farmers

तीनों कृषि कानून के विरोध में आम आदमी पार्टी (आप) द्वारा मेरठ में दिल्ली बाईपास स्थित संस्कृति रिसोर्ट में किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले 25 साल में साढ़े तीन लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं।

राहुल गांधी ने पिछले दिनों मत्स्य मंत्रालय का गठन किए जाने का मुद्दा उछाला है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साध रहे हैं। हर महीने के अंतिम रविवार को होने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम मन की बात को लेकर राहुल ने इस बार हमला बोला है।

कृषि कानूनों को लेकर किसानों की सरकार के प्रति बढ़ती नाराजगी का असर अब गांवो में दिखाई देने लगा है। सहारनपुर जनपद के नकुड ब्लॉक के गांव फतेहपुर जट में किसानों ने गांव में बीजेपी से जुड़े लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है।

किसानों के लिए बनाए गए कानून को लागू न होने देने के लिए विपक्ष जिम्मेदार है। जिसका सीधा असर आम जनता पर पड रहा है। उन्होेंने कहा कि केन्द्र ने कई कानून किसानों के हित में बनाए हैं।

केंद्र व प्रदेश सरकार किसानों की आय दोगुनी करने के लिए चाहे जितने भी प्रयास करें मगर उनके अधीनस्थ उनकी मंशा को पूरा नहीं होने दे रहे हैं। ऐसा ही मामला जनपद औरैया में देखने को मिला जिसमें 329 किसानों के खातों में बेची गई धान की कीमत अभी तक नहीं आ सकी है।

कानपुर देहात में खाद्य विपरण विभाग के एक सीनियर मार्केटिंग इंस्पेक्टर क्रय केन्द्र पर आने वाले किसानो से जमकर अवैध वसूली करने का मामला सामने आया है।

एमएसपी के लिए जूझ रहे किसानों को क्या लाभ मिलेगा? बीते सात सालों में तिलहन उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने क्या किया? इस तरह के तमाम सवाल लंबे समय से उत्तर की प्रतीक्षा में हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि को-ऑपरेटिव फेडरलिज्म को और अधिक सार्थक बनाना और यही नहीं हमें प्रयत्न पूर्वक कम्पटेटिव को-ऑपरेटिव फेडरलिज्म को न सिर्फ राज्यों के बीच, बल्कि डिस्ट्रिक्ट लेवल तक ले जाना है ताकि विकास की स्पर्धा निरंतर चलती रहे।

कृषि सुधारों को आगे बढ़ाते हुए केंद्र सरकार ने पंजाब-हरियाणा सरकारों से कहा है कि किसानों को फसल खरीद का पैसा सीधे खाते में भेजें। देखने में आकर्षक इस पहल का निहितार्थ क्या है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आंदोलन के नाम पर जिस तरह संवैधानिक प्रतीक का अपमान किया गया वह सीधे संविधान पर हमला था। यह सरकार किसानों की सबसे बड़ी हितैषी है इसंका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है