किसानों-सरकार के बीच बैठक खत्म, 7 घंटे चली वार्ता, अब 5 दिसंबर को होगी बात

किसान नेताओं और सरकार के बीच आज 12 बजे से शुरू हुई बैठक अब खत्म हो गयी है। हालंकि दोनों पक्षों के बीच 5 दिसंबर को फिर से बातचीत होना तय हुआ है।

farmer movement

Live: किसान-सरकार के बीच बैठक जारी, MSP पर गारंटी की मांग-(courtesy-social media)

नई दिल्ली: किसान नेताओं और सरकार के बीच आज 12 बजे से शुरू हुई बैठक अब खत्म हो गयी है। सूत्रों की मानें तो करीब 7 घंटे चली वार्ता बेनतीजा निकली। हालंकि दोनों पक्षों के बीच 5 दिसंबर को फिर से बातचीत होना तय हुआ है। 5 को 5वे स्तर की बैठक होगी।  गौरतलब है कि आज हुई बैठक दिल्ली के विज्ञान भवन में चली। बैठक में नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि एमएसपी को लेकर कोई बदलाव नहीं होगा।

किसान संगठनों के सवालों का सरकार ने दिया जवाब

कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों का आंदोलन जारी है। दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसानों के बीच चर्चा चल रही है। लंच ब्रेक के बाद फिर से किसान संगठनों और सरकार के बीच विज्ञान भवन में चल रही बैठक शुरू हो गई है। किसान संगठनों ने कृषि कानूनों के खिलाफ जिन बिंदुओ पर सवाल उठाए हैं उन पर अब सरकार जवाब दे रही है।

farmer minister narendra tomar

ये भी पढ़ेंः किसान आंदोलन: खालिस्तानियों की एंट्री के आरोप पर सुखबीर ने कही ये बड़ी बात

गुरुद्वारे से पहुंचा चाय और नाश्ता

विज्ञान भवन में सरकार और किसान नेताओं की बैठक जारी है। किसान नेताओं के लिए बंगला साहब गुरुद्वारे से चाय और नाश्ता पहुंचा है। वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैंने तय किया है कि जितनी पैदावार किसान की यहां होगी उतनी खरीद ली जाएगी, लेकिन अगर बाहर से कोई आया, अगल-बगल के राज्यों से बेचने या बेचने का प्रयास भी किया तो उसका ट्रक राजसात करवाकर उसे जे़ल भिजवा दिया जाएगा।

किसानों का मारना चाहती है सरकार: किसान

सूत्रों के मुताबिक, बैठक में सरकार बताएगी कि निजी मंडी और सरकारी मंडी में क्या फर्क है। इस दौरान किसानों ने मीडिया रिपोर्ट को प्रस्तुत किया। अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया। कहा गया कि सभी कह रहे हैं कि किसानों का बुरा हाल होगा। एक किसान ने कहा कि हमें मालूम है कि सरकार किसानों को मारना चाहती है।

अवॉर्ड वापस कर सरकार को कड़ा संदेश दिया-सुखबीर सिंह बादल

पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि प्रकाश सिंह बादल ने अपने पूरे जीवन में किसानों के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने अवॉर्ड वापस कर सरकार को कड़ा संदेश दिया है। किसानों को इन कानूनों की जरूरत नहीं है।

ये भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, हर थाने के कोने-कोने में लगेगा सीसीटीवी

संयुक्त किसान मोर्चा ने कृषि सचिव को खाका सौंपा

संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से कुल दस पन्नों का खाका कृषि सचिव को खाका सौंपा गया, जिसमें 5 मुख्य बिंदु हैं। APMC एक्ट में 17 प्वाइंट पर असहमति है, एसेंशियल कमोडिटी एक्ट में 8 प्वाइंट पर असहमति है। इसके अलावा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग में 12 प्वाइंट पर असहमति है।

government and farmer meeting

किसान-सरकार के बीच बैठक जारी, MSP पर गारंटी की मांग

किसानों और सरकार के बीच बातचीत का दौर जारी है। सरकार की ओर से किसानों के मुद्दे पर उनकी दलीलें दी जा रही है, लेकिन किसान नेता भी लगातार अपनी मांगों का जिक्र कर रहे हैं। किसानों की ओर से लगातार MSP पर गारंटी की मांग की जा रही है।

