health

वायु प्रदूषण के चलते शरीर के इम्यूनिटी सिस्टम के कमजोर होने से प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता भी कमजोर हो जाती है। प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता कमजोर होने से हमारा शरीर बाहरी बैक्टीरिया से लड़ने में असमर्थ हो जाता है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-NCR में लगातार बढ़ रहे प्रदुषण के मद्देनजर बड़ा आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा करते हुए 5 नवंबर तक निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली : कई लोगों को ऐसा लगता है कि अर्थराइटिस या गठिया बुजुर्गों की बीमारी है लेकिन सच्चाई ये है कि ये बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है। मूल रूप से ऑस्टियोअर्थराइटिस, अर्थराइटिस का ही एक रूप है, जो कि उम्र बढऩे पर अधिक पाई जाती है, लेकिन रूमेटाइड अर्थराइटिस किसी भी …

नई दिल्ली : प्लास्टिक पर्यावरण के लिए बेहद खतरनाक तो है ही, हमारी सेहत के लिए भी घातक है। आप अपने किचन या फिर ऑफिस के आस-पास नजर दौड़ाएंगे तो बहुत ही कम संभावना है कि आपको प्लास्टिक वाली पानी की बोतलें, कॉफी के कप, स्ट्रॉ, थैलियां, कंटेनर या फिर पानी के गिलास जैसे सिंगल …

नई दिल्ली : मड़ुआ या रागी सेहत के लिये बहुत मुफीद मानी जाती है। वजन घटाने के लिए इस अनाज का प्रयोग बहुत फायदेमंद होता है। रागी को मोटे अनाजों में शुमार किया जाता है। इसमें प्रोटीन, केल्शियम, आयरन, ट्रिपटोफैन, मिथियोनिन और फाइबर मौजूद होते हैं। इसे हाई फाइबर फूड्स में काउंट किया जाता है। …

उसके किस विटामिन की कमी है क्या बीमारी है। यह ऐसा एप है जो 38 बीमारियों का पता कर लेता है। प्रदेश में पोषण माह के पहले पखवाड़े (1 से 15 सितंबर) में आरबीएसके एप के जरिये 8405 बच्चे संदर्भित किए गए हैं। इसमें अधिकांश बच्चों में विटामिन ए की कमी पाई गई है। जबकि कुछ बच्चों में

नई दिल्ली : पारंपरिक सफेद लहसुन का इस्तेमाल भारतीय खानों में प्रमुखता से किया जाता है। लेकिन काले लहसुन यानी ब्लैक गार्लिक और उसके फायदों के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। ये सफेद लहसुन का ही एक रूप है। हालांकि ब्लैक गार्लिक के हेल्थ से जुड़े अनेकों फायदे हैं। यह भी पढ़ें …

नई दिल्ली: ज्यादातर टूथपेस्ट दांत चमकाने का दावा करते हैं. लेकिन यह दावा पूरी तरह सच नहीं है, ऐसे टूथपेस्ट खासतौर पर दांतों को नुकसान पहुंचाते हैं। चार अलग अलग ऊतकों से बनने वाले दांत इंसान के शरीर में सबसे मजबूत संरचना हैं। इन ऊतकों को पल्प, डेन्टिन, इनैमल और सीमेंटम कहा जाता है। पल्प …

हर व्यक्ति अपने आप को स्वस्थ रखना चाहता है। डाक्टर से लेकर बैद्य, बड़े और बुढ़ो से सुना होगा कि अपने को स्वस्थ रखने के लिए भोजन अल्प मात्रा में करना चाहिए, साथ ही भोजन में हरे पत्तेदार सब्जियों का प्रयोग करना चाहिए जानता है

जीने के लिए सांस लेना जरूरी है। और जिस हवा में हम सांस लें उसको भी शुद्ध होना चाहिए। दुर्भाग्य से शुद्ध हवा दुर्लभ चीज होती जा रही है - खास कर शहरों में जहां वाहनों, कारखानों का धुंआ, धूल, गर्द हवा में हमेशा घुला मिला रहता है। ऐसे में घर के भीतर की हवा सबसे साफ और प्रदूषण से मुक्त प्रतीत होती है।