×

Budget Session: आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 संसद में पेश, लोकसभा की कार्यवाही 1 फरवरी तक स्थगित

भारी हंगामे के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 को लोकसभा में पेश किया। इसके बाद सदन की कार्यवाही एक फरवरी सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। एक फरवरी को देश का 2021-22 का आम बजट पेश होगा।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 29 Jan 2021 5:36 AM GMT

Budget Session: आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 संसद में पेश, लोकसभा की कार्यवाही 1 फरवरी तक स्थगित
X
Budget Session LIVE: थोड़ी देर में राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ शुरू होगा बजट सत्र
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: बजट सत्र की शुरूआत आज से हो रही है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करने के साथ बजट सत्र की शुरुआत की। भारी हंगामे के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 को लोकसभा में पेश किया। इसके बाद सदन की कार्यवाही एक फरवरी सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। एक फरवरी को देश का 2021-22 का आम बजट पेश होगा।

राहुल गांधी समेत कांग्रेसी सांसदों का संसद परिसर में धरना

कांग्रेस समेत 19 विपक्षी दलों ने आज राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार किया। कृषि कानूनों की वापसी को लेकर राहुल गांधी के साथ कांग्रेस पार्टी के अन्य सांसदों ने संसद परिसर में महात्मा गांधी की स्टैचू पर धरना प्रदर्शन किया।

ये भी देखें: टिकैत समर्थक बोले- पुलिस ने पानी बंद किया, हम पूरे गाजियाबाद को पानी से भर देंगे

राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार उनका अपमान करना नहीं : अधीर रंजन चौधरी

राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार उनका अपमान करना नहीं है। हम किसानों के साथ खड़े हैं और कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करने की यह सबसे बड़ी वजह है। हम अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस में हिस्सा लेंगे :कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी

लोकसभा की कार्यवाही 1 फरवरी सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित

बजट सत्र के पहले दिन भारी हंगामे के बीच आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 की रिपोर्ट सदन के पटल पर रखे जाने के बाद लोकसभा की कार्यवाही एक फरवरी सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित। एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पेश करेंगी 2021-22 का आम बजट।

nirmala sitaraman

हंगामे के बीच आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 रपट पेश

बजट सत्र के पहले दिन भारी हंगामे के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सर्वेक्षण 2020-21 की रपट लोकसभा के पटल पर रखी। इसी के साथ सदन के पटल पर अन्य प्रतिवेदन भी रखे गए।

ये भी देखें:बजट सत्र: PM मोदी बोले- आजादी के दीवानों के सपने पूरे करने का अवसर

बजट सत्र के पहले दिन लोकसभा की कार्यवाही शुरू

राष्ट्रपति का अभिभाषण समाप्त होने के बाद लोकसभा की कार्यवाही शुरू हुई। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला दिवंगत सदस्यों के बारे में बता रहे हैं।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू संसद से अपने गंतव्य की ओर रवाना

बजट सत्र की शुरुआत पर राष्ट्रपति के अभिभाषण का समापन होने के बाद उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू संसद भवन से अपने गंतव्य की ओर रवाना हो रहे हैं।

अभिभाषण खत्म होने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का संसद से प्रस्थान

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपना अभिभाषण समाप्त कर अब संसद के केंद्रीय कक्ष से बाहर निकल रहे हैं। अब वह राष्ट्रपति भवन की ओर प्रस्थान करेंगे। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू,लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें संसद के द्वार तक छोड़ने आए हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जा रहा है।

रवीन्द्रनाथ टैगोर के बड़े भाई की रचना के साथ राष्ट्रपति के अभिभाषण का समापन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर के बड़े भाई ज्योतिरीन्द्रनाथ टैगोर के ओजस्वी गीत के साथ अपने अभिभाषण का समापन किया। उन्होंने गीत की पंक्तियां, ‘चॉल रे चॉल शॉबे, भारोत शन्तान, मातृभूमी कॉरे आह्वान, बीर-ओ दॉरपे, पौरुष गॉरबे, शाध रे शाध शॉबे, देशेर कल्यान’ पढ़ीं। इसके बाद उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने उनके अभिभाषण के कुछ अंशों का अंग्रेजी अनुवाद पढ़ना शुरू किया।