ये भी पढ़ेंः अवार्ड वापसी शुरू: ऐसे किया किसानों का समर्थन, दिग्गजों ने लौटाया पद्य विभूषण

किसान आंदोलन पर बोले अधीर रंजन चौधरी, संसद सत्र बुलाने की मांग की

कृषि कानूनों के खिलाफ देश में किसानों का आंदोलन बढ़ता जा रहा है। दिल्ली-नोएडा, दिल्ली-गुरुग्राम की सीमा पर लंबा जाम लगा हुआ है, यहां किसानों का प्रदर्शन लगातार हो रहा है। इस बीच किसानों के प्रदर्शन को लेकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने किसानों के आंदोलन के मसले पर संसद का सत्र बुलाने की मांग की है।

adheer ranjan choudhary

 

कृषि कानून के खिलाफ शुरू हुई अवॉर्ड वापसी, बादल-ढींढसा ने लौटाए पद्म सम्मान

कृषि कानूनों के खिलाफ देश में किसानों का आंदोलन बढ़ता जा रहा है। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और अकाली दल के वरिष्ठ नेता प्रकाश सिंह बादल ने कृषि कानूनों के विरोध में अपना पद्म विभूषण सम्मान वापस कर दिया है।

हर किसी की नजर इस बैठक पर

कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों का आंदोलन जारी है। दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसानों के बीच की चर्चा शुरू हो गई है। किसानों ने अपनी मांगों को लिखित में सरकार के सामने रखा है, अब हर किसी की नजर इस बैठक पर है।

ये भी पढ़ेंः मां ने तलाक के पेपर पर नहीं किए साइन तो बेटे ने कर दी क्रूरता से हत्या

किसानों की मांग को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ बैठक की जिसमें हुई। इस बैठक में सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि किसानों की समस्या का हल निकलना चाहिए।

किसानों और सरकार की बातचीत शुरू

दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसानों के बीच की चर्चा शुरू हो गई है। किसानों ने अपनी मांगों को लिखित में सरकार के सामने रखा है, अब हर किसी की नजर इस बैठक पर है।

सीएम अमरिंदर  और गृह मंत्री अमित शाह की मीटिंग जारी है

आज किसानों और सरकार के बीच एक बार फिर वार्ता होनी है, वहीं पंजाब के सीएम कैप्टेन अमरिंदर सिंह भी आज दिल्ली पहुंच गए हैं। सीएम अमरिंदर  और गृह मंत्री अमित शाह की मीटिंग जारी है।

amit shah-amrindar

बैठक से पहले क्या बोले कृषि मंत्री?

कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर का कहना है कि आज किसानों से चौथे दौर की चर्चा हो रही है, उन्हें उम्मीद है कि सकारात्मक नतीजा निकलेगा। आज चर्चा में क्या रास्ता निकलता है, वो कुछ देर में साफ हो जाएगा।

ये भी पढ़ेंः कमर में करोड़ों का सोना: ऐसे खुली महिला की पोल, देखती रह गई सारी पुलिस

किसानों ने सरकार को दी आपत्तियों की लिस्ट

किसानों ने सरकार के सामने जो ड्राफ्ट भेजा है, जिसमें इन मुद्दों को उठाया है।

1-तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएं।

2-वायु प्रदूषण के कानून में बदलाव वापस हो।

3-बिजली बिल के कानून में बदलाव है, वो गलत है।

4-MSP पर लिखित में भरोसा दे।

5-कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर किसानों को ऐतराज।

6-किसानों ने कभी ऐसे बिल की मांग की ही नहीं, तो फिर क्यों लाए गए। ये सिर्फ कारोबारियों का फायदा है।

7-डीजल की कीमत को आधा किया जाए।

amit shah

अमित शाह ने की कृषि मंत्री संग बैठक

किसानों संग वार्ता से पहले कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर अमित शाह से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। किसानों ने आपत्तियों और मांगों का जो ड्राफ्ट सरकार को भेजा है, उस पर बैठक में दौरान मंथन किया गया। आज की बैठक में कुल 40 किसान संगठन शामिल होंगे।

