबसे आसान शिकार बन रही हैं।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

केरल बिशप कैथोलिक कॉन्फ्रेंस ने इस सम्बन्ध में एक रिपोर्ट तैयार की है। जिसमें कहा गया कि ईसाई लड़कियां इस्लामिक कट्टरपंथियों के लिए एक‘सॉफ्ट टारगेट’बन गई हैं।

यह भी पढ़ें. वर्जिनिटी! लड़कियों की चाल बतायेगी यह सच

इस रिपोर्ट के अनुसार, 2005 से लेकर 2012 तक, 7 वर्षों में 4000 ईसाई लड़कियों को ‘लव जिहाद’का शिकार बनाया गया था।

रिपोर्ट में कहा गया कि पहले लड़कियों को प्यार के जाल में फंसाया गया और जबरन धर्मान्तरण कर के इस्लाम कबूल करवाया जाता है। अधिकतर मामलों में पीड़ितों का ब्रेनवाश किया गया, इस ख़तरनाक चलन को रोकने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब इस्लामिक कट्टरपंथियों की ओर से चलाए जा रहे धर्मान्तरण अभियान को रोकने के लिए क़ानून बनाने का समय आ गया है। साथ ही इस मामले में एनआईए से जांच कराई जाने की जरुरत है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App