Top

इस कमांडर से कांपा पाकिस्तान: सदियों याद किया जाएगा ये देश का जवान

बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो रहे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को आज देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया जानती है। विंग कमांडर अभिनंदन के साहस और बहादुरी ने पूरी दुनिया को कायल कर दिया।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 27 Feb 2020 8:07 AM GMT

इस कमांडर से कांपा पाकिस्तान: सदियों याद किया जाएगा ये देश का जवान
X
इस कमांडर से कांपा पाकिस्तान: सदियों याद किया जाएगा ये देश का जवान
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो रहे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को आज देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया जानती है। विंग कमांडर अभिनंदन के साहस और बहादुरी ने पूरी दुनिया को कायल कर दिया। कोई भी भारतीय न पुलवामा को भुल सकता है, न ही बालाकोट एयर स्ट्राइक को और न ही इन सब में हीरो बनकर उभरे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को। तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर बालाकोट एयर स्ट्राइक में क्या थी अभिनंदन की भूमिका।

पुलवामा अटैक के बदले के लिए जन्मा बालाकोट एयर स्ट्राइक

पिछले साल 14 फरवरी, 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला किया गया था, जिसमें भारत ने अपने 40 से ज्यादा जवान खो दिए थे। इस घटना के बाद पूरे भारत में लोगों में गुस्सा था। सभी सरकार से आतंकियों से इस हमले का बदला लेने की मांग कर रहे थे। बता दें कि इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।

सीआरपीएफ के इस ट्वीट में छिपी थी चेतावनी

जहां एक ओर सारा देश बदले की आग में जल रहा था तो वहीं देश की सेना में भी कम गुस्सा नहीं था। हमले के बाद शहीद जवानों को याद करते हुए पिछले साल सीआरपीएफ ने अपने ट्वीट में लिखा था कि हम भूलेंगे नहीं, हम छोड़ेंगे नहीं। पुलवामा में शहीद हुए जवानों को हम सलाम करते हैं और उनके परिवारों के साथ हैं। इस जघन्य अपराध का बदला लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: भर्तियां ही भर्तियां: कई विभागों में निकली बंपर वैकेंसी, एक क्लिक में जानें यहां

26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने की एयर स्ट्राइक

किसी को क्या पता था कि ये ट्वीट सच में पाकिस्तान के लिए एक इशारा था। फिर बालाकोट एयर स्ट्राइक के रुप में आखिरकार वो दिन आया जिस दिन का हर भारतीय को इंतजार था। हमले के 13 दिन बाद 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा एयर स्ट्राइक की गई। भारतीय वायुसेना ने इस दौरान जैश के आतंकी कैंपों को निशाना बनाया और उन्हें पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस एयर स्ट्राइक में करीब 200 से 300 आतंकवादी मारे गए थे।

पाकिस्तान ने भारतीय सामरिक ठिकानों पर बोला हमला

इस हमले से पाकिस्तान पूरी तरह बौखला गया और हमले का बदला लेने के लिए उसने 24 एफ-16 विमानों के साथ भारतीय सामरिक ठिकानों पर हमला बोला। साथ ही इनमें से कुछ विमानों ने जम्मू-कश्मीर में स्थित सेना के ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की थी। इस दौरान भारतीय वायुसेना की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई।

पाकिस्तानी वायुसेना को भारतीय लड़ाकू विमानों ने खदेड़ दिया

पाकिस्तान की नापाक हरकत का जवाब देने के लिए पीर पंजाल में गश्त कर रहे 2 सुखोई-30 एमकेआई, 2 मिराज-2000 और अवंतीपोरा एयरबेस से 8 मिग-21 बाइसन विमानों को भेजा गया। इनमें से एक लड़ाकू विमान को विंग कमांडर अभिनंदन उड़ा रहे थे। इस दौरान पाकिस्तानी वायुसेना को भारतीय लड़ाकू विमानों ने खदेड़ दिया।

यह भी पढ़ें: ट्रंप के बाद भारत आया ये राष्ट्रपति, हो सकती है इन मुद्दों पर डील

रेडियो संदेश बाधित होने से पाकिस्तानी सीमा पहुंचे अभिनंदन

हालांकि इस दौरान रेडियो संदेश बाधित होने की वजह से पाकिस्तानी वायुसीमा में प्रवेश कर गए थे। ये रेडियो संदेश पाकिस्तान की ओर से बाधित किए गए थे। लेकिन उन्होंने क्रैश होने से पहले पाकिस्तान के एक F-16 को मार गिराया था। लेकिन वायुसेना के इंट्रीग्रेटेड एयर कमांड एवं कंट्रोल सिस्टम की तरफ से भेजे जा रहे रेडियो संदेश को ना सुन पाने की वजह से वो एफ-16 विमान का पीछा करते हुए पाकिस्तान की सीमा में प्रवेश कर गए।

