health

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) द्वारा तैयार सामाजिक बदलाव सूचकांक में भारत 82 देशों में से 76वें नंबर पर रहा।  सामाजिक बदलाव के मामले में भारत दुनिया के प्रमुख देशों में बहुत पीछे है। डब्ल्यूईएफ की 50वीं वार्षिक बैठक से पहले यह सूचकांक जारी किया गया है।

हेल्थ काउन्सिल युवा आइकान ट्विंकल कंसल ने राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए उनके स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त किये।

घर में कोई बच्चा होता है तो उसका ख्याल अधिक रखा जाता है ताकी उसे कोई समस्या न हो। जब बच्चा 6 महीने का हो जाता है तो उसे दूध के अलावा ऐसा क्या दें जो उसके लिए फायदेमंद है। आमतौर में घरों में मौजूद लोग बच्चों के  खाने की चीजें देने से मना करते है, लेकिन बच्चे के मुंह का स्वाद बदलने के लिए उसे खाने में नमक

ऑफिस में ज्यादा देर तक रूक कर काम करने की आदत है तो बदल दीजिए, वरना यह आदत आपको पड़ सकती है महंगी। ज्यादातर लोग अपने बॉस खुश करने के चक्कर में अपने ऑफिस टाइम के अलावा भी देर तक काम करते हैं या फिर ओवरटाइम के लिए काम करते हैं। लेकिन आपकी यह आदत …

चर्चित उन्नाव रेप केस में दुष्कर्म पीड़िता की छोटी बहन की रविवार रात अचानक हालत बिगड़ गई। छाती और पेट में तेज दर्द के साथ घबराहट और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत पर परिजनों के साथ बीघापुर एसओ जीप से उसे पाटन सीएचसी लेकर पहुंचे।

पुरुष हो या महिला नाभि हमारे शरीर का ऐसा हिस्सा होता है जो शरीर के सभी भागों से जुड़ा है। पेट दर्द होने पर नाभि में हींग लगाने से आराम मिलता है। ऐसी कई सारी चीजें नाभि पर लगाने से आराम मिलता है। नाभि में कुछ चीजों के पुरुषों को भी लगाना चाहिए इससे कई तरह के फायदे होते हैं

नई दिल्ली : उम्र बढऩे के साथ-साथ हमारे इम्यून सिस्टम में भी बदलाव होते हैं। 50 की उम्र पार करते ही शरीर के ब्लड प्रेशर लेवल का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। सामान्य तौर पर हमारे ब्लड प्रेशर को दो तरह से पढ़ा जाता है, सिस्टोलिक और डायस्टोलिक। सामान्य ब्लड प्रेशर का लेवल …

नई दिल्ली: बाजार में बहुत सारे दूध के विकल्प उपलब्ध हैं, जो न केवल वजन घटाने में मदद करते हैं, बल्कि उन लोगों के लिए भी उपयुक्त हैं जिन्हें दूध से एलर्जी है। गाय का दूध आपके शरीर के लिए दैनिक कैल्शियम और विटामिन डी का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। लेकिन अगर किसी भी कारण …

वायु प्रदूषण के चलते शरीर के इम्यूनिटी सिस्टम के कमजोर होने से प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता भी कमजोर हो जाती है। प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता कमजोर होने से हमारा शरीर बाहरी बैक्टीरिया से लड़ने में असमर्थ हो जाता है।