×

चीन का खौफनाक सच सामने: ऑनलाइन पढ़ें इस डायरी को, रोंगटे खड़े हो जाएँगे

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कहर मचा दिया है। लाखों के पार हुए आंकड़े कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। चीन के वुहान से फैले इस वायरस ने तबाही की कगार पर लाकर खड़ा दिया है।

Vidushi Mishra
Updated on: 24 April 2020 9:35 AM GMT
चीन का खौफनाक सच सामने: ऑनलाइन पढ़ें इस डायरी को, रोंगटे खड़े हो जाएँगे
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कहर मचा दिया है। लाखों के पार हुए आंकड़े कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। चीन के वुहान से फैले इस वायरस ने तबाही की कगार पर लाकर खड़ा दिया है। लेकिन चीन ने शुरू से ही इसकी जानकारी और सूचना देेने से लेकर सभी में अपनी मनमानी की है। इस स्थिति में यह आरोप लगना बिल्कुल सही है कि चीन की वजह से दुनिया इस तबाही तक पहुंच गई है। इन सभी के बीच चीन के वुहान शहर में हुए लॉकडाउन के दौरान एक महिला ने डायरी में कुछ ऐसा लिखा है जो अब सामने आ गया है।

ये भी पढ़ें...सरकार ने बनाया मास्टर प्लान, ऐसे पटरी पर आएगी सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था

चीन के वुहान का सारा सच

चीन के वुहान में जिस समय कोरोना वायरस फैला, उस समय फैंग-फैंग नाम की एक महिला हर रोज डायरी लिखती थी। वो इस डायरी में चीन के वुहान का सारा सच लिखती थी। उसने मौत, मातम और यातना तक के सारे किस्से इसमें लिख डाले।

शुरूआत में चीन के लोग भी उसके दीवाने हुए लेकिन जैसे ही उन्हें पता चला कि पूरी कहानी जर्मन और इंग्लिश में आ रही है तो उन्होंने इस नायिका को खलनायिका बना डाला और फिर फैंग-फैंग को मौत की धमकियां मिलने लगीं।

इस अवॉर्ड विजेता लेखिका फैंग-फैंग को अब जान से मारने की धमकी मिल रही है। लेखिका को ये धमकी खुद चीन की तरफ से ही मिल रही है। इसमें फैंग-फैंग का कसूर केवल ये है कि उन्होंने वो सच बयां किया है जो- जो चीजे चीन में हुई है।

ये भी पढ़ें...बंगाल में छिड़ी ये नई जंग, आमने सामने राज्यपाल और ममता बनर्जी

कब्रिस्तानों में फैले मातम के बारे में

उस महिला ने 76 दिनों के लॉकडाउऩ में इस वुहान वायरस के बारे में लिख दिया है, जो पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है।

लेखिका फैंग-फैंग ने उस समय की वुहान की स्थिति, चीन अथॉरिटी की करतूत, अस्पतालों में मरीजों के साथ बर्बरता, श्मशान और कब्रिस्तानों में फैले मातम के बारे में लिखा। इसके साथ ही नहीं उस महिला ने ये सब लिखा तो लिखा, लेकिन ऑनलाइन भी कर दिया। अब चीन लेखिका के पीछे पड़ गया है।

चीनी लेखिका फैंग-फैंग की ये वुहान डायरी जर्मन और इंग्लिश में छपी है। लेखिका फैंग फैंग ने डायरी के ऑनलाइन वर्जन में कुल 64 पोस्ट डाली हैं। उन्होंने किसी अच्छे रिपोर्टर की तरह जो देखा वो लिखा, जो सुना वो लिखा।

ये भी पढ़ें...कोरोना से दिल्ली बेहाल: डॉक्टर-मेडिकल स्टाफ सहित 39 कर्मचारी संक्रमित

मुझे ये तस्वीर मेरे एक डॉक्टर मित्र ने भेजी

लेखिका की डायरी के कुछ पन्नों पर नजर डालें तो 13 फरवरी को फैंग-फैंग एक कब्रिस्तान की तस्वीर लगाकर लिखती हैं, 'मुझे ये तस्वीर मेरे एक डॉक्टर मित्र ने भेजी है। यहां चारों तरफ फर्श पर मोबाइल फोन बिखरे पड़े हैं. कभी इन मोबाइल का कोई मालिक भी रहा होगा।'

उस समय जब चीन की सरकार मौतों की संख्या छिपाने में लगी थी, फैंग-फैंग ने सारे चिठ्ठेे खोल है कि कब्रिस्तानों में मोबाइल बिखरे पड़े थे, वो बिखरे मोबाइल संकेत थे कि मौतें किस रफ्तार से हो रही थीं।

ये भी पढ़ें...ATM में मौत की घंटी: दिमाग में डाल लें ये 8 बातें, बिल्कुल न करें ये काम

अस्पतालों में जगह नहीं है

इसके बाद 17 फरवरी के पन्ने पर लेखिका फैंग-फैंग ने लिखा, 'अस्पताल कुछ दिनों तक मृत्यु सर्टिफिकेट बांटते रहेंगे और शव वाहनों में कई शव श्मशानों तक पहुंचाए जाते रहेंगे और ये वाहन दिन में कई चक्कर लगाते रहेंगे।'

इस किताब को लिखने के पीछे लेखिका फैंग-फैंग का मकसद सिर्फ मौत की तांडव गाथा लिखने की नहीं थी। उन्होंने अस्पतालों की दुर्दशा के बारे में भी लिखा। अस्पतालों में जगह नहीं है, डॉक्टर मरीजों को देख तक नहीं पा रहे, किसी को किसी की फिक्र ही नहीं है। ये सब भी उन्होंने लिखा। लेकिन उसके बाद से ही चीन लेखिका के पीछे पड़ा हुआ है।

ये भी पढ़ें...न करें ऐसा: फिर यहां कोरोना के शक में हुआ हमला, गटर में गिरने से हुई मौत

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story