चीन के साथ पाक भी चल रहा शातिर चाल, पीओके में रच रहा खतरनाक साजिश

र्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं की जबर्दस्त मोर्चेबंदी के बीच पाकिस्तान की सीमा भी भारत के लिए बड़ा सिरदर्द बन सकती है। एक और लद्दाख में…

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं की जबर्दस्त मोर्चेबंदी के बीच पाकिस्तान की सीमा भी भारत के लिए बड़ा सिरदर्द बन सकती है। एक और लद्दाख में भारत और चीन के बीच भारी तनाव बना हुआ है तो दूसरी ओर पाकिस्तान की सेना भी भारत के खिलाफ साजिश रचने में जुटी हुई है। पाक सेना की ओर से नियंत्रण रेखा से सटे क्षेत्रों में ऑपरेशनल तैयारियां तेज कर दी गई हैं।

ये भी पढ़ें: रोजगार को बढ़ावा देने के लिए सांसद की अधिकारियों के साथ बैठक, दिया ये आदेश

इसके साथ ही पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के अस्पतालों में पाकिस्तानी सेना के लिए 50 फ़ीसदी बेड सुरक्षित रखने का निर्देश दिया गया है। पाकिस्तानी वायुसेना के तीन एयरवेज को भी अलर्ट पर रखा गया है। जानकारों का कहना है कि पाकिस्तानी सेना की ये तैयारियां भारत विरोधी साजिश की ओर ही इशारा कर रही हैं।

चीन ने पाक के साथ मिलकर बनाई रणनीति

जानकार सूत्रों का कहना है कि चीन ने पाकिस्तान के साथ मिलकर पूरी रणनीति तैयार करके वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत के साथ टकराव का रास्ता अख्तियार किया है। भारत और चीन के बीच एलएसी पर टकराव की शुरुआत पिछले महीने की 5 मई को हुई थी और उसी दौरान चीनी सेना के अधिकारियों के एक दल ने पीओके का दौरा भी किया था। दल में शामिल अफसर करीब 10- 12 दिनों तक पीओके में रहे और उन्होंने अग्रिम चौकियों के साथ ही कुछ आतंकी शिविरों का भी दौरा किया था। चीनी सेना के अधिकारियों के इस दौरे के दौरान पीओके में इंटरनेट की सेवाएं भी बंद कर दी गई थीं। मई और जून के दौरान इन इलाकों से ही भारतीय ठिकानों पर गोलीबारी की घटनाएं हो रही हैं।

ये भी पढ़ें: DM ने किया निर्माणाधीन कोरोना लैब का निरीक्षण, दिए ये निर्देश

पीओके में 50 फ़ीसदी बेड सेना के लिए आरक्षित

इस बीच पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने पीओके के अस्पतालों में 50 फीसदी बेड पाकिस्तानी सेना के लिए आरक्षित रखने का निर्देश दिया है। उन्होंने इस संबंध में पीओके के स्वास्थ्य मंत्री मोहम्मद नजीब नकी खान को चिट्ठी लिखी है। उन्होंने पत्र में यह भी लिखा है कि ब्लड बैंक की व्यवस्था को भी पूरी तरह मुस्तैद रखा जाए।

ये भी पढ़ें: DM ने किया निर्माणाधीन कोरोना लैब का निरीक्षण, दिए ये निर्देश

सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तानी वायुसेना के 3 बड़े एयरबेस को भी अलर्ट पर रहने को कहा गया है। चीनी अधिकारियों ने इन तीनों एयरबेस का भी दौरा किया था। हाल के दिनों में इन तीनों एयरबेस से पाकिस्तानी सेना के कई लड़ाकू विमानों ने उड़ान भरी है। सूत्रों के मुताबिक पिछले कई महीनों से पाकिस्तानी सेना ने अपनी ऑपरेशनल कोर को सक्रिय कर रखा है। पाकिस्तानी सेना की इन गतिविधियों से माना जा रहा है कि पाक सेना अपनी ओर से तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटी हुई है।

इस कारण बढ़ीं पाक सेना की गतिविधियां

रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तानी सेना की बढ़ रही गतिविधियों के दो मतलब निकाले जा सकते हैं। पहला यह कि पाकिस्तान इस आशंका से डरा हुआ है कि भारत किसी भी समय पीओके को मुक्त कराने के लिए हमले की कार्रवाई कर सकता है या फिर भारत की ओर से पीओके में चल रहे आतंकी शिविरों को निशाना बनाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें: चीनी खुफिया एजेंसी और कांग्रेस के फाउंडेशन में गठजोड़ का आरोप, BJP लाई सबूत

पाकिस्तानी सेना की तैयारियों का दूसरा मतलब यह हो सकता है कि वह लद्दाख में भारत और चीन के बीच पैदा हुए तनाव का फायदा उठाने की कोशिश में जुटी हुई है। पाकिस्तान में चीन का प्रभुत्व काफी बढ़ चुका है और पाकिस्तान की सेना चीन के इशारे पर कुछ भी करने के लिए तैयार है। ऐसे में भारत से तनाव बढ़ने पर चीन पीओके में स्थित एयरबेस का फायदा उठाने की कोशिश करेगा।

भारतीय सेना मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार

वैसे भारतीय सेना न केवल चीन बल्कि पाकिस्तान की सेना को भी मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है। पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन की गतिविधियों पर सतर्क नजर रखने के साथ ही पीओके में पाक सेना की बढ़ रही गतिविधियों पर भी पैनी निगाह रखी जा रही है। पाकिस्तानी सेना के मंसूबों को नाकाम करने के लिए भारतीय सेना की ओर से भी पूरी तैयारी है। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवने ने हाल में लद्दाख के हालात का जायजा लेने के दौरान पाकिस्तानी सेना की गतिविधियों पर भी सैन्य अधिकारियों से चर्चा की थी। भारतीय सेना चीन के साथ ही पाकिस्तान को भी करारा जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है।

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश की सियासत में घुसा चीन, भाजपा ने बोला कमलनाथ पर बड़ा हमला