terrorism

गृह मंत्री ने पिछले पांच वर्षों में आतंकी मॉड्यूल्‍स का खुलासा करने में खुफिया ब्‍यूरो द्वारा किए गए कार्य का विशेष रूप से उल्‍लेख करते हुए वर्षों से पूर्वोत्‍तर विद्रोह से बहुत प्रभावी रूप से निपटने के लिए भी खुफिया ब्‍यूरो की सराहना की।

पाकिस्तान ने इस बार संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को में कश्मीर का मुद्दा तो उठाया ही साथ ही अयोध्या फैसले का मुद्दा भी यूनेस्को में रखा।

आतंकवाद एक ऐसा मुद्दा है जो शायद कभी खत्म नहीं होगा। आए-दिन बताया जाता है यहां आतंकी पकड़ा गया या वहां पकड़ा गया।

भारत में जिन आतंकियों को दिल्ली व जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला करने का जिम्मा सौंपा गया है उनका हैंडलर पाकिस्तानी है। जैश के आतंकी कश्मीर के रास्ते जम्मू कश्मीर व दिल्ली में घुस चुके हैं। खुफिया विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक आईएसआई ने इस बार भारत में आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद को दी है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सूरत में आयोजित एक कार्यक्रम में पाकिस्तान पर जमकर हमला बोला। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान ने अगर आतंकवाद का साथ देना नहीं छोड़ा तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता।

आजमगढ़ की पहचान ऋषियों-मनीषियों की तपोस्थली और विद्वानों-साहित्यकारों की जन्मस्थली से थी, उस आजमगढ़ को आतंकगढ़ और आतंकियों की नर्सरी कहा जाने लगा। अपने ऊपर लगे इस बदनुमा दाग से आजमगढ़ जहां मर्माहत हुआ, वहीं यहां के युवाओं के लिए गैरजनपदों व गैरप्रान्तों में रोजगार के रास्ते भी बन्द हो गये। पूरे देश में यहां के लोगों को शक-संदेह की दृष्टि से देखा जाने लगा।

कश्मीर को लेकर पाक की ओर से लगातार नापाक हरकतों को अंजाम दिया जा रहा है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और उनके मंत्री भी भारत को हर तरह के हमले की धमकी देते रहते हैं। हालांकि, भारत को उसकी धमकियों से फर्क नहीं पड़ता है। ये बात पाक को नहीं समझ आ रही है।

सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि अब तक जम्मू-कश्मीर में 300 से 350 आतंकवादी घुसपैठ करने की कोशिश कर चुका है लेकिन उसे कुछ भी हासिल नहीं हो रहा है। हालांकि, खुफिया इनपुट्स का कहना है कि घाटी में घुसपैठ करने में 40 से 50 पाकिस्तानी आतंकवादी कामयाब भी रहे हैं। यह घुसपैठ पिछले दो हफ्तों में हुई है।

पाक-भारत में भिड़ंत बहुत सालों से चली आ रही है। 90 के दशक में जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद का जिस तरह का माहौल था वो सारी दुनिया के सामने है। लेकिन अब आर्टिकल 370 हटने के बाद पाकिस्तान फिर से जम्मू-कश्मीर में 90 के दशक जैसा माहौल बनाने की साज़िश रच रहा है।

राज्यसभा ने शुक्रवार को किसी व्यक्ति को आतंकवादी घोषित करने तथा आतंकवाद की जांच के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को और अधिकार देने वाले एक महत्वपूर्ण विधेयक को पारित कर दिया।