farmers

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गन्ना किसानों के बकाया को लेकर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। इसके तुरंत बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने तीखा पलटवार करते हुए अपने ट्वीट में प्रियंका से सवाल पूछा। योगी ने सपा और बसपा पर भी निशाना साधा।

उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में एक लेखपाल ने किसान से पैसे लेने के बाद भी वरासत उसके नाम नहीं करने का मामला है। जिले के खम्हरिया शुक्ल गांव निवासी किसान के पिता की मौत के दो माह बाद भी लेखपाल ने वरासत नहीं दर्ज की। किसान से लेखपाल ने कागजात के साथ पैसे भी लिये थे।

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ. मसूद अहमद तथा राष्ट्रीय महासचिव शिवकरन सिंह ने मंगलवार को संयुक्त रूप से कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए किसानों को दो हजार रूपये लोकसभा चुनाव से पहले देकर भ्रमित कर रही है।

चुनावी साल में आम बजट से सरकार की सभी वर्गों को सौगात देकर खुश करने की कोशिश है। किसानों के लिए इस बजट में कई बड़े ऐलान किए गए हैं। कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने किसानों को निराश नहीं किया और उनके लिए बड़ी घोषणाएं कीं।

बरेली के बड़ा बाईपास के प्रभावित आंदोलित किसानों ने आज बुधवार को बाईपास जाम कर दिया।प्रशासनिक अधिकारियों के समझाने पर बामुश्किल जाम खुल सका।मुआवजे के भुगतान की मांग को लेकर किसानों ने पिछले पांच दिनों से बड़ा बाईपास पर कुम्हरा गांव के पास प्रदर्शन कर रहे हैं।

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की मोदी सरकार किसानों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी कर ली है। सरकार की किसानों को साल में प्रति एकड़ 12 हजार रुपये देने की योजना है। इस प्रस्ताव को अंतिम रूप दे दिया गया है और इसके लिए सवा लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

धानमंत्री किसानों की आय दुगनी करने के चाहे जितने दावे करें जमीनी हकीकत कुछ और है । बलरामपुर में गन्ना किसानों को अपनी लॉगत का मूल्य भी नही मिल पा रहा है । पिछले 2 महीने से गन्ना सप्लाई करने के बाद भी गन्ना हजारो गन्ना किसानो का एक भी पैसा नही मिला है

सरकार ने आवारा पशुओं पर नकेल कसने के लिए जिलाधिकारियों को निर्देश दिए थे। अमेठी की डीएम शकुंतला गौतम ने 10 जनवरी बेसहारा जानवारों को सड़कों पर छोड़ने वाले पशु पालकों को समय भी दिया था, लेकिन ये सिर्फ हवा-हवाई बातें साबित हुईं। यह बात खुद किसान कह रहे हैं।

मध्यप्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के लिए सीएम कमलनाथ ने निर्देश जारी किए हैं। इसके बाद किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ होगा और जिन किसानों ने 11 दिसंबर 2019 तक पूरा या कर्ज का कुछ भाग जमा भी कर दिया है तो उनको भी कर्जमाफी का लाभ मिलेगा।

यूपी के सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने कहा कि साल 1952 से लेकर 2019 तक देश के 100 उद्योगपतियों को जितना पैसा दिया गया, उस पैसे का सिर्फ 17 फीसद धन ही केंद्र और राज्य सरकारों ने किसानों को आर्थिक सहायता राशि के तौर पर अब तक दिया है।