health

खानपान का मनुष्य की सेहत पर बहुत असर पड़ता हैं, लेकिन बिगडती सेहत में व्यक्ति के भोजन का भी महत्व रहता है। अक्सर देखा जाता हैं कि लोग भोजन करने के  बाद कुछ ऐसे काम करते हैं जो  सेहत पर नकारात्मक प्रभाव डालता हैं। तो जानते हैं इसके बारे में।

जयपुर गर्मियों के मौसम में सेहत का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता हैं जिसमे सबसे बड़ा चैलेंज शरीर को अंदरूनी ताजगी देना होता है।, गर्मियों में पंखा, कूलर, एसी आदि की मदद से शरीर को बाहर से तो ठंडा कर लिया जाता हैं

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय के सप्ताह भर चलने वाले कार्यक्रमों की कड़ी में शुक्रवार को ‘योग एवं स्वास्थ्य’ विषय को समर्पित किया गया। यह वेबिनार ‘देखो अपना देश’ सीरिज के तहत आयोजित किया गया।

कोई भी फल सेहत के लिए अच्छा होता है। सीजनल फल तो लोग बड़े चाव से खाते हैं। क्योंकि जिस सीजन में जो फल होता है वह सस्ता मिलता है। इसे खाने  सेहत भी अच्छी रहती है। जैसे गर्मियों मे आम तरबूज, खरबूज अंगूर खूब खाएं जाते हैं।

अक्सर आप बात बात पर लोगों रोते देखते होंगे। अगर लड़का रोएं, तो कहते है कि पागल है, क्योंकि लड़के कभी रोते नहीं है। वहीं लड़कियों के रोने पर उन्हें चुप कराया जाता है। इमोशनल कहा जाता है। यहां तक की उनका नाम 'क्राई बेबी' रख देते है। माना जाता है कि जो लोग रोते है वह दिल से कमजोर होते है। समाज उसे कमजोर मानता है, लेकिन यह बिल्कुल गलत है। हर बात पर रोते है तो ये गुण है।

मन में बेवजह की चिड़चिड़ाहट, छोटी सी बात पर गुस्सा, कुछ खाने-पीने का मन न करना, अकेले रहने की जगह तलाशना, ज़रा सी बात पर रो देना, दूसरों से देखभाल की उम्मीद करना। बहुत अजीब सा मूड होता है पीरियड्स के दौरान।

कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया आतंकित हैं इस वायरस ने लाखों लोगों की जान ले ली है। अभी तक इसका कारगर इलाज नहीं निकला है। लेकिन कोरोना मरीजों के इलाज के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के इस्तेमाल की बात की जा रही थी लेकिन इसे लेकर वाद-विवाद का दौर जारी है।

जनस्वास्थ्य क्षेत्र में निवेश बढ़ाया जाएगा। इसके लिए रिफॉर्म्स किए जाएंगे। ग्रामीण स्तर पर ऐसी सुविधाएं देने की आवश्यकता है जो महामारी की स्थिति में लड़ने की क्षमता हो। इसके लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में निवेश बढ़ाया जाएगा।

शरीर को डिटॉक्स करना बेहद जरूरी है, क्योंकि इससे शरीर के अंदर जमे विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। वैसे तो हर मौसम में शरीर को डिटॉक्स करना जरूरी है लेकिन गर्मियों में शरीर को डिटॉक्स करने से ज्यादा फायदा मिलता है।

फ्री रेडिकल्स के कारण ऑक्सीडेटिव तनाव पैदा होता है जो कोशिकाओं को क्षति पहुंचाने के साथ अल्जाइमर (भूलने की बीमारी), हृदय रोग और डायबिटीज जैसी कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है।