Top

चीन और पाकिस्तान आए निशाने पर, ये हैं आकाश में भारत के सुरक्षा प्रहरी

अमेरिकी एविएशन कंपनी बोइंग ने भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को सभी अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टर की डिलीवरी कर दी है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 10 July 2020 11:43 AM GMT

चीन और पाकिस्तान आए निशाने पर, ये हैं आकाश में भारत के सुरक्षा प्रहरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: अमेरिकी एविएशन कंपनी बोइंग ने भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को सभी अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टर की डिलीवरी कर दी है। 22 में से अंतिम पांच अपाचे हेलीकॉप्टर की डिलीवरी बोइंग ने शुक्रवार को की है। इन हेलिकॉपर्ट्स की डिलीवरी Air Force के हिंडन एयरबेस पर की गई। उससे पहले अमेरिकी कंपनी ने भारतीय वायुसेना को 5 चिनूक हेलिकॉप्टर को मार्च में सौंपे थे।

बोइंग इंडिया ने इंडियन एयर फोर्स को किया धन्यवाद

वहीं डिलीवरी के बाद बोइंग इंडिया ने इंडियन एयर फोर्स को धन्यवाद भी कहा है। बोइंग इंडिया ने अपने ऑफिशयल ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा कि भारतीय वायु सेना (IAF) को हमारे साथ भागीदारी करने के लिए धन्यवाद। हम भारत में 22 एएच64-ई अपाचे और 15 चिनूक हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी पूरी करते खुश हैं।

यह भी पढ़ें: विकास दुबे एनकाउंटरः शुरू हो गई ब्राह्मण वोटों को अपने पाले में लाने की कवायद



अपाचे हेलीकॉप्टर इन तकनीकों से है लैस

बता दें कि भारत उन 17 देशों में शामिल है, जिसने अपाचे हेलीकॉप्टर का चयन किया है। अमेरिका समेत कई अन्य देश भी इस हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल करते हैं। भारत को जिन अपाचे हेलीकॉप्टर (AH-64E Apache) की डिलीवरी की गई है, वह इसका सबसे उन्नत संस्करण है। यह अपाचे नवीनतम संचार, नेविगेशन, सेंसर और हथियार प्रणालियों समेत एक ओपन सिस्टम आर्किटेक्चर से लैस है।

यह भी पढ़ें: पुरूषों में बढ़ता खतरा: सामने आई ये चौकानें वाली रिपोर्ट, 18-35 वालों ने तोड़ा रिकार्ड

अपनी मारक क्षमता के लिए है मशहूर

बता दें कि अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्टर 350 किमी/ प्रति घंटे से ज्यादा रफ्तार से उड़ान भरने में सक्षम है। पिछले साल ही इसे वायुसेना के बेड़े में शामिल किया गया। पूरी दुनिया में यह अपनी मारक क्षमता के लिए काफी मशहूर है। इसमें आधुनिक टारगेट एक्विजिशन डेसिग्नेशन सिस्टम भी है जो मौसम की जानकारी देता रहता है। साथ ही यह अंधेरे में भी देख सकता है। समुद्र के ऊपर उड़ान भरने और ऑपरेशन करने में भी यह सक्षम है।

यह भी पढ़ें: केकड़ा बचाएगा दुनिया: इसका नीला खून बनेगा अमृत, बचेगी लोगों की जान

चिनूक हेलीकॉप्टर 50 साल से ज्यादा समय से है दुनिया का भरोसेमंद

वहीं अगर चिनूक हेलीकॉप्टर की बात की जाए तो यह हेलीकॉप्टर 50 साल से भी ज्यादा वक्त से दुनिया का सबसे भरोसेमंद हैवीलिफ्ट हेलीकॉप्टर है। दुनिया के 24 देशों के पास यहा तो चिनूक हेलीकॉप्टर है या फिर इनके लिए सौदा किया जा चुका है। चिनूक की खास बात यह है कि इसे किसी भी परिस्थितियों में सर्दी हो या गर्मी, या फिर अधिक ऊंचाई ही क्यों ना हो, आसानी से संचालित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: विकास दुबे की आई कोरोना रिपोर्ट, एनकाउंटर स्थल पर लगे जिंदाबाद के नारे

किसी भी मौसम में अभियान को सफल बनाने में सक्षम

चिनूक हेलिकॉप्टर ज्यादा ऊंचाई या ज्यादा गर्म जगहों पर भी यह सफलतापूर्व उड़ान भर सकता है और अपने काम को अंजाम दे सकता है। इसमें मॉडर्न एयरफ्रेम, कॉमन एवियोनिक्स आर्किटेक्चर सिस्टम कॉकपिट और डिजिटल ऑटोमैटिक कंट्रोल सिस्टम होता है। यह हर मौसम में अभियान को सफल बनाने की क्षमता रखता है। इसके आधुनिक तकनीकों से भारतीय वायुसेना की ताकत में और इजाफा होगा।

यह भी पढ़ें: 12th का रिजल्ट जारी: 96.84 फीसदी बच्चे हुए पास, जानें क्या है इस बार खास

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story