ये भी देखें: क्या अब किसानों के सबसे बड़े नेता राकेश टिकैत हैं, जाने क्यों इनका नाम ऊपर आ रहा

अभिभाषण में जम्मू-कश्मीर के जिक्र पर संसद में गूंजी तालियां

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने अभिभाषण के दौरान जब जम्मू-कश्मीर में आजादी के बाद पहली बार हुए जिला परिषद के चुनावों की सफलता का जिक्र किया जो सदन में लंबे समय तक तालियों की गड़गड़ाहट सुनाई दी।

ram mandir

राम मंदिर निर्माण शुरू होने का मेजें थपथपाकर अभिवादन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद में अपने अभिभाषण के दौरान जब कहा कि पिछले कुछ वर्षों में देश ने अनेक ऐसे काम कर दिखाए हैं जिनको कभी बहुत कठिन माना जाता था। अनुच्छेद-370 के प्रावधानों के हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के लोगों को नए अधिकार मिले हैं। उच्चतम न्यायालय के फैसले के उपरांत भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है। तब उपस्थित सांसदों ने काफी देर तक मेजे थपथपाकर अभिवादन किया।

राष्ट्रपति ने कहा कि भारत GDP की Emissions Intensity को वर्ष 2005 की तुलना में 2030 तक 33 से 35 प्रतिशत तक कम करने के लक्ष्‍य पर काम कर रहा है। पेरिस समझौते को लागू करने में भारत दुनिया के अग्रणी देशों में शामिल है। हाल ही में, कच्छ के रेगिस्तान में, दुनिया का सबसे बड़ा Hybrid Renewable Energy Park बनाने का काम शुरु हुआ है। पिछले 6 वर्षों में भारत की नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता में ढाई गुना वृद्धि हुई है, जबकि सौर उर्जा क्षमता 13 गुना बढ़ी है।

ये भी देखें: जानिए कौन हैं कुलभूषण जाधव, जिनके नाम पर पाकिस्तान बार-बार बोलता आया है झूठ

राष्ट्रपति ने कहा कि रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता पर भी सरकार का जोर है। कुछ दिन पहले ही सरकार ने HAL को 83 स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के निर्माण का ऑर्डर दिया है। हमें गर्व है कि ISRO के वैज्ञानिक चंद्रयान-3, गगनयान, और Small Satellite Launch Vehicle जैसे महत्वपूर्ण अभियानों पर काम कर रहे हैं। कुछ महीने पहले काकरापार में देश के पहले स्वदेशी pressurized heavy water reactor का सफल परीक्षण किया गया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे स्वाधीनता संग्राम के दौरान देशभक्ति के अमर गीतों की रचना करने वाले मलयालम के श्रेष्ठ कवि वल्लथोल ने कहा है:

भारतम् ऐन्ना पेरू केट्टाल

अभिमाना पूरिदम् आगनम् अंतरंगम्।

अर्थात,

जब भी आप भारत का नाम सुनें, आपका हृदय गर्व से भर जाना चाहिए।

राष्ट्रपति ने कहा कि जून 2020 में हमारे 20 जवानों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए गलवान घाटी में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। हर देशवासी इन शहीदों का कृतज्ञ है। मेरी सरकार, देश के हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह कटिबद्ध है और सतर्क भी है। LAC पर भारत की संप्रभुता की रक्षा के लिए अतिरिक्त सैन्यबलों की तैनाती भी की गई है।

देश को मिला अटल टनल

राष्ट्रपति ने कहा कि कुछ दिन पहले ही पूर्वी और पश्चिमी डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के सेक्शंस, देश को समर्पित किए गए हैं। ये फ्रेट कॉरिडोर पूर्वी भारत में औद्योगीकरण को प्रोत्साहन देने के साथ ही रेल यात्रा में होने वाली अनावश्यक देरी को भी कम करेंगे।

