जानें अनीता आनंद के बारे में, जो बनीं कनाडियन सरकार की पहली हिंदू मंत्री

बुधवार को कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने अपने नए कैबिनेट के बारे में जानकारी साझा की। कैबिनेट में जो 7 नए लोग शामिल हुए हैं, उनमें भारतीय मूल की अनीता इंदिरा आनंद का भी नाम है।

जानें अनीता आनंद के बारे में, जो बनीं कनाडियन सरकार की पहली हिंदू मंत्री

जानें अनीता आनंद के बारे में, जो बनीं कनाडियन सरकार की पहली हिंदू मंत्री

बुधवार को कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने अपने नए कैबिनेट के बारे में जानकारी साझा की। कैबिनेट में जो 7 नए लोग शामिल हुए हैं, उनमें भारतीय मूल की अनीता इंदिरा आनंद का भी नाम है। अनीता कैबीनेट मंत्री बनने वाली पहली हिंदू हैं। अनीता अकेली भारतीय नहीं हैं, बल्कि जस्टिन के मंत्रीमंडल में तीन और भारतीय-कनाडाई मंत्री भी शामिल हैं। ये तीनों मंत्री पिछली सरकार के भी सदस्य रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें: झारखंड में बोले अमित शाह, अयोध्या में बनेगा आसमान छूने वाला भव्य राम मंदिर

ओंटेरिया प्रांत से चुनी गईं अनीता

अनीता लिबरल पार्टी ऑफ कनाडा के संघीय मंत्री के तौर पर चुनी गई हैं। इसी साल अनीता पिछले महीने हुए कैबिनेट चुनाव में पहली बार ही हाउस ऑफ कॉमन्स के लिए चुनी गई थीं। अनीता का चयन ओंटेरिया प्रांत से किया गया है। घोषणा में अनीता को कैबिनेट में सार्वजनिक सेवा और खरीद मंत्री का पद दिए जाने की जानकारी दी गई। इससे पहले अनीता कनाडाई म्यूजियम ऑफ हिंदू सिविलाइजेशन की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं।

कनाडियन सरकार की कैबिनेट में पहली हिंदू हैं अनीता

अनीता कनाडियन सरकार की कैबिनेट में शामिल होने वाली पहली हिंदू हैं। अनीता का जन्म नोवा स्कोटिया प्रांत के केंटविले शहर में हुआ था। उनके माता-पिता दोनों ही भारतीय हैं। अनीता की मां पंजाब के अमृतसर से ताल्लुक रखती हैं और उनके पिता तमिलनाडु से ताल्लुक रखते हैं। अनीता के माता-पिता दोनों ही डॉक्टर हैं। वहीं अनीता ने टोरंटो यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई की है। अनीता के चार बच्चे भी हैं। अनीता हमेशा से ही कनाडा में रह रहे भारतीय लोगों के साथ जुड़ी रहीं और उनके मुद्दे देखती रहीं। साथ ही उन्होंने सामाजिक सेवा से जुड़कर भी काम किया।

यह भी पढ़ें: इमरान को कड़ी चेतावनी! अपने ही देश में लगाई गई फटकार, भड़के जस्टिस

अनीता ने चर्चित एयर इंडिया फ़्लाइट 182 में हुए आतंकी बम ब्लास्ट की जांच के दौरान जांच आयोग की सहायता करने के लिए उस पर शोध भी किया। बता दें कि, साल 1985 में आयरिश हवाई क्षेत्र में उड़ान के दौरान फ़्लाइट को बम धमाके में उड़ा दिया गया था। इस हादसे में 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। मृत लोगों में भारतीय मूल के कनाडाई नागरिक भी थे।

अनीता को आर्थिक मामलों का काफी ज्ञान

अनीता में कई और खूबियां भी हैं, जिनके चलते वो एक ही बार में चुनाव जीत गईं। अनीता को आर्थिक मामलों का काफी ज्ञान है। खासतौर पर कैपिटल मार्केट, कैपिटल बढ़ाने की तकनीकें और पॉलिसी में उन्होंने महारत हासिल की है। वो मेसी कॉलेज की सीनियर फैलो रह चुकी हैं, साथ ही वो Centre for the Legal Profession में एकेडमिक डायरेक्टर के तौर पर भी काम कर चुकी हैं।

यह भी पढ़ें: विवादित सांसद साध्वी प्रज्ञा रक्षा मंत्रालय की कमेटी में हुईं शामिल

ट्रूडो सरकार महिलाओं और नए लोगों को वरीयता देने वाली सरकार के तौर पर लोकप्रिय है। साल 2015 में भी जब जस्टिन ने लिबरल पार्टी के तौर पर मंत्रिमंडल बनाया था तो उसमें करीब 50 फीसदी महिलाएं शामिल हुई थीं।

ये भी भारतीय-कनाडाई हुए शामिल

जस्टिन कैबिनेट में अनीता के अलावा तीन भारतीय-कनाडाई मंत्री भी शामिल हैं। इनमें Bardish Chagger का नाम शामिल है। ये वाटरलू से दोबारा चुनी गई है और वो minister of diversity and inclusion and youth minister के तौर पर काम करेंगी। वहीं दूसरा नाम है Harjit Sajjan का, ये पहले भी रक्षा मंत्री रहे हैं और इस कैबिनेट में भी ये रक्षा मंत्री के तौर पर ही काम करेंगे। तीसरा नाम है, Navdeep Bains जो इस कैबिनेट में minister of innovation, science and industry के तौर काम करेंगे।

यह भी पढ़ें: यूपी बीजेपी के संगठन चुनाव हुए संपन्न