Cyclone Nisarga: मुंबई के लिए खतरा टला, लेकिन शहर हुआ पानी-पानी

मौसम विभाग ने मुंबई में हाई टाइड के आने की संभावना जताई है। चक्रवाती तूफान के हवा की रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच चुकी है। समुद्र तट से टकराने के दौरान हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। 

Published by SK Gautam Published: June 3, 2020 | 12:41 pm
Modified: June 3, 2020 | 10:10 pm

मुंबई: पिछले कई महीनों से पृथ्वी पर कोरोना महामारी के साथ तूफ़ान, भूकंप का कहर जारी है। पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफ़ान द्वारा मचाई गई तबाही में जन धन का काफी नुकसान हुआ। तो वहीं बुधवार को मुंबई में समुद्री तटों से चक्रवात निसर्ग (Cyclone Nisarga)  टकराया। इसके बाद तूफान कमजोर पड़ा गया जिसकी वजहे ज्यादा नुकसान नहीं हुआ।

जान की क्षति नहीं

तूफान के कारण 196 जगहों पर पेड़ गिरने की घटनाएं हुईं। वहीं 9 स्थानों पर मकान के हिस्से ढह गए। इसके अलावा शहर के 39 जगहों पर शॉर्ट सर्किट हुआ। हालांकि निसर्ग तूफान के कारण लोगों के जान की क्षति नहीं हुई है।

मुंबई के लिए खतरा टला

निसर्ग तूफान का मुंबई के लिए खतरा लगभग खत्म हो चुका है। वहीं मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश जारी रहेगी। साथ ही हवाएं 50 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से नहीं चलेंगी।

मुंबई में भारी बारिश की संभावना

महाराष्ट्र और गुजरात के तटों की तरफ बढ़ रहा चक्रवात निसर्ग (Cyclone Nisarga) आने वाले कुछ घंटों के अंदर भीषण रूप ले सकता है। इसके चलते कल यानी बुधवार को मुंबई में भारी बारिश हो सकती है। कोरोना संकट का सामना कर रही भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई सदी में पहली बार इस तरह के चक्रवाती तूफान का सामना करेगी।

महाराष्ट्र और गुजरात में चक्रवात निसर्ग के आने की सूचना के बाद कई जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। निसर्ग चक्रवात के बुधवार को तट तक आने की संभावना है। ऐसे में एहतियातन तौर पर बचाव अभियान के लिए महाराष्ट्र में NDRF की 20 टीमों को तैनात किया गया है।

गुजरात में NDRF की कुल 18 टीमें हैं, जिनमें से 16 तैनात की जा चुकी हैं औ दो को रिजर्व में रखा गया है। Cyclone Nisarga से जुड़ी हर एक अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ।

ये भी देखें:यहां पानी की किल्लत, परेशान ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी

सीएम उद्धव ठाकरे ले रहे हैं पल-पल की अपडेट

चक्रवात निसर्ग के प्रभाव के बारे में पल-पल की अपडेट पाने के लिए सीएम उद्धव ठाकरे पश्चिमी तट पर जिला कलेक्टरों के साथ लगातार संपर्क में हैं। वह BMC कमिश्नर इकबाल सिंह चहल और वार्ड ऑफिसर्स को लगातार निर्देश दे रहे हैं, ताकि चक्रवात से होने वाले नुकसान को रोका या कम किया जा सके। सीएम ने निर्देश दिए हैं कि सभी अधिकारी तैयार रहें और ये सुनिश्चित करें कि जैसे ही चक्रवात उत्तरी महाराष्ट्र की तरफ बढ़े, वैसे ही मुंबई और ठाणे में राहत कार्य शुरू कर दिए जाएं।

सड़कों पर आया नाले का पानी

-पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे के बेटे और विधायक नीतेश राणे ने एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें एक सड़क पर नाले का पानी बहता हुआ दिख रहा है। इस के साथ उन्होंने लिखा है कि BMC हर साल नालों की सफाई पर करोड़ों खर्च कर रही है, फिर भी हमें ये मिल रहा है। उन्होंने बताया कि वीडियो में जिस इलाके को बताया गया है वो घाटकोपर राम नगर है।

