pm narendra modi

पीएम मोदी ने 8 अप्रैल को कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस घातक वायरस के प्रकोप पर राजनीतिक दलों के साथ मोदी की यह पहली बैठक है जो कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए की जाएगी।

कोरोना वायरस की महामारी के खिलाफ देश इस वक्त एक जंग लड़ रहा है. प्रधानमंत्री ] कोरोना वायरस के खिलाफ मुहिम में जुटे केंद्रीय गृह मंत्रालय की प्रशंसा पीएम मोदी ने की है। पीएम ने ट्वीट किया, गृह मंत्रालय की टीम ने शानदार काम किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वे हमारी रक्षा के लिए 24 घंटे काम करते हैं और देश को कोविड-19 से बचाने में भी योगदान दे रहे हैं।

5 अप्रैल  रविवार  को रात नौ बजे घर की बालकनी में दीया जलाने की पीएम मोदी ने देशवासियों से अपील की है।  पीएम की इस अपील पर सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। एक ओर जहां तमाम लोग इसका समर्थन करते नजर आ रहे हैं

अपने देश में कोरोना स्टेज-3 पर पहुंच रहा है। इसके मरीजों की संख्या न तो रुक रही है और न ही कम हो रही है। लगातार समस्या बढ़ती देख जेल में बंद डॉ. कफील ने पीएम मोदी को रोडमैप सुझाया है...

कोरोना से लड़ाई के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है। पीएम मोदी ने लोगों से अपील की है कि वह घर से बाहर ना निकलें। अगर घर से बाहर निकल रहे हैं तो सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखें। पीएम मोदी की अपील को लोग मान भी रहे हैं। राज्य सरकारें भी सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखने के लिए तमाम उपाय कर रही है।

पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार यानि आज कोरोना वायरस पर जी-20 सम्मेलन में शामिल होंगे। कोरोना संक्रमण की वजह से इस बार ये सम्मेलन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हो रहा है। इसलिए इसे जी-20 वर्चुअल समिट नाम दिया गया है। इस बार जी-20 सम्मेलन के आयोजन का जिम्मा सऊदी अरब के पास है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार रात आठ बजे देशवासियों को संबोधित करने जा रहे हैं। समझा जा रहा है कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय आपदा की इस घड़ी में रोजमर्रा की कमाई पर अपनी जिंदगी बसर करने वाले दिहाड़ी मजदूरों, कामगारों, रेहड़ी लगाने वालों के लिए किसी बड़े पैकेज का एलान कर सकते हैं। पीएम मोदी इस दौरान कोरोना वायरस पर कुछ अहम जानकारियां भी साझा करेंगे।

आगामी 22 मार्च रविवार को 'जनता कर्फ्यू' (Janta Curfew) के तौर पर मनाने की घोषणा की। इसमें लोगों से अपील की गई कि वह सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक अपने घरों में रहे। प्रधानमंत्री की इस अपील के बाद राजधानी लखनऊ में लोग अपने घर पर बैठकर ही अपना काम किया।