scientist

वैज्ञानिकों ने एक ऐसी आकाशगंगा के अस्तित्व को खोज निकाला है जिसकी मौत धीरे-धीरे हो रही है। बता दें, ऐसा पहली बार हुआ है कि जब वैज्ञानिक (Scientist) किसी आकाशगंगा को मरते (Galaxy Death) हुए देख रहे हैं।

लेबोरेटरीज में कई नई प्रजातियां खोजी जा रही हैं लेकिन जंगल में जाकर इस तरह से पूरी तरह से नई प्रजाति ढूंढना एकदम नया है।इस चमगादड़ की नई प्रजाति का नाम मायोटिस निंबेन्सिस है

महान वैज्ञानिक स्टीफेन हॉकिंग का आज जन्मदिन है। तीन साल पहले वे इस दुनिया से हमेशा के लिए विदा हो गए थे, लेकिन आज भी स्टीफेन का नाम बड़ी ही शान और गर्व से लिया जाता है। वहीं उनके नाम मात्र ले लेने से ऐसा लगता है कि वे अभी भी इस दुनिया में हैं।

वैज्ञानिक परेशान है कि इसे किस तरह से मैनेज किया जाए। इस वक्त धरती सामान्य गति से तेज गति से चल रही है। 24 घंटे से पहले धरती अपनी धुरी पर एक चक्कर पूरा कर रही है। बता दें, धरती में तेजी से ये परिवर्तन बीते साल के मध्य में आया था।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इससे पहले अपने एक अन्य ट्वीट में डीसीजीआई से सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बॉयोटेक की वैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी मिलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी।

जगदीश चंद्र बोस का जन्म फरीदपुर (अब बांग्लादेश) में भगवान चन्द्र बोस के यहां 30 नवम्बर 1858 को हुआ था। बोस ने कलकत्ता के सेन्ट ज़ेवियर कालेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की फिर मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए लंदन चले गए।

चीन से फैला कोरोना वायरस दुनियाभर में तबाही मचा रहा है। इस किलर वायरस को लेकर चीन पर झूठ बोलने और इसके सच को छिपाने के आरोप लग रहे हैं। अब रूस के एक वैज्ञानिक ने इस वायरस को चीन के वैज्ञानिकों की सनक बताया है।

वैश्विक महामारी नोवेल कोरोना में पेट भरने के लिए घरों में बाजार से फल और सब्जियां जरूर आती हैं। इससे संक्रमण घरों तक पहुंचने की संभावना भी होती है। ज्यादातर लोग फलों और सब्जियों को अच्छी तरह से नहीं साफ करते हैं।

कोरोना वायरस से आज पूरी दुनिया में कई मौतें हो चुकी है और कई हजार लोग इस वायरस से संक्रमित भी हैं। इसे देखते हुए अधिकतर देशों मे लॉकडाउन जारी किया गया है।

कोरोना को हराने के लिए वैज्ञानिक लगातार कोशिश कर रहे हैं। दुनिया के कई देश इससे लड़ने के लिए दवा बनाने का काम तेजी से कर रहे हैं। हालांकि अब...