राष्ट्रपति ने कहा कि चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर तक सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल हो, अटल टनल हो या फिर चार धाम सड़क परियोजना, हमारा देश विकास के कार्यों को आगे बढ़ाता रहा।

atal tunel

राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना के इस काल में, प्रत्येक भारतीय का जीवन बचाने के प्रयासों के बीच अर्थव्यवस्था को जो हानि हुई थी, उससे भी अब देश उबरने लगा है। इस मुश्किल समय में भी भारत दुनिया के निवेशकों के लिए आकर्षक स्थान बनकर उभरा है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मैन्युफेक्चरिंग से जुड़े 10 सेक्टर्स के लिए पहली बार देश में लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपए की प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम लागू की गई है। इसका लाभ इलेक्ट्रॉनिक्स सहित अनेक दूसरे सामान की मैन्युफेक्चरिंग में दिखने भी लगा है।

राष्ट्रपति ने कहा कि फेसलेस टैक्स असेसमेंट और अपील की सुविधा देने के साथ ही मेरी सरकार ने देश में उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए कंपनी अधिनियम के अनेक प्रावधानों को गैर-आपराधिक बना दिया है।

ये भी देखें: 44 बार जेल जा चुके हैं राकेश टिकैत, किसानों के लिए छोड़ दी दिल्ली पुलिस की नौकरी

आजादी के 75वें वर्ष में देश में नई संसद निर्माण शुरू होना सुखद

राष्ट्रपति ने कहा, ‘संसद की नई इमारत को लेकर पहले की सरकारों ने भी प्रयास किए थे। यह सुखद संयोग है कि आजादी के 75वें वर्ष की तरफ बढ़ते हुए हमारे देश ने, संसद की नई इमारत का निर्माण शुरू कर दिया है। नए संसद भवन के बनने से अपने संसदीय दायित्वों को निभाने में हर सदस्य को अधिक सुविधा मिलेगी।’

आधुनिक टेक्नोलॉजी तक आसान पहुंच आत्मनिर्भर बनते भारत की अहम पहचान : राष्ट्रपति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘आधुनिक टेक्नोलॉजी का भारत में विकास और हर भारतीय की आधुनिक टेक्नोलॉजी तक आसान पहुंच, आत्मनिर्भर बनते भारत की अहम पहचान है। पिछले वर्ष दिसंबर में UPI से 4 लाख करोड़ रुपए से भी अधिक का डिजिटल पेमेंट हुआ है। आज देश के 200 से ज्यादा बैंक UPI व्यवस्था से जुड़े हैं। जनधन खातों, आधार और मोबाइल की त्रिशक्ति ने लोगों को उनका अधिकार सुनिश्चित किया है। इस JAM त्रिशक्ति की वजह से 1,80,000 करोड़ रुपए गलत हाथों में जाने से बच रहे हैं।’

फेसलेस टैक्स असेसमेंट और अपील की सुविधा

राष्ट्रपति ने कहा कि फेसलेस टैक्स असेसमेंट और अपील की सुविधा देने के साथ ही मेरी सरकार ने देश में उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए कंपनी अधिनियम के अनेक प्रावधानों को गैर-आपराधिक बना दिया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि संसद की नई इमारत को लेकर पहले की सरकारों ने भी प्रयास किए थे। यह सुखद संयोग है कि आजादी के 75वें वर्ष की तरफ बढ़ते हुए हमारे देश ने, संसद की नई इमारत का निर्माण शुरू कर दिया है। नए संसद भवन के बनने से अपने संसदीय दायित्वों को निभाने में हर सदस्य को अधिक सुविधा मिलेगी।

navigation satelite

navigation satellite system – नाविक भी आज भारत का गौरव बढ़ा रहा है-राष्ट्रपति

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारा अपना navigation satellite system – नाविक भी आज भारत का गौरव बढ़ा रहा है। इसका लाभ अब हजारों मछुआरे साथियों को मिल रहा है।

राष्ट्रपति ने कहा कि जनधन खातों, आधार और मोबाइल की त्रिशक्ति ने लोगों को उनका अधिकार सुनिश्चित किया है। इस JAM त्रिशक्ति की वजह से 1,80,000 करोड़ रुपए गलत हाथों में जाने से बच रहे हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले वर्ष दिसंबर में UPI से 4 लाख करोड़ रुपए से भी अधिक का डिजिटल पेमेंट हुआ है। आज देश के 200 से ज्यादा बैंक UPI व्यवस्था से जुड़े हैं।