ये भी देखें:सेना सड़क पर आएगी: सावधान रहें यहां प्रदर्शनकारी, आ रहा ये कानून

-रायगढ़ में पत्तों की तरह उड़ी छत, नेटवर्क ठप

-चक्रवात निसर्ग के चलते महाराष्ट्र में हुई तबाही के कई वीडियो सामने आ रहे हैं। ऐसा ही एक वीडियो रायगढ़ से भी आया, जहां एक बिल्डिंग की टीन की छत तेज हवाओं के चलते पत्तों की तरह उड़ गई।

-रायगढ़ की डीएम निधि चौधरी ने बताया कि रायगढ़ के कुछ इलाकों में निसर्ग चक्रवात के चलते मोबाइल नेटवर्क सर्विस बाधित हो गई है।

-मुंबई के भांडुप इलाके में हाई टेंसन वायर एक पेड़ पर गिर गया, जिसकी वजह से पेड़ पूरी तरह से सूख गया। पेड़ के आस-पास बसे लोगों को पेड़ गिरने का डर सता रहा है। लोग घरों के बाहर आ गए हैं। दमकल विभाग को सूचना दी गई है।

-मुंबई में शाम 7 बजे तक विमान परिचालन बंद

-मुंबई हवाई अड्डे पर परिचालन आज शाम 7 बजे तक स्थगित कर दिया गया है। इस दौरान न ही कोई विमान लैंड करेगा न ही कोई उड़ान भरेगा।

-अधिकारियों के मुताबिक मुंबई एयरपोर्ट पर फ्लाइट FedEx 5033 बेंगलुरू से आई और तभी विमान पट्टी से उतर गया, जिसके बाद प्‍लेन को वापस रन-वे पर लाया गया, इस हादसे से फ्लाइट ऑपरेशन में कोई बाधा नहीं आई है। इसके बाद विमानों के परिचालन को शाम 7 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

-भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि बादल अब भी समंदर के ऊपर हैं, लैंडफॉल का प्रोसेस एक घंटे में पूरा हो जाएगा। तूफान की केंद्र के पास मौजूदा इंटेंसिटी 90-100 किमी प्रति घंटा से 110 kmph है। ये अगले 6 घंटे में कमजोर हो जाएगा।

अगले 6 घंटे में कमजोर हो जाएगा निसर्ग

-भारतीय मौसम विभाग ने कहा है कि बादल अब भी समंदर के ऊपर हैं, लैंडफॉल का प्रोसेस एक घंटे में पूरा हो जाएगा। तूफान की केंद्र के पास मौजूदा इंटेंसिटी 90-100 किमी प्रति घंटा से 110 kmph है। ये अगले 6 घंटे में कमजोर हो जाएगा।

मुंबई में उखड़े पेड़, समुन्दर में उठे उफान

-चक्रवात निसर्ग लैंड फाल अलीबाग में हो गया है । चक्रवात निसर्ग ने तबाही मचानी शुरू कर दिया है । तूफ़ान की रफ़्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा है ।

– रत्नागिरी में मकान की छत उड़ी।

– मुंबई में 100 साल में ऐसा तूफ़ान पहली बार।

-मुंबई में बांद्रा-वर्ली सी-लिंक पर आवाजाही रोकी गई।

ये भी देखें:SBI ग्राहक सावधान: भूलकर भी ना करें ऐसा, बैंक ने ग्राहकों को दिए ये टिप्स

रायगढ़ में तेज हवाओं को चलते कई पेड़ गिरे

-महाराष्ट्र के रायगढ़ में तेज हवाओं को चलते कई पेड़ गिर गए हैं, तूफान महाराष्ट्र के बेहद करीब है। साइक्लोन के चलते 1 घंटे के भीतर लैंडफाल की संभावना भी जताई जा रही है, इसकी प्रक्रिया शुरु हो चुकी है जो 3 घंटे में कंप्लीट होगी।

