×

पटेल की जयंती पर बोले PM मोदी, विविधता में एकता हमारा गर्व, गरिमा और पहचान

गुरुवार को पूरे देश में लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के केवड़िया पहुंचे। यहां पर उन्होंने स्टैचू ऑफ यूनिटी पर सरदार पटेल की प्रतिमा पर फूल चढ़ाया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 31 Oct 2019 3:45 AM GMT

पटेल की जयंती पर बोले PM मोदी, विविधता में एकता हमारा गर्व, गरिमा और पहचान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

केवड़िया: गुरुवार को पूरे देश में लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के केवड़िया पहुंचे। यहां पर उन्होंने स्टैचू ऑफ यूनिटी पर सरदार पटेल की प्रतिमा पर फूल चढ़ाया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री मोदी सुबह करीब 8 बजे स्टैचू ऑफ यूनिटी पहुंचे। सरदार पटेल की जयंती पर गुजरात समेत देशभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है। देश भर में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जा रहा है। बता दें कि गुरुवार को सरदार पटेल की 144वीं जयंती है।

सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के मौके पर केवड़िया में लोगों को पीएम मोदी ने संबोधित किया। इस मौक पर पीएम मोदी ने कहा कि हम लोगों ने सरदार वल्लभ भाई पटेल के विचार अभी सुनें, उनकी आवाज हमारे कानों में गूंजना, उनके विचारों की वर्तमान में महत्ता, प्रतिपल देश की एकता और अखंडता के बारे में सोचना। उनकी वाणी में जो शक्ति थी और उनके विचारों में जो प्रेरणा था उसे हर हिंदुस्तानी महसूस कर सकता है।

यह भी पढ़ें...इंदिरा को थप्पड़! मां-बेटे के बीच का ये किस्सा, नहीं जानते होंगे आप

उन्होंने कहा कि जिस तरह किसी श्रद्धा स्थल पर आकर एक असीम शांति और ऊर्जा मिलती है, वैसी ही अनुभूति मुझे यहां सरदार साहब के पास आकर होती है। लगता है जैसे उनकी प्रतिमा का भी अपना एक व्यक्तित्व है, सामर्थ्य है और सन्देश है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के अलग-अलग कोने से, किसानों से मिले लोहे से, अलग-अलग हिस्सों की मिट्टी से इस प्रतिमा का आधार बना है। इसलिए ये प्रतिमा हमारी विविधता में एकता का भी जीता-जागता प्रतीक है।



यह भी पढ़ें...पूर्व PM इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर, सोनिया गांधी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांंजलि

पीएम ने कहा कि अब से कुछ देर पहले ही एकता के मंत्र को जीने के लिए, उसके भाव को चरितार्थ करने के लिए, राष्ट्रीय एकता का संदेश दोहराने के लिए राष्ट्रीय एकता दौड़ देश के हर कोने में संपन्न हुई है। देश के अलग-अलग शहरों में, गावों में, अलग-अलग क्षेत्रों में लोगों ने इसमें हिस्सा लिया है।

पीएम मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया में अलग-अलग देश, अलग-अलग पंथों, अलग-अलग विचारधाराओं, भाषाओं, रंग-रूप के आधार पर बने हैं। लेकिन हम कभी कभी देखते हैं कि एकरूपता, उन देशों की विशेषता और पहचान रही है। लेकिन भारत की विशेषता है विविधता में एकता, हम विविधताओं से भरे हुए हैं।



यह भी पढ़ें...सरदार वल्लभ भाई की वसीयत और सुभाष चंद्र बोस में क्या है संबंध…जानें यहां

प्रधानमंत्री ने कहा कि विविधता में एकता हमारा गर्व, गौरव और हमारी पहचान है। हमारे यहां विविधता को सेलिब्रेट किया जाता है। हमें विविधता में विरोधाभास नहीं दिखता बल्कि उसमें अंतर्निहित एकता का सामर्थ्य दिखता है।

