Terrorist

नाइजीरिया में बहुत भयानक आतंकी घटना हुई है। यहां हुई इस आतंकी घटना में करीब 110 लोगों को मार दिया गया है। मारे जाने वाले लोगों में किसान और मछुआरे शामिल हैं। खूंखार आतंकियों ने लोगों के सिर काट डाले। सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, हमले के पीछे बोको हराम को जिम्मेदार समझा जा रहा है।

नगरोटा मुठभेड़ में मारे गए आतंकी के बाद पाकिस्तान एक बार फिर दुनिया के सामने खुद को बचाने की कोशिश में जुटा हुआ है। एक ओर जहा इस्लामाबाद अपनी छवि बचाने में लगा हुआ है, तो वही दूसरी ओर भारत ने आज पाकिस्तान राजनयिक को नगरोटा एनकाउंटर से जुड़े दस्तावेज सौंपे हैं।

सीमा पर भारतीय सेना पूरी तरह से सतर्क है और आतंकियों की घुसपैठ की हर कोशिश नाकाम कर रही है। इसी कड़ी में सोमवार को बीएसएफ के जवानों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास घुसपैठ कर रहे एक पाकिस्तानी आतंकी को मार गिराया।

एक रिपोर्ट में पुलिस सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सड़क के किनारे पड़े विस्फोटक से एक कार टकरा गई। इसके बाद घटनास्थल पर पहुंचे पुलिसकर्मियों और अर्धसैनिक बलों की बचाव टीम पर आतंकियों ने गोलियां बरसानी शुरू कर दीं।

पकड़े गये आतंकियों के पास से मोबाइल फोन बरामद हुए थे। जिसकी जांच करने पर पुलिस को कई अहम सबूत हाथ लगे थे। मालूम पड़ा कि इन्होंने एक व्हाट्सएप ग्रुप बना रखा था। जिसका नाम उन्होंने जिहाद’ रखा था।

पुलिस ने बताया है कि आतंकी जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले और कुपवाड़ा जिले के रहने वाले हैं। इनकी पहचान अब्दुल लतीफ और कुपवाड़ा जिले के हट मुल्ला गांव के रहने वाले अशरफ खाताना के रूप में हुई है।

तालिबान के हमलों के खिलाफ अफगानी सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन किया था। मंत्रालय ने बताया 20 कमांडर हेलमंद के अलग-अलग इलाकों के थे और 45-100 सदस्यों तक के समूहों का नेतृत्व कर रहे थे जबकि कांधार में करीब 40 तालिबानी कमांडर को मार गिराया गया है।

फ्रांस ने देश की सुरक्षा के लिए सीमा पार सैनिकों की संख्या को बढ़ाकर दोगुना कर रहा है। अब कई जगहों पर चेकिंग करने की तैयारी कर रहा है। ऐसा उन जगहों पर किया जा रहा है जहां लोग बिना रोक टोक आते जाते हैं। फ्रास के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इस बारे में बताया है।

पुलिस ने बताया कि पंपोर के लालपोरा क्षेत्र में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस, सीआरपीएफ और सेना ने मिलकर तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान एक घर में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं।

ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय की तरफ से बताया गया है कि 2014 के बाद से एमक्यू-9 रीपर ड्रोन ने कम से कम 4,107 बार उड़ान भरी है। आईएसआईएस का खूंखार आतंकी मोहम्मद इवाजी(जिहादी जॉन) भी ब्रिटेन हमले में ही मारा गया था। जिहादी जॉन ने बड़ी संख्या में बंधकों का गला काटा था।