नहीं सुन पाए थे लौटने का कोड

जांच में सामने आया कि उन्होंने वापस लौटने के लिए 'गो कोल्ड...गो कोल्ड...' कोड यानी 'लौट आओ...लौट आओ' नहीं सुन पाए। इन संदेशों को पाकिस्तानी सेना ने सुन लिया और अभिनंदन तक ये संदेश न पहुंच पाए इसके लिए उन्होंने वो संदेश बाधित कर दिए। जिस वजह से वो पाकिस्तानी वायुसीमा में जा पहुंचे। जहां उनका विमान दुर्घटना का शिकार हो गया था और उन्हें पाकिस्तान सेना ने पकड़ लिया।

'हिन्दुस्तान जिंदाबाद' के नारे से गुंजा था पाकिस्तान

यहां पर उनके साथ बड़ी ही कड़ाई के साथ पेश आया गया, लेकिन विंग कमांडर के सामने उनके नापाक इरादे टिक न सके। यहां तक कि उन्होंने पाकिस्तान के अंदर रहते हुए भी हिन्दुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब उन्होंने पाकिस्तान में प्रवेश किया तो उन्होंने स्थानीय लोगों से पूछा कि ये पाकिस्तान है या हिंदुस्तान, जिस पर स्थानीय लोगों ने हाथों में पत्थर उठा लिए। इस पर उन्हें आभास हुआ कि वो पाकिस्तान में हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा के बीच आई खुशखबरी, कम हुए इतने पेट्रोल-डीजलके रेट

लोगों ने अभिनंदन को पाक सेना को सौंप दिया

जिसके बाद वो वहां से भागने लगे और अपने पीछे आ रहे लोगों को रोकने के लिए कई बार हवा में फायरिंग की। इसके बाद वो पानी से भरे एक तालाब में कूद गए और उन्होंने जेब से कुछ पेपर्स निकाले और उन्हें पानी में भिगोना शुरु कर दिया और कुछ को खाकर नष्ट कर दिया। इस बीच किसी ने उनके पैरों पर चोट की जिसके बाद स्थानीय लोगों ने अभिनंदन को अपने कब्जे में ले लिया। इसके बाद उन लोगों ने अभिनंदन को पाक सेना को सौंप दिया।

पाकिस्तान ने जारी की विंग कमांडर की फोटो

फिर पाकिस्तान से सूचना मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने एक वीडियो शेयर किया, जिसमें विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने भारतीय वायु सेना की वर्दी पहन रखी थी और उनकी आंखों पर पट्टी बंधी थी। लेकिन कुछ देर बाद इस फोटो को हटा दिया गया था। पाकिस्तान की तरफ से एक बयान जारी किया गया था कि पाकिस्तान सेना की हिरासत में केवल एक ही पायलट है, विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान।

लोगों को था अभिनंदन की घर वापसी का इंतजार

यहां पर भारत में सभी अभिनंदन की घर वापसी का इंतजार कर रहे थे। सभी उनकी सलामती की दुआ मांग रहे थे। लेकिन दूसरी ओर पाकिस्तान के कब्जे में होते हुए भी अभिनंदन के चेहरे पर एक भी शिकन की लकीर नहीं थी। भारतीय वायु सेना के बहादुर जवान के तौर पर उन्होंने सारी दुनिया पर अपनी छाप छोड़ी।

आखिरकार पाकिस्तान को माननी पड़ी हार

अंतत: जेनेवा संधि के अन्तर्गत पाकिस्तान को अभिनन्दन वर्तमान को भारत वापस भेजना पड़ा। 1 मार्च, 2019 को पाकिस्तान ने भारतीय समय के अनुसार रात के 9:20 बजे विंग कमांडर अभिनन्दन वर्तमान को भारत-पाकिस्तान सीमा स्थिति वाघा सीमा पर छोड़ दिया। अभिनंदन की घर वापसी से पूरे देश में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। विंग कमांडर अभिनन्दन वर्तमान को उनके साहस, बहादुरी और वीरता के लिए 'वीर चक्र' से सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें: IND vs NZ T20: सेमीफाइनल में पहुंचा भारत, आखिरी गेंद में न्यूजीलैंड को हराया

Shreya

Shreya

Next Story