धरती में खतरनाक बदलाव: इस तरह जिंदगियां होंगी प्रभावित, NASA की कड़ी चेतावनी

धरती की चुंबकीय शक्ति इतनी कमजोर हो गई है कि अगर इस इलाके के ऊपर से विमान गुजरता है तो उससे संपर्क स्थापित करने में परेशानी हो सकती है।

vast growing anamoly in Earth's magnetic field

vast growing anamoly in Earth's magnetic field

नई दिल्ली: धरती के मैग्नेटिक फील्ड (Earth Magnetic Field) में कुछ बेहद खतरनाक बदलाव हो रहे हैं, जिसे लेकर चेतावनी दी गई है। बताया जा रहा है कि जमीन के एक बड़े हिस्से में धरती की चुंबकीय शक्ति (Magnetic Force) कमजोर हो चुकी है। धरती की चुंबकीय शक्ति इतनी कमजोर हो गई है कि अगर इस इलाके के ऊपर से विमान गुजरता है तो उससे संपर्क स्थापित करने में परेशानी हो सकती है। तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर क्या है ये समस्या और यह कैसे आई है?

यह भी पढ़ें: Gold में भारी गिरावट: रेट जान आ जाएगी चेहरे पर स्माइल, जानें आज का भाव

दस हजार किलोमीटर के हिस्से में कमजोर हुई चुंबकीय शक्ति

धरती के एक बहुत बड़े हिस्से में चुंबकीय शक्ति कमजोर हो चुकी है। जिस हिस्से में चुंबकीय शक्ति कमजोर हुई है, वह दस हजार किलोमीटर तक फैला हुआ है। इस इलाके के तीन हजार किलोमीटर नीचे धरती के आउटर कोर तक चुंबकीय क्षेत्र की ताकत कमजोर हो चुकी है। अफ्रीका से लेकर दक्षिण अमेरिका तक की दूरी में धरती के अंदर मैग्नेटिक फील्ड की शक्ति कम हो गई है।

यह भी पढ़ें: भयानक सड़क हादसा: 4 लोगों की दर्दनाक मौत, परिवार में मचा कोहराम

anomaly

कम हुई मैग्नेटिक फील्ड की शक्ति

सामान्य तौर पर इसे 32 हजार नैनोटेस्ला होनी चाहिए थी, लेकिन पिछले 50 सालों में यह घटकर 24 हजार से 22 हजार नैनोटेस्ला तक हो गई है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने यह जानकारी शेयर की है। धरती की चुंबकीय शक्ति इतनी कमजोर हो गई है कि अगर इस इलाके के ऊपर से विमान गुजरता है तो उससे संपर्क स्थापित करने में परेशानी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: ऐसे बनाए संबंध: पीरियड्स का समय रहेगा बेस्ट, ये बातें जान आप भी हो जायेंगे हैरान

नौ फीसदी की कम हुई चुंबकीय शक्ति

वैज्ञानिकों ने बताया कि पिछले 200 सालों में धरती की चुंबकीय शक्ति में तकरीबन नौ फीसदी की कमी आई है। लेकिन अफ्रीका से दक्षिण अमेरिका तक चुंबकीय शक्ति में काफी कमी आई है। साइंटिस्ट की भाषा में इसे साउथ अटलांटिक एनोमली (South Atlantic Anomaly) कहा जाता है। अफ्रीका से दक्षिण अमेरिका तक चुंबकीय फील्ड में आई कमी की वजह से उस इलाके के ऊपर चुंबकीय सुरक्षा लेयर कमजोर हो गई है।

यह भी पढ़ें: दहला जम्मू कश्मीर: सेना लगातार ढेर कर रही आतंकियों को, मुठभेड़ अभी भी जारी

Anomaly in earth magnetic field

अंतरिक्ष से आने वाली रेडिएशन का ज्यादा होगा असर

चुंबकीय सुरक्षा लेयर कमजोर होने का मतलब है कि इस इलाके में अंतरिक्ष से आने वाली रेडिएशन का असर ज्यादा हो सकता है। जर्मन रिसर्च सेंटर शोधकर्ता जर्गेन मात्ज्का के मुताबिक, बीते कुछ दशकों में अफ्रीका से दक्षिण अमेरिका तक के इलाके में चुंबकीय शक्ति तेजी से कम होती जा रही है। जर्गेन ने बताया कि अब हमें यह पता करना होगा कि धरती के केंद्र में हो रहे बदलावों से कितना बड़ा बदलाव आएगा।

जर्मन रिसर्च सेंटर शोधकर्ता जर्गेन मात्ज्का के मुताबिक, अब यह पता लगाना होगा कि क्या इससे धरती पर कोई बड़ी आपदा आने वाली है। आमतौर पर धरती की चुंबकीय शक्ति 2.50 लाख साल में बदलती है। लेकिन अभी इसमें काफी साल बाकी है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1398 नए मामले आए सामने, 9 लोगों की मौत

Earth Magnetic Field

क्यों जरूरी है धरती की चुंबकीय शक्ति?

धरती की चुंबकीय शक्ति हम सभी की स्पेस से आने वाली रेडिएशन से बचाव करती है। चुंबकीय शक्ति के द्वारा ही सैटेलाइट, मोबाइल, चैनल जैसी सभी तरह की संचार प्रणालियां काम कर रही हैं।

कैसे पैदा होती है धरती की मैग्नेटिक फील्ड?

धरती की सतह से करीब तीन हजार किलोमीटर नीचे गर्म लोहे का बहता हुआ समंदर होता है। यह घूमता रहता है। इसके घूमने से अर्थ के अंदर इलेक्ट्रिकल करंट बनता है जो ऊपर आते-आते इलेक्ट्रोमैंग्नेटिक फील्ड में कनवर्ट यानी बदल जाता है।

यह भी पढ़ें: सुशांत केस: महाराष्ट्र सरकार का बड़ा बयान, कहा ‘इसमें हार-जीत जैसा कुछ नहीं’

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App