state bank of india

अगर आप हैं भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहक तो हो जाए सावधान ये खबर आपके लिए हैं। एक बार फिर SBI ने अपने 42 करोड़ से ज्यादा कस्टमर्स को अलर्ट किया है।

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को लेकर नई खबर आ रही है। SBI आम लोगों को अलग-अलग तरीके से सेविंग्स स्कीम्स (Savings Schemes) मुहैया कराता है।

अगर आप हैं स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के कस्टमर तो हम आपके लिए एक खबर लाएं हैं । SBI अक्टूबर से अपने अहम नियमों में कुछ बदलाव करने वाले हैं।

त्योहार भरे इस महीने में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई लगातार अपने नियमों में बदलाव कर रही है। अब खबर आ रही है कि एसबीआई ने बड़ा बदलाव करते हुए लोन पर सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (MCLR) में कटौती कर की है। साफ शब्दों में कहें तो, होम या ऑटो लोन पर ब्‍याज दर पहले के मुकाबले अब कम हो गया है।

फेस्टिव सीजन चल रहें हैं। बहुत सी ऑटोमोबाइल्स की कंपनियां गाड़ियों पर जम कर छूट देती है। ऐसे में अगर आप कार खरीदने जा रहे हैं तो आपके लिए ये अच्छा मौका है।

आरबीआई ने भी 4 सितंबर को सभी बैंकों को रिटेल, पर्सनल और एमएसएमई लोन को रेपो रेट से जोड़ने के लिए कहा था। कई बैंकों ने इसे जोड़ना भी शुरू कर दिया था। इसमें एसबीआई, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक आदि शामिल है।

अगर आप SBI में नौकरी करना चाहते हैं तो अब देर न करें क्योंकि 6 सितंबर से बैंक आवेदन मांगा रहा है। इसकी आखिरी तिथि 25 सितंबर 2019, जबकि 20 अक्टूबर 2019 को परीक्षा होने की संभावना है।

अगर आप SBI के ग्राहक हैं तो आपके लिए एक बड़ी और अच्छी खबर है। अगर आपको एमर्जेंसी में कभी ज्यादा पैसों की ज़रूरत पड़े तो अब आपको ज्यादा सोचने की ज़रूरत नहीं है तो आप अपने बैंक अकाउंट से निकाल सकते है रुपए। क्योंकि देश का सबसे बड़ा बैंक SBI अपने ग्राहकों को बैंक खाते में बैलेंस से ज्यादा पैसे निकालने की सुविधा देता है।

भारत के सबसे बड़े सरकारी बैंक SB अपने कई सर्विस चार्जेज में कुछ चेंज ला रहा है। SBI अपने ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस के झंझट से आजाद करने की प्लानिंग कर रहा है। इस प्लान के तहत बैंक अकाउंट में मंथली एवरेज बैलेंस (MAB) मेंटेन नहीं कर पाने पर चार्ज में लगभग 80 फीसदी तक की कमी आ जाएगी।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों के लिए एक बड़ा ऐलान किया है। दरअसल, SBI ने MCLR में कटौती की है। बैंक ने अपने एक बयान में कहा है कि सभी अवधि के लिए MCLR में कटौती की गई है।