-मुंबई में निसर्ग का लैंड फाल शुरू हो चुका है।

-मुंबई में कई इलाकों में गाड़ियों पर गिरे पेड़, भारी नुकसान।

– NDRF डायरेक्टर जनरल ने बताया कि लगभग 43 NDRF टीमें दो राज्यों में तैनात की गई हैं, जिनमें से 21 महाराष्ट्र में हैं। करीब 1 लाख लोगों को साइक्लोन के स्पॉट से निकाला गया है।

-चक्रवाती तूफान निसर्ग महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकरा गया है। निसर्ग तूफान मुंबई में अलीबाग के तट से टकराया है। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान करीब 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से टकराया है। मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है। मुंबई और गुजरात के ज्यादातर इलाकों में रेड अलर्ट जारी है।


मुंबई से सिर्फ 150 किलोमीटर दूर चक्रवात

मुंबई मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक चक्रवाती तूफान अलीबाग से 95 किलोमीटर और मुंबई से 150 किलोमीटर दूर है। IMD के मुताबिक यह दोपहर 1 बजे से 3 बजे के बीच 120 किलोमीटर की रफ्तार से समुद्र तट से टकरा सकता है। तूफान के समय 6 फीट ऊंची लहरें उठ सकती हैं। हालांकि मुंबई निसर्ग की मुसीबत से निपटने के लिए तैयार है। 80 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

महाराष्ट्र में NDRF की 20 टीमें तैनात

चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गई हैं। इसमें मुंबई में 8 टीमें, रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है। दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है। पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी। इसके दोपहर तक अलीबाग में तट से टकराने की उम्मीद है।

ये भी देखें: शाहीन बाग में मचा बवाल: भारी संख्या में तैनात पुलिस बल, आई बड़ी खबर


समुंद्र के पास जाने पर लगी पाबंदी

मुंबई में तूफान से निपटने और जान माल के नुकसान को रोकने के लिए पक्के इंतजाम किए गए हैं। मुंबई में धारा 144 लगाई गई है। लोगों से सैर-सपाटे के लिए समुद्री तटों पर नहीं जाने को कहा गया है। पार्कों में जाने पर रोक है। लोगों से घरों में रहने की अपील की गई है।

एनडीआरएफ, दमकल और सेना को अलर्ट पर रखा गया है। मौसम विभाग के मुताबिक दमन, दीव और दादरा नगर हवेली में तूफान का असर सबसे ज्यादा रहेगा। मुंबई समेत उत्तरी महाराष्ट्र के कई इलाकों और कोंकण में भारी बारिश का अलर्ट है। साथ ही दक्षिणी गुजरात के कई इलाकों में भी तूफान का असर ज्यादा होने की आशंका है।

मुंबई के अलावा तूफान का कहर गुजरात तक हो सकता है। इसका ट्रेलर अभी से दिखना शुरू हो गया है। अहमदाहाद में जमकर बारिश हो रही है। गुजरात के नवसारी के आसपास के समंदर में तो ऊंची ऊंची लहरें भी उठनी शुरू हो गई हैं।

ये भी देखें: शव लेकर भागे: अंतिम संस्कार में हुआ हमला, मच गई अफरा-तफरी


गुजरात में गांव करवाए गए खाली

गुजरात में चक्रवाती तूफान निसर्ग से निपटने की तैयारियों के बीच, वलसाड और नवसारी जिला प्रशासनों ने राज्य के तटीय क्षेत्रों में स्थित 47 गांवों से करीब 20 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना शुरू कर दिया है। मौसम विभाग ने मंगलवार को संकेत दिया कि हो सकता है कि चक्रवाती तूफान गुजरात तट पर न पहुंचे। हालांकि इसका प्रभाव तटीय क्षेत्रों में तेज हवाओं और भारी बारिश के रूप में सामने आ सकता है।


समुद्र तटों पर लोगों को जाने से किया गया माना, धारा 144

चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के खतरे के मद्देनजर मुंबई में समुद्र तट के किनारे लोगों के आवागमन पर गुरुवार दोपहर तक प्रतिबंध लगा दिया गया है। मुंबई पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि धारा 144 के तहत एक आदेश जारी किया गया है।