वार्ता से पहले किसानों ने सरकार क गिनाई आपत्तियां:

किसानो ने आपत्तियों का एक ड्राफ्ट सरकार को भेजा है, साथ ही अपनी आठ मांगें भी रखी हैं।

तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएं।

वायु प्रदूषण के कानून में बदलाव वापस हो।

बिजली बिल के कानून में बदलाव है, वो गलत है।

MSP पर लिखित में भरोसा दे।

कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पर किसानों को ऐतराज।

किसानों ने कभी ऐसे बिल की मांग की ही नहीं, तो फिर क्यों लाए गए. ये सिर्फ कारोबारियों का फायदा है.

-बातचीत के लिए बॉर्डर से निकला किसानों का प्रतिनिधिमंडल, थोड़ी दूर में बातचीत होनी है। हलनि सुलह पर संकट बना हुआ है। दोनों पक्ष अपनी अपनी बात पर अड़े हैं।

ये भी पढ़ेंः अब राजनीति में रजनी: कर इस पार्टी में एंट्री, जनवरी में होगा बड़ा ऐलान

किसानों संग वार्ता से पहले प्रियंका गाँधी ने किया ट्वीट

पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह और अमित शाह की मुलाक़ात आज

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह से गुरुवार को दिल्ली में मुलाक़ात करेंगे। कृषि कानूनों और किसान आंदोलन के मुद्दे पर दोनो नेताओं के बीच कल सुबह 9.30 बजे से 10 बजे होनी है। जानकारी के मुताबिक, कैप्टन अमरिंदर सिंह कल सुबह 8 बजे चंडीगढ़ से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।

Amit Shah, Amarinder Singh meeting in delhi due to Farmers Protest Farm Laws

किसानों संग आज सरकार की वार्ता:

किसान नेताओं और केंद्र सरकार के बीच आज चौथे दौर की बातचीत होनी है। इससे पहले मंगलवार को किसानों के प्रतिनिधिमंडल की सरकार से बातचीत हुई, जो बेनतीजा निकली। सरकार ने किसानों से छोटा ग्रुप बनाकर वार्ता की अपील की थी, जो खारिज हो गयी थी। जिसके बाद आज करीब 35 किसान संगठनों के नेता बातचीत में शामिल होंगे।

ये भी पढ़ेंः सरकार का बड़ा कदम: किसानों को मनाने की कवायद तेज, आज फिर होगी वार्ता

ये रास्ते रहेंगे बंद

किसानों ने दिल्ली को चारों ओर घेर लिया है। दिल्ली बॉर्डर पर हरियाणा-पंजाब के बाद अब गुजरात के किसान पहुँचने लगे हैं। सिंधु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर और नोएडा बॉर्डर पर भी हजारों की तादाद में किसान जमे हुए हैं। किसान आंदोलन की वजह से सिंधु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर समेत कई बॉर्डर को बंद कर दिया गया है। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की ओर से एडवाइजरी जारी की गई है। आज भी नोएडा लिंक रोड पर स्थित चिल्ला बॉर्डर बंद रखा जाएगा।

कृषि कानून को रद्द करने की मांग

बता दें पिछले एक सप्ताह से किसान कृषि कानून के विरोध में सड़कों पर हैं। किसान केंद्र सरकार से नए कृषि कानून को रद्द करने की मांग रह रहे है। दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान डटे हुए हैं। एक दिसंबर को सरकार के प्रतिनिधियों और किसान नेताओं के बीच हुई बातचीत में समिति बनाने पर सहमति हुई थी, जो प्रतिदिन बैठक करेगी लेकिन इसके साथ किसानों ने प्रदर्शन जारी रखने की बात भी कही थी। आज इस किसान आंदोलन में कांग्रेस खुलकर सामने आ गई। कांग्रेस ने चंडीगढ़ में हरियाणा के मुख्यमंत्री के खिलाफ भी जबर्दस्त प्रदर्शन किया।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App