maharashtra

महाराष्ट्र में जो घटनाक्रम चल रहे है उससे साफ है कि एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस की सरकार बनने अभी और समय लगेगा। लेकिन बीजेपी-शिवसेना गठबंधन की सरकार बनने के रास्ते अब भी खुले हैं।

केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने महाराष्ट्र में गठबंधन की संभावित सरकार को लेकर शिवसेना पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के नापाक गठबंधन का खामियाजा महाराष्ट्र की जनता को भुगतना पड़ेगा।

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले रविवार को संसद भवन की लाइब्रेरी बिल्डिंग में सर्वदलीय बैठक हुई। इसमें सभी दलों के नेता शामिल हुए। इस बैठक को संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने बुलाया था।

महाराष्ट्र की राजनीति को नई दिशा व दशा मिलने की तैयारी शुरू हो गई है। कांग्रेस, एनसीपी व शिवसेना की तिकड़ी सरकार बनाने की तैयारी में जुट गई है। एनसीपी के शरद पवार ने कहा-भी कि महाराष्ट्र में गठबंधन की सरकार बनेगी। और पांच साल साथ में काम भी करेगी।

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए जंग जारी है, लेकिन इस बीच सरकार गठन को लेकर सस्पेंस खत्म होता नजर आ रहा है। महाराष्ट्र में सरकार गठन में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार मुख्य भूमिका में हैं। शरद पवार ने कहा कि सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग गया है। सभी राजनीतिक पार्टियां अभी भी सरकार बनाने की कोशिश कर रही हैं। शिवसेना के साथ एनसीपी-कांग्रेस की बात अब अंतिम दौर में पहुंच गई है। तीनों पार्टियों का कॉमन मिनिमम प्रोग्राम भी तैयार हो चुका है।

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए जंग जारी है, लेकिन इस बीच सरकार गठन को लेकर सस्पेंस खत्म होता नजर आ रहा है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई है, जो भी सरकार बनेगी वह पांच साल तक चलेगी।

वैसे ये रणनीति बीजेपी पहले भी अपना चुकी है और पार्टी इसमें माहिर भी है। बता दें कि कर्नाटक में भी ऐसी ही स्थिति देखने को मिली थी। वहीं, महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले भी कुछ विधायकों ने बीजेपी के साथ जाना सही समझा था।