×

तिब्बत के मुद्दे पर अमेरिका और चीन में तनातनी बढ़ी, ड्रैगन ने भी किया ये एलान

अमेरिका और चीन के बीच विभिन्न मुद्दों पर लगातार बढ़ रही तनातनी में अब एक नया मुद्दा तिब्बत का जुड़ गया है। हांगकांग के बाद तिब्बत में मानवाधिकारों के...

Newstrack
Updated on: 8 July 2020 6:06 PM GMT
तिब्बत के मुद्दे पर अमेरिका और चीन में तनातनी बढ़ी, ड्रैगन ने भी किया ये एलान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: अमेरिका और चीन के बीच विभिन्न मुद्दों पर लगातार बढ़ रही तनातनी में अब एक नया मुद्दा तिब्बत का जुड़ गया है। हांगकांग के बाद तिब्बत में मानवाधिकारों के उल्लंघन को लेकर दोनों देशों के बीच तनातनी काफी बढ़ गई है। अमेरिका ने तिब्बत में मानवाधिकार उल्लंघन का आरोप लगाते हुए चीन के अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके जवाब में चीन ने भी अमेरिका को कड़ी चेतावनी दी है। चीन ने कहा है कि तिब्बत को लेकर अमेरिका का व्यवहार पूरी तरह अहंकारी है और इस अहंकारी व्यवहार के खिलाफ चीन अमेरिकी नागरिकों के वीजा पर बैन लगाएगा।

ये भी पढ़ें: बॉलीवुड ने खो दिया ‘सूरमा भोपाली’, एक्टर जगदीप का मुंबई में निधन

अमेरिकी नागरिकों के वीजा पर बैन

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने अमेरिकी रुख पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए अमेरिकी नागरिकों के वीजा पर बैन लगाने का एलान किया। उन्होंने कहा कि चीन किसी भी सूरत में तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में किसी विदेशी ताकत को हस्तक्षेप की इजाजत नहीं देगा। तिब्बत की सीमाएं भारत से लगी हुई हैं और यह इलाका दुनिया में सबसे ज्यादा प्रतिबंधित और सेंसर्ड क्षेत्र माना जाता रहा है।

चीन ने पर तिब्बत में पहले ही विदेशियों के आने पर प्रतिबंध लगा रखा है। यह प्रतिबंध केवल अमेरिका पर ही नहीं बल्कि खास तौर पर राजनयिकों और पत्रकारों पर लगाया गया है। चीन की ओर से सीमित संख्या में विदेशी पर्यटकों को ही तिब्बत में आने की अनुमति है और आने वालों के साथ हमेशा चीनी सरकार के प्रतिनिधि लगे रहते हैं।

ये भी पढ़ें: आ रहे ये पॉपुलर ब्रांड के स्मार्टफोन, जानें फीचर्स और नाम..

अमेरिका के फैसले पर कड़ी आपत्ति

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका की तरफ से उठाए गए कदमों पर चीन को कड़ी आपत्ति है। प्रवक्ता झाओ ने कहा कि अमेरिका की तरफ से गलत कदम उठाए गए हैं और अमेरिकी कार्रवाई का जवाब देने के लिए चीन ने भी अमेरिकी लोगों के वीजा पर बैन लगाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि चीन को अमेरिका की कार्रवाई स्वीकार नहीं है क्योंकि यह गलत तथ्यों के आधार पर की गई है और अमेरिका सबको दिग्भ्रमित करने की कोशिश कर रहा है।

ये भी पढ़ें: ऐसा चाइल्ड प्रूफ होम, बच्चे के लिए बनेगा सुरक्षा कवच, जानें कैसे

अमेरिका ने भी लगाया था बैन

इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने तिब्बत में चीनी सरकार की तरफ से मानवाधिकारों के उल्लंघन का गंभीर आरोप लगाया था। उनका कहना था कि चीन की ओर से तिब्बत में तमाम तरीके की बंदिशें लागू की गई हैं और वहां मानवाधिकारों का हनन किया जा रहा है। उन्होंने इस मुद्दे पर चीनी अधिकारियों के वीजा पर रोक लगाने का भी एलान किया था। उनका कहना था कि चीन की ओर से अमेरिकी राजनयिकों, पत्रकारों और पर्यटकों को यात्रा करने से रोका जाता है और इसलिए अमेरिका भी चीन के खिलाफ कदम उठाएगा।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी सभी चैनलों को पुलिस ने घेरा, टीवी पर LIVE सरेंडर की फिराक में विकास दुबे

हांगकांग के मुद्दे पर भी दोनों देशों में टकराव

तिब्बत के मुद्दे से पहले हांगकांग के मुद्दे पर भी दोनों देशों में जबर्दस्त टकराव हो चुका है। अमेरिका ने आरोप लगाया था हांगकांग में सख्त सुरक्षा कानून लागू करने के बहाने हांगकांग के लोगों की आवाज दबाने की साजिश रची गई है। अमेरिका ने हांगकांग के मुद्दे पर भी चीन के खिलाफ तमाम प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी। दरअसल कोरोना का संक्रमण फैलने के बाद से ही दोनों देशों के बीच लगातार तनातनी बढ़ती जा रही है। कोरोना का संक्रमण फैलने के बाद अमेरिका ने इसके लिए चीन को जिम्मेदार बताया था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समय-समय पर आरोप लगाते रहे हैं कि चीन ने इस वायरस के संबंध में पूरी दुनिया को अंधेरे में रखा जिस कारण पूरी दुनिया इस वायरस के संकट में फंस गई।

ये भी पढ़ें: कांग्रेस ने मांगा CM योगी का इस्तीफा, कहा- इन तक जुड़े कानपुर एनकाउंटर के तार…

Newstrack

Newstrack

Next Story