maharashtra

महाराष्ट्र और राजस्थान के कई जिलों में कोरोना के तेजी से बढ़ते कहर के चलते कर्फ्यू लगा दिया है। ऐसे में राजस्थान सरकार ने सोमवार रात को जोधपुर में धारा 144 लगा दी गई है, जिससे अब एक जगह पर एक साथ पांच से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो पाएगें।

महाराष्ट्र और केरल में देश के 74 प्रतिशथ सक्रिय मरीज हैं। केरल के अलपुझा जिले में एक सप्ताह में संक्रमण दर 10.7 प्रतिशत पहुंच गई है। तो महाराष्ट्र में रविवार को 6,281 नए मामले सामने सामने आए हैं।

चेंबूर, तिलक नगर, मुलुंड जैसे क्षेत्रों में पहले से ही पाबंदिया लागू हैं। मुंबई में 20 फरवरी को कोरोना के 897 नए केस मिले जबकि तीन संक्रमित लोगों की मौत हो गई थी।

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार और जिला प्रशासन एकदम अलर्ट हो गए हैं। ऐसे में महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कई क्षेत्रों में 7 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है।

महाराष्ट्र के कई लोगों का मानना है कि शायद कुछ चुनिंदा जगहों पर लॉकडाउन लागू कर दिया जाए। क्योंकि मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

भारत में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। बीते 28 दिन बाद कोरोना के नए मामलों ने 14 हजार के आंकड़े को पार कर लिया है। ऐसे में अब कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अब एक और बुरी खबर आई है।

महाराष्ट्र में एक बार फिर कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता दिख रहा है। लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने नाईट कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है।

महाराष्ट्र के ठाणे शहर में आग लगने की जानकारी मिल रही है। बताया जा रहा है कि आग ठाणे के पश्चिमी इलाके मानपड़ा में एक गोदाम में आग लग गई है। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं लग पाया है।

फिर से कोरोना के मामले अब महाराष्ट्र में बढ़ रहे हैं। ऐसे में हद से बढ़े मामलों को देखते हुए कोरोना प्रभावित यवतमाल और अमरावती जिले में दोबारा से लॉकडाउन लगाने का ऐलान कर दिया गया है। जिसके चलते जिले में अब 28 फरवरी तक लॉकडाउन लगा रहेगा।

महाराष्ट्र में सोमवार 15 फरवरी को 3365 नए केस सामने आये थे और इसी दिन 23 मौतें हुईं थीं। महाराष्ट्र में रिकवरी दर 95.7 फीसदी है और मृत्यु दर 2.49 फिसदी है।