ये भी देखें: पकड़ा गया खूंखार गुर्जर: प्रेमिका को दांव पर रख बचा रहा जान, था लाखों का इनाम

आत्मनिर्भर बनते भारत की अहम पहचान है-राष्ट्रपति

राष्ट्रपति ने कहा कि आधुनिक टेक्नोलॉजी का भारत में विकास और हर भारतीय की आधुनिक टेक्नोलॉजी तक आसान पहुंच, आत्मनिर्भर बनते भारत की अहम पहचान है।

राष्ट्रपति ने कहा कि आदिवासियों की आजीविका के प्रमुख साधन यानि वन-उपज की मार्केटिंग और वन-उपज आधारित छोटे उद्योगों की स्थापना का काम भी जारी है। ऐसी कोशिशों से लगभग 600 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि जनजातीय परिवारों तक पहुंची है। सरकार द्वारा 46 वन-उपजों पर MSP, 90 प्रतिशत तक बढ़ाई गई है।

राष्ट्रपति ने कहा कि Denotified, Nomadic एवं semi-nomadic communities यानि विमुक्त, घुमंतू और अर्ध घुमंतू समुदायों के लिए भी विकास एवं कल्याण बोर्ड की स्थापना की गई है।

dibyangjan

दिव्यांगजनों, ट्रांसजेंडर लोगों के लिए बेहतर सुविधाएं-राष्ट्रपति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘दिव्यांगजनों की मुश्किलों को कम करने के लिए देशभर में हजारों इमारतों को, सार्वजनिक बसों और रेलवे को सुगम्य बनाया गया है। ट्रांसजेंडर व्यक्तियों को भी बेहतर सुविधाएं और समान अवसर देने के लिए Transgender Persons (Protection of Rights) Act लागू किया गया है।’

ये भी देखें: असली राकेश टिकैत कौन? सोशल मीडिया पर पहचानना मुश्किल

कृषि कानूनों का मुद्दा उठाया गया

कांग्रेस की तरफ से अकेले रवनीत सिंह बिट्टू सेंट्रल हॉल में आए। राष्ट्रपति अभिभाषण के दौरान और थोड़ी देर उन्होंने राष्ट्रपति का अभिभाषण सुना और उसके बाद खड़े होकर तीनों कानूनों को रद्द करने और एमएसपी गारंटी कानून को लेकर के आवाज उठाई। उन्होंने कहा कि सरकारों को तीनों कानून रद्द करने चाहिए और एमएसपी गारंटी कानून बनाना चाहिए उसके बाद वह सदन से बाहर निकल गए।

आत्मनिर्भर भारत में महिला उद्यमियों की विशेष भूमिका

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘आत्मनिर्भर भारत में महिला उद्यमियों की विशेष भूमिका है। मेरी सरकार ने महिलाओं को स्वरोज़गार के नए अवसर देने के लिए कई कदम उठाए हैं। मुद्रा योजना के तहत अब तक 25 करोड़ से ज्यादा ऋण दिए जा चुके हैं, जिसमें से लगभग 70 प्रतिशत ऋण महिला उद्यमियों को मिले हैं।’

तीन करोड़ परिवारों तक पहुंचा ‘नल का जल’

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, ‘मेरी सरकार ‘जल जीवन मिशन’ की महत्वाकांक्षी योजना पर काम कर रही है। इसके तहत ‘हर घर जल’ पहुंचाने के साथ ही जल संरक्षण पर भी तेज गति से काम किया जा रहा है। इस अभियान के तहत अब तक 3 करोड़ परिवारों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ा जा चुका है।’

गांव के लोगों का जीवन स्तर सुधारना प्राथमिकता: राष्ट्रपति

राष्ट्रपति ने कहा, ‘गांव के लोगों का जीवन स्तर सुधरे, यह मेरी सरकार की प्राथमिकता है। इसका उत्तम उदाहरण 2014 से गरीब ग्रामीण परिवारों के लिए बनाए गए 2 करोड़ घर हैं। वर्ष 2022 तक हर गरीब को पक्की छत देने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना की गति भी तेज की गई है।’

