झांसी से रवाना होंगी श्रमिक स्पेशल ट्रेनें, इतने हजार मजदूर जाएंगे अपने घर

झांसी: श्रमिकों को अपने गंतव्य तक पहुंचाने हेतु नियमित रूप से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। इसी क्रम में आज झांसी से गोरखपुर, छपरा तथा दीन दयाल उपाध्याय जं. एक – एक तथा तथा ललितपुर से गोरखपुर से एक ट्रेन का संचालन किया जा रहा है जिसमें लगभग 7000 से अधिक श्रमिकों को अपने गंतव्य की ओर रवाना किया जाएगा। इसके साथ ही आवश्यकतानुसार/ उपलब्धता के आधार पर भी इन ट्रेनों की व्यवस्था की जा रही है ।

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार का एक साल: जश्न का मेगा प्लान, इतना भव्य होगा आयोजन

कैटरिंग स्टाफ के साथ स्काउट व गाइड्स भी कर रहे सहयोग

गोरखपुर जाने वाली गाड़ियां गोंडा एवं बस्ती स्टेशन पर, छपरा जाने वाली स्पेशल फैजाबाद, बस्ती एवं गोरखपुर स्टेशन तथा दीन दयाल उपाध्याय जं. जाने वाली गाड़ी प्रयागराज, भदोही तथा वाराणसी जं. पर भी रूकेगी । इन स्टेशनों पर श्रमिक उतर सकेंगे। झांसी स्टेशन पर श्रमिकों के खानपान, स्नैक्स तथा पानी की उचित व्यवस्था की जा रही है। रेलवे के साथ-साथ आईआरसीटीसी भी खानपान देने हेतु अपना योगदान दे रहा है। यात्रियों को खान-पान देने हेतु कैटरिंग स्टाफ के साथ –साथ टिकट चेकिंग स्टाफ, स्काउटस एवं गाइडस उल्लेखनीय भूमिका निभा रहे हैं, जिससे श्रमिक यात्रियों को खाद्य सामग्री का वितरण ठीक प्रकार से सुनिश्चित किया जा सके।

ये भी पढ़ें: यूनिवर्सिटी में ई-कार्यशाला, विशेषज्ञ बोले- कोरोना काल में भारत से सीखे विश्व

झांसी मंडल में पहुंचे 1600 यात्री

इसके साथ ही बड़ी संख्या में श्रमिक स्पेशल गाड़ियों से मंडल के विभिन्न स्टेशनों जैसे झाँसी, ग्वालियर, एवं,उरई आदि पर पहुंचे। ये श्रमिक गाड़ियां कोसीकलां, कुद्दपाह, नांबुरु आदि स्थानों से आ रही हैं। इनसे झाँसी मंडल में लगभग 1600 यात्री पहुंचे। इसके अलावा एसी. स्पेशल रेलगाड़ियों से भी बड़ी संख्या में यात्री झाँसी स्टेशन पहुंच रहे है। सभी यात्रियों के लिए मास्क की अनिवार्यता है, उनकी थर्मल स्कैनिंग के साथ उनके हाथ भी सैनिटाइज कराये जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें: भारत में कोरोना का कहर, चीन ने अपने नागरिकों पर लिया ये फैसला

28 रेलगाड़ियों का ठहराव झांसी मंडल पर

झांसी मंडल के 11 स्टेशनों पर आज से आरक्षण निरस्तीकरण पूर्व की भांति पुन: प्रारंभ कर दिया गया है । लाक डाउन के चलते आरक्षण केन्द्र विभिन्न यात्री सेवाओं की तरह बन्द थी। 22 मई से आरक्षण केन्द्रों से टिकट आरक्षित करने की सेवा शुरूआत की जा चुकी है। 01 जून से प्रारंभ होने वाली स्पेशल गाड़ियों में 28 रेलगाड़ियों का ठहराव झाँसी मंडल के विभिन्न स्टेशनों जैसे झांसी, ग्वालियर, उरई, ललितपुर, मुरैना, डबरा, बबीना, एट, चिरगांव, भीमसेन, पुखरायां आदि स्टेशनों पर है। टिकटों के निरस्तीकरण के पहले दिन मंडल में 244 टिकट यात्रियों द्वारा रद्द कराये गये जिनमें झांसी में 166 तथा ग्वालियर में 78 टिकट निरस्त हुए।

ये भी पढ़ें: कोरोना टेस्टिंग न होने के चलते बलिया में मजदूर बन रहे आफत

मंडल स्तर पर हो रही हैं ट्रेनों की मॉनिटरिंग

भारतीय रेल द्वारा श्रमिक विशेष ट्रेनों के परिचालन को निरंतर बढ़ाया जा रहा है और उत्तर मध्य रेलवे द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य के अंदर चलने वाली श्रमिक ट्रेनों के अतिरिक्त अन्य राज्यों से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तर पूर्वी राज्यों की ओर जाने वाले कुल श्रमिक ट्रेनों के यातायात का एक बड़ा हिस्सा वहन किया जा रहा है। श्रमिक ट्रेनों को गंतव्य तक और खाली कोचिंग रेक को ओरिजिनेटिंग स्टेशन तक पहुंचाने के क्रम में प्रतिदिन औसतन 210 ट्रेनों का उत्तर मध्य रेलवे द्वारा परिचालन किया जा रहा है। प्रत्येक श्रमिक ट्रेन एवं खाली रेकों के सुचारु संचालन हेतु उस पर उत्तर मध्य रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मुख्यालय एवं मंडल स्तर पर सतत मॉनिटरिंग की जा रही है।

ये भी पढ़ें: सीमा पर चीन की नापाक हरकत, भारत ने दिया करारा जवाब

गर्भवती महिलाओं को प्रदान की गई चिकित्सा

उत्तर मध्य रेलवे ने अपने क्षेत्र के सभी वाटरिंग स्टेशनों पर श्रमिक विशेष ट्रेनों में कोच वाटरिंग की विस्तृत व्यवस्था की है। आईआरसीटीसी की सहायता से उत्तर मध्य रेलवे विभिन्न स्टेशनों पर सभी श्रमिक विशेष ट्रेनों में भोजन और पानी की बोतलें उपलब्ध कराना सुनिश्चित कर रहा है। भोजन और पानी के अलावा, इन ट्रेनों से यात्रा करने वाले प्रवासियों और अन्य व्यक्तियों को चिकित्सा सहायता और अन्य आपातकालीन मदद भी प्रदान की जा रही है। अब तक उत्तर मध्य रेलवे के डॉक्टरों ने अन्य कर्मचारियों की मदद से 13 शिशुओं के सुरक्षित प्रसव के लिए श्रमिक विशेष गाड़ियों में यात्रा कर रही गर्भवती महिला यात्रियों को आवश्यक चिकित्सा सहायता प्रदान की है।

ये भी पढ़ें: सौ बरस की हुईं Narendra Modi की मां बधाई और नमन…

रिपोर्ट: बीके कुशवाहा