उन्होंने कहा कि जब हम विभिन्न पंथों-संप्रदायों की परंपराओं, आस्थाओं का सम्मान करते हैं तो सदभाव-स्नेहभाव में और वृद्धि हो जाती है। इसलिये हमें हर पल, विविधता के हर अवसर को सेलिब्रेट करना है। यही तो नेशन बिल्डिंग है।



पीएम मोदी ने कहा कि मैं मानता हूं कि अपनी एकता की इस ताकत का पर्व निरंतर मनाना बहुत आवश्यक है। एकता की ये ताकत ही है जिससे भारतीयता का प्रवाह है, गति है। एकता की ये ताकत ही है जो डॉ बाबासाहेब अंबेडकर द्वारा लिखित संविधान की प्रेरणा भी है।

यह भी पढ़ें...आज से नई सुबह! लद्दाख बना केंद्रशासित प्रदेश, ये होंगे नए राज्यपाल

पीएम मोदी ने कहा कि जो हमसे युद्ध में नहीं जीत सकते, वो हमारी इसी एकता को चुनौती दे रहे हैं। लेकिन वो भूल जाते हैं कि सदियों की ऐसी ही कोशिशों के बावजूद, हमें कोई मिटा नहीं सका। जब हमारी विविधताओं के बीच एकता पर बल देने वाली बातें होती हैं, तो इन ताकतों को मुंहतोड़ जवाब मिलता है।



उन्होंने कहा कि सरदार साहेब के आशीर्वाद से इन ताकतों को परास्त करने का एक बहुत बड़ा फैसला देश ने कुछ हफ्ते पहले ही लिया है। आर्टिकल 370 ने जम्मू-कश्मीर को अलगाववाद और आतंकवाद के सिवाय कुछ नहीं दिया।

यह भी पढ़ें...रन फॉर यूनिटी: बोले अमित शाह, सरदार पटेल के इस सपने को BJP ने पूरा किया

पीएम मोदी ने कहा कि जब सरदार पटेल 500 से ज्यादा रिसायतों के एकीकरण के भगीरथ कार्य के लिए निकले थे तो यही वो चुंबकीय शक्ति थी, जिसमें ज्यादातर राजे-रजवाड़े खिंचे चले आए थे। सरदार पटेल जब एकता का मंत्र लेकर निकले,तो सभी उसकी छत्रछाया में खड़े हो गए।

पीएम मोदी ने कहा कि अनुच्छेद 370 ने कश्मीर को सिर्फ आतंकवाद दिया जिसकी वजह से 40 हजार लोगों ने अपनी जान गवाईं।



यह भी पढ़ें...अयोध्या केस पर SC का फैसला सभी को खुले मन से स्वीकार करना चाहिए: आरएसएस

इससे पहले लौह पुरुष सरदार पटेल को श्रद्धांजलि देने के बाद पीएम मोदी स्टैचू ऑफ यूनिटी पर आयोजित एकता दिवस परेड में शामिल हुए। उन्होंने एकता दिवस परेड में शामिल लोगों को एकता की शपथ दिलाई।

यह भी पढ़ें...31 अक्टूबर: आखिर क्या हुआ था इंदिरा की हत्या वाले दिन, यहां जानें सबकुछ?

इस परेड में कर्नाटक और गुजरात पुलिस फोर्स समेत देशभर के पुलिस जवान शामिल हुए। परेड में एनएसजी और सीआरपीएफ के जवान भी शामिल हुए। पीएम ने एकता दिवस परेड का निरीक्षण किया। इस दौरान सरदार पटेल की प्रतिमा पर हेलीकॉप्टर से फूलों की बारिश की गई।



यह भी पढ़ें...इंदिरा गांधी को मौत से पहले मौत का एहसास, सोनिया गांधी ने लिखा-30 की रात की दास्तां

इस अलावा पीएम मोदी टेक्नॉलजी डेमन्स्ट्रेशन साइट का उद्घाटन किया।

गुरुवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल को नमन किया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि देश की एकता के सूत्रधार लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जन्म-जयंती पर शत-शत नमन।'

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story