वैक्सीन का बड़ा खुलासा: केवल इतनों पर हुई टेस्ट, दिखे साइड इफेक्ट

जिस कोरोना वैक्सीन के सफल होने का एलान राष्ट्रपति पुतिन ने किया था, उसकी जांच केवल 38 लोगों पर ही की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स में रूस के आधिकारिक दस्तावेजों के हवाले से यह खुलासा किया गया है।

Corona Vaccine

Corona Vaccine

नई दिल्ली: पूरी दुनिया कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रही है। इस बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना लेने का दावा कर दुनिया को एक नई उम्मीद दी है। लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि जिस कोरोना वैक्सीन के सफल होने का एलान राष्ट्रपति पुतिन ने किया था, उसकी जांच केवल 38 लोगों पर ही की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स में रूस के आधिकारिक दस्तावेजों के हवाले से यह खुलासा किया गया है।

यह भी पढ़ें: कांप रहे अपराधी: अब पुलिस के हाथ लगी बड़ी कामयाबी, ताबड़तोड़ एक्शन जारी

वैक्सीन के कई साइड इफेक्ट्स

इसके अलावा इस वैक्सीन के कई साइड इफेक्ट्स होने की भी बात कही जा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, वैक्सीन को केवल 38 लोगों पर ही जांच करने के बाद मंजूरी दे दी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, रूस की वैक्सीन के साइड इफेक्ट के तौर पर दर्द, स्वेलिंग, हाई फीवर की शिकायत देखने को मिली है। इसके अलावा एनर्जी की कमी, कमजोरी महसूस होना, सिर दर्द, नाक बंद होना, गला खराब होना, नाक बहने और भूख ना लगने जैसी शिकायतें भी दर्ज की गई हैं।

यह भी पढ़ें: प्रणब मुखर्जी की हालत नाजुक, जारी हुआ हेल्थ अपडेट, जानें कैसी है तबीयत

covid vaccine

42 दिन के रिसर्च के बाद ही वैक्सीन को मिली मंजूरी

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रूसी अधिकारियों ने केवल 42 दिन के रिसर्च के बाद ही वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। जिसके चलते यह नहीं पता लग सका है कि वैक्सीन कितनी अधिक प्रभावशाली है। कोरोना वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के लिए जो डॉक्यूमेंट्स दिए गए थे, उनमें इस बात का जिक्र था कि कोरोना पर वैक्सीन के प्रभाव को लेकर किसी तरह की क्लिनिकल स्टडी नहीं हुई है। हालांकि राष्ट्रपति पुतिन का दावा है कि वैक्सीन ‌सभी सुरक्षा मानकों पर खरी उतरी है।

यह भी पढ़ें: स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां: विधानसभा पर तिरंगा पट्टी लगाते कारीगर, देखें तस्वीरें

Russia Corona Virus Vaccine

पुतिन की बेटी को भी दी गई वैक्सीन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का दावा है कि यह वैक्सीन कोरोना से लड़ने में कारगर और सुरक्षित है। साथ ही शरीर में बेहतर इम्युनिटी भी तैयार करती है। यहीं नहीं उनका कहना है कि उनकी बेटी को भी यह वैक्सीन लगी है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखा। उन्हें थोड़ा बुखार आया, लेकिन बाद मे यह ठीक हो गया और वह बिल्कुल स्वस्थ हैं। साथ ही उनके शरीर में एंटीबॉडीज का स्तर भी अधिक दिखा।

यह भी पढ़ें: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी: मथुरा में पहली बार होगा ऐसा, पवित्र जल से होगा अभिषेक

रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन को दी मंजूरी

वैज्ञानिकों को सता रहा इस बात का डर

राष्ट्रपति पुतिन का दावा है कि वैक्सीन ‌सभी सुरक्षा मानकों पर खरी उतरी है और जल्दी बड़ी संख्या में इसका उत्पादन किया जाएगा। वहीं, दुनिया के 20 से अधिक देशों ने इस रूसी वैक्सीन की करोड़ों डोज की मांग की है। फिलीपींस के राष्ट्रपति ने इस वैक्सीन को लगवाने की घोषणा तक कर दी है। हालांकि कई वैज्ञानिकों ने रूस के कदम की कड़ी आलोचना की है। वैज्ञानिकों को डर सता रहा है कि कि वैक्सीन गलत या खतरनाक साबित होने पर महामारी और विकराल रूप ले सकती है।

यह भी पढ़ें: दुनिया के ये दानवीर: कोरोना काल में अरबो डॉलर किए दान, जानिए इनके बारे में

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App