×

6 फीट लंबे आदमी का Sperm! नहीं हुआ महिला को फायदा, दर्ज कराया मुकदमा

कहानी में ट्विस्ट तब आया जब उसे अपनी प्रेग्नेंसी रिपोर्ट से पता चला कि उसका होने वाला बच्चा 'बौना' होगा, रिपोर्ट में पता चला कि उसके बच्चे को एक अनुवांशिक बीमारी 'एकॉड्रोप्लासिया' है।

Harsh Pandey

Harsh PandeyBy Harsh Pandey

Published on 6 Nov 2019 2:52 PM GMT

6 फीट लंबे आदमी का Sperm! नहीं हुआ महिला को फायदा, दर्ज कराया मुकदमा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

रूस: 40 साल की महिला ने एक अनोखा केस दर्ज कराया है। इस केस के बारे में जिसने भी सुना वह हैरान रह गया। पूरा मामला रूस से है।

बात यह है कि उस महिला ने सोचा कि उसके प्रेग्नेंट होने का आखिरी मौका है, इसलिए उसने एक छ फीट लंबे स्पर्म डोनर से स्पर्म लिया, इस शर्त पर कि उसका होने वाला बच्चा भी इतना ही लंबा-चौड़ा हो और दिखने में भी सुंदर हो, स्पर्म लेने के बाद वह एक सक्सेसफुल आईवीएफ ट्रीटमेंट के बाद वह मां बन गई।

कहानी में ट्विस्ट...

लेकिन लेकिन... कहानी में ट्विस्ट तब आया जब उसे अपनी प्रेग्नेंसी रिपोर्ट से पता चला कि उसका होने वाला बच्चा 'बौना' होगा, रिपोर्ट में पता चला कि उसके बच्चे को एक अनुवांशिक बीमारी 'एकॉड्रोप्लासिया' है।

बताते चलें कि इस बीमारी में हड्डियों की विकास रुक जाता है। इस बीमारी में खासकर मस्तिष्क का आकार बड़ा और अंगुलियां छोटी होती है।

यह भी पढ़ें. चोरी हो गया दिल्ली का ये फुटओवर ब्रिज, है गजब कहानी

यह भी पढ़ें. जहरीली हवा में जी रहे आप, बचने के लिए करें ये उपाय

बच्चे के पैदा होने के बाद डॉक्टरों ने महिला को बताया कि उसका बच्चा 4 फीट से ज्यादा विकास नहीं कर पाएगा। बच्चे के चेहरे और हाथ-पैरों का साइज़ भी छोटा ही रहेगा। इस बात से नाराज महिला ने स्पर्म बैंक के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया। उसका कहना है 'आगे कोई महिला मेरी तरह ना फंसे, इसलिए मैं इस स्पर्म बैंक पर केस कर रही हूं।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक रूस के डिस्ट्रिक कोर्ट ने इस स्पर्म बैंक को बंद करने का ऑर्डर दिया।

यह भी पढ़ें. मोदी का मिशन Apple! अब दुनिया चखेगी कश्मीरी सेब का स्वाद

स्पर्म बैंक ने कहा...

स्पर्म बैंक ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि हमारे स्पर्म डोनर्स 46 कॉमन जेनेटिक बीमारियों के स्क्रीन से गुजरते हैं, इसलिए सभी स्पर्म बढ़िया क्वालिटी के ही होते हैं। वहीं, लोकल मीडियो को डॉक्टरों ने बताया कि यह जरूरी नहीं कि बच्चे में बौनापन स्पर्म की वजह से ही हो।

यह भी पढ़ें. सावधान दिल्ली वालों! हेल्थ इमरजेंसी घोषित, अब नहीं सुधरे तो भुगतोगे

Harsh Pandey

Harsh Pandey

Next Story