गिरी गाज! ये अधिकारी हुए ब्लैक लिस्टेड, देखें लिस्ट

प्राधिकरण मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने शुक्रवार को एक दर्जन कर्मचारियों व अधिकारियों, ठेकेदार कंपनियों को पर सख्त एक्शन लिया है। स्वच्छता अतिक्रमण व अवैध निर्माण पर एक लेखपाल, एक सुपरवाइजर को निलंबित व प्रभारी सुपरवाईजर व अवर अभियंता को निष्कासित कर दिया।

नोएडा: प्राधिकरण मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने शुक्रवार को एक दर्जन कर्मचारियों व अधिकारियों, ठेकेदार कंपनियों को पर सख्त एक्शन लिया है। स्वच्छता अतिक्रमण व अवैध निर्माण पर एक लेखपाल, एक सुपरवाइजर को निलंबित व प्रभारी सुपरवाईजर व अवर अभियंता को निष्कासित कर दिया।

यह भी पढ़ें. पुलिस नहीं जल्लाद है ये, वीडियो देख कांप जायेगी रूह

इसके अलावा तीन अधिकारियों को चेतावनी व चार कर्मचारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि जारी की गई। सीईओ ने ठेकेदार कंपनियों को ब्लैक लिस्ट करते हुए डोर टू डोर कचरा उठाने वाली एजेंसी को कारण बताओ नोटिस जारी किया।

औचक निरीक्षण…

यह भी पढ़ें.  मोदी का मिशन Apple! अब दुनिया चखेगी कश्मीरी सेब का स्वाद

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने विगत 5 नवंबर को शहर के सेक्टरों का औचक निरीक्षण किया। भ्रमण के दौरान शौचालयों की साफ-सफाई, संचालन की स्थिति, सड़कों की स्थिति, नालियों एवं गलियों की साफ-सफाई, स्थायी व अस्थायी अतिक्रमण से सड़कों की स्थिति का जाएगा लिया।

यूपी में 800 से ज्यादा कुर्सियां खाली, कर रही अफसरों का इंतजार

निरीक्षण के दौरान अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी (पी), विशेषाकार्यधिकारी (टी) वरिष्ठ परियोजना अभियन्ता (जन स्वास्थ्य) एवं परियोजना अभियंता (जन स्वास्थ्य-2) भी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें. अयोध्या राम मंदिर! फैसला आने से पहले यूपी में घुसे भगवा आतंकी

मिली खामियां…

सीईओ ने निरीक्षण के दौरान पाया कि टीम के साथ सेक्टर-39,41,48,49,52 ग्राम होशियारपुर, सेक्टर-71,75,122, बरौला, सर्फाबाद, भंगेल, सलारपुर में सफाई कर्मियों की अनुपस्थिति पाई गई।
इसके साथ ही निरीक्षण के दौरान नालों की गंदगी, सड़क किनारे पड़े कूड़े के ढेर व ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध अतिक्रमण पाया गया।

सेक्टरों में सफाई कर्मचारी अनुपस्थित पाए गए, साथ ही कूड़े के निस्तारण में कमियां मिली। इस दौरान मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों से गहरी अप्रसन्नता व्यक्त की।

यह भी पढ़ें.  सावधान दिल्ली वालों! हेल्थ इमरजेंसी घोषित, अब नहीं सुधरे तो भुगतोगे

गांवों में बढ़ रहा अतिक्रमण..

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने सलारपुर व भंगेल में साफ-सफाई, अतिक्रमण एवं अवैध निर्माण का निरीक्षण किया। इन गांवों में कार्यरत सहा प्रबंधक/ अवर अभियंता व लेखपालों ने यहा अवैध अतिक्रमण को रोकने का प्रयास नहीं किया।

इसके साथ न ही इसकी सूचना अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दी। इससे अतिक्रमणकर्ताओं के हौसले बुलंद है। यही वजह है कि बार-बार अभियान चलाने के बाद भी अतिक्रमणकर्ता सड़क पर रेहड़ी पटरी लगाकर जाम का कारण बन रहे हैं।

यह भी पढ़ें.  10 करोड़ की होगी मौत! भारत-पाकिस्तान में अगर हुआ ऐसा, बहुत घातक होंगे अंजाम

नाम, पद व कार्रवाई…

एससी सी मिश्रा वरिष्ठ परियोजना अभियंता(जन स्वास्थ्य) चेतावनी

आरके शर्मा परियोजना अभियंता (जन स्वास्थ्य-2) कठोर चेतावनी

ब्रह्मपाल प्रबंधक/ सहायक परियोजना अभियंता(जन स्वास्थ्य-2) प्रतिकूल प्रविष्टि

गौरव बंसल प्रबंधक/सहायक परियोजना अभियंता (जन स्वास्थ्य-1) चेतावनी

गौपाल कृष्ण शर्मा सफाई निरीक्षक (सेक्टर-41) प्रतिकूल प्रविष्टि

विरेंद्र सिंह सफाई निरीक्षक (सेक्टर-122 एवं सर्फाबाद) प्रतिकूल प्रविष्टि

मुकेश शर्मा सफाई सुपरवाइजर(सेक्टर-122 एवं सर्फाबाद) निलंबित

कुशपाल सिंह सफाई सुपरवाइजर (सेक्टर-41) प्रतिकूल प्रविष्टि

देवदत्त प्रभारी सुपरवाइजर/ सफाईकर्मी (श्रम संविदाकार) सेवा से निष्कासित

विष्णु दयाल अवर अभियंता (श्रमसंविदाकर/ सर्किल-8) सेवा से निष्कासित

निर्देशपाल लेखपाल (भंगेल एवं सलारपुर) निलंबित

इन ठेकेदार कंपनियां को किया ब्लैकलिस्ट…

ग्राम सर्फाबाद , सेक्टर-41,48 एवं सेक्टर-122 में सफाई के कार्य करने वाले संविदाकार कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किया गया। वहीं, डोर टू डोर कचरे उठाने वाली एजेंसी एजी इनवायरों को कारण बताओ नोटिस जारी किया।

औसान कंस्ट्रक्शन को (सर्फाबाद/ सेक्टर-72)

सुमित कंस्ट्रक्शन को (सेक्टर-41)

एसपी गवर्नमेंट एंड सप्लायर (सेक्टर-48)

वरदान्त कंस्ट्रक्शन (सेक्टर-122)

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने कहा…

रितु माहेश्वरी ,मुख्य कार्यपालक अधिकारी, नोएडा प्राधिकरण ने कहा कि भविष्य में इस तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।  इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यदि निरीक्षण के दौरान फिर इस तरह के कार्यो की पुर्नवृत्ति होती है तो इस तरह की विषम कार्रवाई दोबारा की जाएगी।