×

खबरदार: चमगादड़ से ही नहीं इस जानवर से भी फैला कोरोना!

भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार कारणों का पता लगाया तो अब मॉलिक्युलर बायोलॉजी एंड इवोल्यूशन ने भी नया...

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 16 April 2020 3:18 AM GMT

खबरदार: चमगादड़ से ही नहीं इस जानवर से भी फैला कोरोना!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार कारणों का पता लगाया तो अब मॉलिक्युलर बायोलॉजी एंड इवोल्यूशन ने भी नया खुलासा किया है। अगर यह नई रिसर्च पुख्ता हुई तो पूरी दुनिया ही खतरे में आ जाएगी। यूनिवर्सिटी ऑफ ओटावा (कनाडा) के प्रोफेसर शुहुआ शिआ ने अपनी रिसर्च पेपर में दावा किया है कि कोरोना वायरस चमगादड़ ही नहीं कुत्तों से भी फैल सकता है।

ये पढ़ें: Live: देश में 170 जिले कोरोना हॉटस्पॉट बने, 1344 संक्रमित मरीज़ अबतक हुए ठीक

आवारा को कुत्तों से भी फैलने की आशंका

प्रोफेसर शुहुआ शिआ ने कहा है कि कोरोना वायरस पालतू कुत्तों की अपेक्षा आवारा कुत्तों से फैलने की संभावना अधिक है। प्रोफेसर शुहुआ की इस खोज से पूरी दुनिया में खलबली मच गयी है। सभी जानते हैं कि मनुष्यों के सबसे नजदीक रहने वाले जीवों में कुत्ते भी हैं। अगर प्रोफेसर शुहुआ की बात सत्य हुई तो संकट और भी ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

ये पढ़ें: मौलाना साद के ससुराल में पहुंचा कोरोना, दो सालों की रिपोर्ट पॉजिटिव, पूरा इलाका सील

चमगादड़ों से वायरस फैलने की कम संभावना

कोरोना वायरस पर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने कहा है कि कोरोना वायरस के फैलने का मुख्य कारण चमगादड़ों का होना हजार या दो हजार साल में एक बार होने वाली दुर्लभ घटना है। चमगादड़ दो तरह के होते हैं। उनमें कोरोना वायरस पाया तो जाता है, लेकिन वह चमगादड़ का ही वायरस है। इसलिए उसका इंसान में आना संभव नहीं है। अगर आ भी सकता है तो हजार साल में एकाध बार होता होगा। आईसीएमआर के प्रवक्ता ने कहा, ‘कोरोना वायरस चमगादड़ों के अंदर भी पाया जाता है। चीन में हुए रिसर्च से पता चला है कि चमगादड़ से सीधे इंसान में आया होगा या फिर पेंगुलीन नामक जानवर से इंसान में आया होगा।’

ये पढ़ें: 21 अप्रैल को छूट पर फैसला लेंगे CM भूपेश बघेल, कहा- किसी को नहीं सोने देंगे भूखा

वैज्ञानिक अभी कोरोना के कारण का पता लगाने में...

आईसीएमआर के प्रवक्ता ने बताया कि चमगादड़ के वायरस का ऐसा म्यूटेशन विकसित हुआ कि उसको इंसानों के अंदर प्रसारित होने क्षमता मिल गई। वह ऐसा विषाणु बन गया होगा, जो इंसानों में आकर बीमार करने में सक्षम हो गया।फिलहाल, दुनिया भर में वैज्ञानिक उन प्रजातियों का पता लगाने में जुटे हैं, जिनसे मूल रूप से कोरोना वायरस निकलकर इंसानों तक पहुंचा है।

ये भी पढ़ें: 21 अप्रैल को छूट पर फैसला लेंगे CM भूपेश बघेल, कहा- किसी को नहीं सोने देंगे भूखा

UP: सचिव स्तर के सभी अधिकारियों को दफ्तर आने का आदेश

लाॅकडाउन: वृद्ध महिला की अर्थी को पुलिसकर्मियों ने दिया कंधा, हो रही तारीफ

कोरोना सर्वाइवर ने बताई ये अहम बात, संक्रमण से लड़ने में आयेगी काम

Ashiki

Ashiki

Next Story