ये भी देखें: किसानों का प्रायश्चित उपवास और गांधी का शहीद दिवस

देश भर में शुरू की गईं किसान रेल-राष्ट्रपति

राष्ट्रपति ने कहा कि देश भर में शुरू की गईं किसान रेल, भारत के किसानों को नया बाजार उपलब्ध कराने में नया अध्याय लिख रही हैं। अब तक 100 से ज्यादा किसान रेलें चलाई जा चुकी हैं जिनके माध्यम से 38 हजार टन से ज्यादा अनाज और फल-सब्जियां, एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र तक किसानों द्वारा भेजी गई हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि कृषि को और लाभकारी बनाने के लिए मेरी सरकार आधुनिक कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी विशेष ध्यान दे रही है। इसके लिए एक लाख करोड़ रुपए के एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड की शुरुआत की गई है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मेरी सरकार यह स्पष्ट करना चाहती है कि तीन नए कृषि कानून बनने से पहले, पुरानी व्यवस्थाओं के तहत जो अधिकार थे तथा जो सुविधाएं थीं, उनमें कहीं कोई कमी नहीं की गई है। बल्कि इन कृषि सुधारों के जरिए सरकार ने किसानों को नई सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ-साथ नए अधिकार भी दिए हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले दिनों हुआ तिरंगे और गणतंत्र दिवस जैसे पवित्र दिन का अपमान बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। जो संविधान हमें अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार देता है, वही संविधान हमें सिखाता है कि कानून और नियम का भी उतनी ही गंभीरता से पालन करना चाहिए।

ये भी देखें: 44 बार जेल जा चुके हैं राकेश टिकैत, किसानों के लिए छोड़ दी दिल्ली पुलिस की नौकरी

राष्ट्रपति ने कहा कि वर्तमान में इन कानूनों का अमलीकरण देश की सर्वोच्च अदालत ने स्थगित किया हुआ है। मेरी सरकार उच्चतम न्यायालय के निर्णय का पूरा सम्मान करते हुए उसका पालन करेगी।

राष्ट्रपति ने कहा कि इन कृषि सुधारों का सबसे बड़ा लाभ भी 10 करोड़ से अधिक छोटे किसानों को तुरंत मिलना शुरू हुआ। छोटे किसानों को होने वाले इन लाभों को समझते हुए ही अनेक राजनीतिक दलों ने समय-समय पर इन सुधारों को अपना भरपूर समर्थन दिया था।

राष्ट्रपति ने कहा कि व्यापक विमर्श के बाद संसद ने सात महीने पूर्व तीन महत्वपूर्ण कृषि सुधार, कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, कृषि (सशक्तीकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार विधेयक, और आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक पारित किए हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ भी देश के छोटे किसानों को हुआ है। इस योजना के तहत पिछले 5 वर्षों में किसानों को 17 हजार करोड़ रुपए प्रीमियम के एवज में लगभग 90 हजार करोड़ रुपए की राशि, मुआवजे के तौर पर मिली है।

राष्ट्रपति ने कहा कि समय की मांग है कि कृषि क्षेत्र में हमारे जो छोटे और सीमांत किसान हैं, जिनके पास सिर्फ एक या दो हेक्टेयर जमीन होती है, उन पर विशेष ध्यान दिया जाए। देश के सभी किसानों में से 80 प्रतिशत से ज्यादा ये छोटे किसान ही हैं और इनकी संख्या 10 करोड़ से ज्यादा है।

ये भी देखें: इस अधिकारी ने लाल किला में नहीं होने दिया तिरंगे का अपमान, ऐसे बचाई देश की शान

budget session

स्वामीनाथन आयोग की सिफ़ारिशों को लागू करते हुए सरकार का डेढ़ गुना MSP देने का फैसला

राष्ट्रपति ने कहा कि आज देश में खाद्यान्न उपलब्धता रिकॉर्ड स्तर पर है। वर्ष 2008-09 में जहां देश में 234 मिलियन टन खाद्यान्न की पैदावार हुई थी वहीं साल 2019-20 में देश की पैदावार बढ़कर 296 मिलियन टन तक पहुंच गयी है। इसी अवधि में सब्जी और फलों का उत्पादन भी 215 मिलियन टन से बढ़कर अब 320 मिलियन टन तक पहुंच गया है। मैं इसके लिए देश के किसानों का अभिनंदन करता हूँ।

