खूनी साजिश: खालिस्तान आतंकियों के निशाने पर ये दल, पुलिस ने किया खुलासा

आरएसएस और बजरंग दल के तमाम नेता खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के निशाने पर थे। इस बारे में पुलिस ने खुलासा खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट से जुड़े आरोपियों से पूछताछ के बाद किया है।

नई दिल्ली। आरएसएस और बजरंग दल के तमाम नेता खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के निशाने पर थे। इस बारे में पुलिस ने खुलासा खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट से जुड़े आरोपियों से पूछताछ के बाद किया है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि पुलिस ने खालिस्तान आंदोलन के 3 आतंकियों को शनिवार को गिरफ्तार किया था। साथ ही ये भी कहा जा रहा है ये सब उत्तर भारत के अलग-अलग राज्यों में हत्याओं को अंजाम देने की कोशिश में थे।

ये भी पढ़ें… बड़ा आरोप: कांग्रेस की वजह से रुका लेह-मनाली सड़क निर्माण, नहीं हुआ अहम काम

माहौल खराब करने की खतरनाक साजिश

साथ ही पुलिस ने बताय कि विश्व हिंदू परिषद (आरएसएस) और बजरंग दल के ये नेता दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में रहते हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि इन नेताओं को निशाना बनाकर खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के ये लोग उत्तर भारत में माहौल खराब करने की खतरनाक साजिश में थे।

इन सबने एक वेबसाइट के जरिये ग्रेटर खालिस्तान बनाने के लिए ‘रेफरेंडम 2020’ वोटिंग की भी शुरुआत की थी। रेफरेंडम के तहत ग्रेटर खालिस्तान का हेडक्वॉर्टर लाहौर में बनाना चाहते थे।

ये भी पढ़ें…थर-थर कांपी धरती: तेज झटकों ने उड़ाई लोगों की नींद, भूकंप ला रहा तबाही

वॉट्सएप चैट को भी ट्रेस किया

जानकारी देते हुए दिल्ली पुलिस ने बताया कि इस पूरी प्लानिंग के पीछे आईएसआई (ISI) का भी हाथ था। ये सब सोशल मीडिया के तहत ज्यादा से ज्यादा नौजवानों को रैडिक्लाइज़ करना चाहते थे।

साथ ही इनके कई वॉट्सएप चैट को भी ट्रेस किया गया है। जिसमें उन बड़े नामों की भी लिस्ट थी, जिनकी ये टारगेट किलिंग करना चाहते थे। कुल तीन आरोपी शनिवार को पकड़े गए थे। एक दिल्ली से, दूसरा हरियाणा तीसरा पंजाब से था।

ये भी पढ़ें…अब होगा युद्ध: चीनी सेना है पूरी तरह तैयार, सीमा से मिले ये संकेत

तीन पिस्तौल और सात कारतूस भी बरामद

स्थानीय अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि तीनों गिरफ्तार आरोपियों की पहचान दिल्ली निवासी मोहिंदर पाल सिंह (29), पंजाब निवासी गुरतेज सिंह (41) और हरियाणा निवासी लवप्रीत सिंह (21) के रूप में की गई है। उन्होंने बताया कि आरोपियों से तीन पिस्तौल और सात कारतूस भी बरामद की गई है।

इस बारे में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि उनके पास से तीन मोबाइल फोन भी बरामद किए गये हैं जिनमें खालिस्तान आंदोलन से जुड़े आपत्तिजनक वीडियो और तस्वीर मौजूद हैं।

ये भी पढ़ें…ठेले पर शव: ये है जिला अस्पताल की गंदी करतूत, सामने आई प्रशासन की सच्चाई

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App