पुलिस ने बयान में कहा, ‘इस आदेश के साथ मुंबई पुलिस ने समुद्र तटों के पास स्थित सार्वजनिक स्थानों, सैरगाह, पार्कों और तटों के किनारे स्थित अन्य स्थानों पर एक या एक से अधिक व्यक्तियों की उपस्थिति या आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है।’

पुलिस ने बयान में कहा कि इस आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (एक लोक सेवक द्वारा विधिपूर्वक घोषित आदेश की अवहेलना) के तहत कार्रवाई हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार दोपहर बाद महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में चक्रवाती तूफान के आने की आशंका है।


मुंबई में भारतीय नौसेना की टीम तैयार है

चक्रवात ‘निसर्ग’ के कारण उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने के लिए पश्चिम नौसेना कमान ने अपनी सभी टीमों को सतर्क कर दिया है। रक्षा विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि नौसेना ने पांच बाढ़ टीम और तीन गोताखोरों की टीम को मुंबई में तैयार रखा है।

उन्होंने कहा कि ये टीम राहत एवं बचाव अभियानों के लिए प्रशिक्षित और सुसज्जित हैं, जो मुंबई के विभिन्न नौसेना क्षेत्रों में तैनात हैं और ये तेजी से बचाव कार्यों के लिए सक्षम हैं। बाढ़ संभावित इलाकों की रेकी की गई है और सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसी तरह की व्यवस्था करवार नौसेना क्षेत्र, गोवा नौसेना क्षेत्र के साथ ही गुजरात, दमन और दीव नौसेना क्षेत्रों में भी की गई है।

ये भी देखें :


चक्रवात ‘निसर्ग’ के पहुंचने से पहले भारी बारिश

महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले स्थित अलीबाग में चक्रवात ‘निसर्ग’ के पहुंचने की आशंका से पहले ही मुंबई और इसके आसपास के क्षेत्रों में मंगलवार शाम से ही बारिश शुरू हो गई जोकि रात होने तक और तेज हो गई। मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि अगले 24 घंटे में महानगर के अधिकतर हिस्सों में मध्यम बारिश जबकि सुदूरवर्ती क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है।


राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ने कसी कमर

निसर्ग चक्रवात के बुधवार को तट से टकराने के खतरे को देखते हुए महाराष्ट्र और गुजरात ने आपदा से मुकाबले के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दलों को तैनात कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर उन्हें केंद्र द्वारा हर संभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को बताया कि निसर्ग चक्रवात आज महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तट को पार कर जाएगा। इस दौरान हवा की गति 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि चक्रवाती तूफान को देखते हुए लोगों को बचाकर निकालने के वास्ते राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 10 दलों को राज्य के तटवर्ती क्षेत्रों में तैनात किया गया है। साथ ही एनडीआरएफ की 6 टीमों को तैनात रहने के लिए कहा गया है।

गुजरात में प्रशासन ने चार तटीय जिलों से 78,000 लोगों को निकालने का काम शुरू कर दिया है। राहत आयुक्त हर्षद पटेल ने गांधीनगर में संवाददाताओं से कहा कि एनडीआरएफ के 13 और एसडीआरएफ के 6 दलों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि वलसाड, सूरत, नवसारी और भरुच जिले में रहने वाले 78,971 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है।


बीएमसी ने की लिस्ट जारी साइक्लोन के दौरान क्या करना है और क्या नहीं

इसके अलावा बीएमसी ने लोगों के लिए क्या नहीं करना है, इसकी भी एक लिस्ट जारी की है। इस गाइडलाइन के मुताबिक लोगों से अफवाहों में न फंसने की अपील की गई है। साथ ही चक्रवाती तूफान के दौरान गाड़ी न चलाने, छतिग्रस्त बिल्डिंग से दूर रहने, घायल लोगों की जगह में परिवर्तन न करने की सलाह दी गई है।