राष्ट्रपति ने कहा कि 2013-14 में जहां 42 लाख हेक्टेयर जमीन में ही माइक्रो-इरिगेशन की सुविधा थी, वहीं आज 56 लाख हेक्टेयर से ज्यादा अतिरिक्त जमीन को माइक्रो-इरिगेशन से जोड़ा जा चुका है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मेरी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफ़ारिशों को लागू करते हुए लागत से डेढ़ गुना MSP देने का फैसला भी किया था। मेरी सरकार आज न सिर्फ MSP पर रिकॉर्ड मात्रा में खरीद कर रही है बल्कि खरीद केंद्रों की संख्या को भी बढ़ा रही है।

राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार ने बीते 6 वर्षों में बीज से लेकर बाज़ार तक हर व्यवस्था में सकारात्मक परिवर्तन का प्रयास किया है, ताकि भारतीय कृषि आधुनिक भी बने और कृषि का विस्तार भी हो।

राष्ट्रपति ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान केवल भारत में निर्माण तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह भारत के हर नागरिक का जीवन स्तर ऊपर उठाने तथा देश का आत्मविश्वास बढ़ाने का भी अभियान है।

राष्ट्रपति ने कहा कि बीते 6 वर्षों में अंडरग्रैजुएट और पोस्ट ग्रैजुएट चिकित्सा शिक्षा में 50 हजार से ज्यादा सीटों की वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत सरकार ने 22 नए ‘एम्स’ को भी मंजूरी दी है।

ये भी देखें: अब संसद बनेगी जंग का अखाड़ा, आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में विपक्ष

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत देश में 1.5 करोड़ गरीबों को 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज

राष्ट्रपति ने कहा कि आज देश के 24 हजार से ज्यादा अस्पतालों में से किसी में भी आयुष्मान योजना का लाभ लिया जा सकता है। प्रधानमंत्री भारतीय जन-औषधि योजना के तहत देश भर में बने 7 हजार केंद्रों से गरीबों को बहुत सस्ती दर पर दवाइयां मिल रही हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत देश में 1.5 करोड़ गरीबों को 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिला है। इससे इन गरीबों के 30 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा, खर्च होने से बचे हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि मेरी सरकार द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में पिछले 6 वर्षों में जो कार्य किए गए हैं, उनका बहुत बड़ा लाभ हमने इस कोरोना संकट के दौरान देखा है।

राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे लिए गर्व की बात है कि आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चला रहा है। इस प्रोग्राम की दोनों वैक्सीन भारत में ही निर्मित हैं। संकट के इस समय में भारत ने मानवता के प्रति अपने दायित्व का निर्वहन करते हुए अनेक देशों को कोरोना वैक्सीन की लाखों खुराक उपलब्ध कराई हैं।

ये भी देखें: पकड़ा गया खूंखार गुर्जर: प्रेमिका को दांव पर रख बचा रहा जान, था लाखों का इनाम

राष्ट्रपति ने कहा कि कोरोना काल में बनी वैश्विक परिस्थितियों ने, जब हर देश की प्राथमिकता उसकी अपनी जरूरतें थीं, हमें ये याद दिलाया है कि आत्मनिर्भर भारत का निर्माण क्यों इतना महत्वपूर्ण है।

राष्ट्रपति ने कहा कि यदि अपने महत्व को बढ़ाना है तो दूसरों पर निर्भरता को कम करते हुए आत्मनिर्भर बनना होगा।

राष्ट्रपति ने कहा कि अपने सभी निर्णयों में मेरी सरकार ने संघीय ढांचे की सामूहिक शक्ति का अद्वितीय उदाहरण भी प्रस्तुत किया है। केंद्र और राज्य सरकारों के बीच इस समन्वय ने लोकतंत्र को मजबूत बनाया है और संविधान की प्रतिष्ठा को सशक्त किया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि करीब 31 हजार करोड़ रुपए गरीब महिलाओं के जनधन खातों में सीधे ट्रांसफर भी किए। इस दौरान देशभर में उज्ज्वला योजना की लाभार्थी गरीब महिलाओं को 14 करोड़ से अधिक मुफ्त गैस सिलेंडर भी मिले।

राष्ट्रपति ने कहा कि महामारी के कारण शहरों से वापस आए प्रवासियों को उनके ही गांवों में काम देने के लिए मेरी सरकार ने छह राज्यों में गरीब कल्याण रोजगार अभियान भी चलाया। इस अभियान की वजह से 50 करोड़ Man-days के बराबर रोजगार पैदा हुआ।

राष्ट्रपति ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के माध्यम से 8 महीनों तक 80 करोड़ लोगों को 5 किलो प्रतिमाह अतिरिक्त अनाज निशुल्क सुनिश्चित किया गया। सरकार ने प्रवासी श्रमिकों, कामगारों और अपने घर से दूर रहने वाले लोगों की भी चिंता की।

rbi

अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए रिकॉर्ड आर्थिक पैकेज की घोषणा

राष्ट्रपति ने कहा कि अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए रिकॉर्ड आर्थिक पैकेज की घोषणा के साथ ही मेरी सरकार ने इस बात का भी ध्यान रखा कि किसी गरीब को भूखा न रहना पड़े।

राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे संतोष है कि मेरी सरकार के समय पर लिए गए सटीक फैसलों से लाखों देशवासियों का जीवन बचा है। आज देश में कोरोना के नए मरीजों की संख्या भी तेजी से घट रही है और जो संक्रमण से ठीक हो चुके हैं उनकी संख्या भी बहुत अधिक है।

राष्ट्रपति ने कहा कि महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में हमने अनेक देशवासियों को असमय खोया भी है। हम सभी के प्रिय और मेरे पूर्ववर्ती राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन भी कोरोना काल में हुआ। संसद के 6 सदस्य भी कोरोना की वजह से असमय हमें छोड़कर चले गए। मैं सभी के प्रति अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

ये भी देखें: दिल्ली हिंसा: लाल किला से गायब हुईं बेशकीमती चीजें, केंद्रीय मंत्री ने दी ये जानकारी

चुनौती कितनी ही बड़ी क्यों न हो, न हम रुकेंगे और न भारत रुकेगा-राष्ट्रपति

राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्रप्रेम से ओतप्रोत कवि, असम केसरी, अंबिकागिरि रायचौधरी ने कहा थाओम तत्सत् भारत महत, एक चेतोनात, एक ध्यानोत, एक साधोनात, एक आवेगोत, एक होइ ज़ा, एक होइ ज़ा (भारत की महानता परम सत्य है। एक ही चेतना में, एक ही ध्यान में, एक ही साधना में, एक ही आवेग में, एक हो जाओ, एक हो जाओ)

राष्ट्रपति ने कहा कि चुनौती कितनी ही बड़ी क्यों न हो, न हम रुकेंगे और न भारत रुकेगा। भारत जब-जब एकजुट हुआ है, तब-तब उसने असंभव से लगने वाले लक्ष्यों को प्राप्त किया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का संसद में अभिभाषण शुरू

राष्ट्रपति ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के माध्यम से 8 महीनों तक 80 करोड़ लोगों को 5 किलो प्रतिमाह अतिरिक्त अनाज निशुल्क सुनिश्चित किया गया। सरकार ने प्रवासी श्रमिकों, कामगारों और अपने घर से दूर रहने वाले लोगों की भी चिंता की।

ये भी देखें: दिल्ली हिंसा खुलासा: दीपू सिद्धू ने कहा- मैनें नहीं किया कुछ गलत, झूठ फैलाया गया

pm modi

सरकार जनआकांक्षाओं को पूरा करने में पीछे नहीं रहेगी- पीएम

बजट सत्र के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि मुझे विश्वास है कि सभी सांसद इस सत्र को और उत्तम बनाएंगे। भारत के इतिहास में पहली बार हुआ कि 2020 में एक नहीं अलग अलग पैकेज के रूप में चार पांच मिनी बजट देने पड़े। 2020 एक प्रकार से लगातार मिनी बजट का सिलसिला चलता रहा है।

पीएम ने कहा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण के जरिए दोनों सदनों के सांसद उनके संदेश को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। पीएम ने कहा कि हमारी सरकार जनआकांक्षाओं को पूरा करने में पीछे नहीं रहेगी।

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story