कोरोना वायरस: अमेरिका में एक दिन में हुई मौतों ने पूरी दुनिया को हिला दिया

कोविड-19 का सबसे बड़ा गढ़ बन चुके अमेरिका में एक दिन में 884 लोगों की मौत हो गई। इससे देश में मरने वालों का कुल आंकड़ा बढ़कर 4,475 पहुंच…

नई दिल्ली: कोविड-19 का सबसे बड़ा गढ़ बन चुके अमेरिका में एक दिन में 884 लोगों की मौत हो गई। इससे देश में मरने वालों का कुल आंकड़ा बढ़कर 4,475 पहुंच गया है। अमेरिका में 2,13,372 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, जो दुनिया में सबसे ज्‍यादा है। इस समय दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्‍या 9 लाख 30 हजार से ऊपर पहुंच गई है, जबकि 47 हजार से ज्‍यादा लोग मारे गए हैं।

ये पढ़ें- अरुणाचल प्रदेश में तबलीगी जमात से जुड़े 7 लोगों को भेजा गया क्वारनटीन सेंटर

न्यूयॉर्क में 1300 के पार हुई संख्या

जॉन हापकिन्‍स यूनिवर्सिटी के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में अमेरिका में 884 लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो गई है। अमेरिका में एक दिन में मरने वालों की अब तक की सबसे बड़ी संख्‍या है। इस बीच अमेरिका में कोरोना वायरस के सबसे बड़ा गढ़ बन चुके न्‍यूयॉर्क में मरने वालों की संख्‍या 1300 पार कर गई है। इस महासंकट में अमेरिका में अस्‍पतालों में मास्‍क और अन्‍य चिकित्‍सा सामानों की भारी कमी हो गई है।

ये पढ़ें- क्या है डोमिसाइल कानून और इसके लागू होने से क्या-क्या फायदा मिलेगा, यहां जानें

नौसैनिक भी संक्रमण में

इस बीच अमेरिका ने फैसला किया है कि अपने विमानवाहक पोत थियोडोर रुजवेल्‍ट से 3000 नौसैनिकों को निकालने का फैसला किया है। इन नौसैनिक को गुआम के होटलों में क्‍वारंटाइन किया जाएगा। इस बीच पोत पर कोरोना से संक्रमित नौसैनिकों की संख्‍या बढ़कर 100 हो गई है। कोरोना वायरस से अमेरिका के लॉस एंजिलिस शहर में पीपीई किट की भारी कमी हो गई है। यहां पर कोरोना वायरस से संक्रमण के 10 हजार मरीज हैं।

ये पढ़ें- LOCKDOWN: सुष्मिता सेन ब्वॉयफ्रेंड संग कर रही ये काम, कहा- कमिटेड रहना…

कनेक्टिकट में 1.5 महीने के बच्चे की हुई मौत

इस बीच अमेरिका में 1.5 महीने के बच्‍चे की मौत ने सबको हैरान कर दिया है। बताया जा रहा है कि उसकी कोरोना वायरस के संक्रमण से ही मौत हो गई है। अमेरिकी राज्य कनेक्टिकट के गवर्नर ने कहा कि यह कोरोना वायरस से हुई सबसे कम उम्र की मौतों में से एक है। गवर्नर नेड लामोंट ने ट्वीट कर बताया कि नवजात को पिछले सप्ताह एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसे बचाया नहीं जा सका।

ये पढ़ें- उर्वशी रौतेला पर लगते रहे हैं ऐसे आरोप, एक्ट्रेस ने PM मोदी को भी नहीं छोड़ा…

अस्थायी अस्पतालों में लगे हैं आर्मी वाले

अमेरिका में हर जगह अस्थायी अस्पताल बनाए जा रहे हैं और इस काम के लिए आर्मी को लगा दिया गया है। इसके अलावा दूसरे संगठन भी अस्पताल बनाने के काम में जुट गए हैं। सिएटल में फोर्ट कार्सन और जाइन बेस लेविस मैककॉर्ड से पहुंचे सेना के जवान फील्ड अस्पताल बनाने में जुटे हुए हैं। यहां 250 बेड का अस्पताल बनाया जा रहा है। दूसरी जगह बेड कम पड़ने पर मरीजों को वहीं ले जाया जाएगा।

ये पढ़ें- केंद्र सरकार ने आर्टिकल 370 और 35 ए के बाद कश्मीर को लेकर लिया ये बड़ा फैसला

न्यूयॉर्क में 1000 बेड का अस्पताल

नेवी ने अपने जहाज में चल रहे 1000 बेड के अस्पताल को न्यूयॉर्क पोर्ट पर खड़ा कर दिया है। यहां हालांकि कोरोना मरीजों का इलाज नहीं किया जाएगा। अस्पताल में बेड की कमी पर आम मरीजों का यहां इलाज किया जाएगा। न्यूयॉर्कक का मशहूर सेंट्रल पार्क जो राजनीतिक गतिविधियों के लिए भी खासा मशहूर है। वहां भी तंबुओं के सहारे अस्थायी अस्पताल बनाए गए हैं। इस काम में गैर सरकारी संस्थाएं भी मदद कर रही हैं।

ये भी पढ़ें- कोरोना से निपटने में लापरवाही, यहां के स्वास्थ्य मंत्री और उप प्रधानमंत्री बर्खास्त

लॉकडाउन तोड़े तो मार दो गोली, इस देश के राष्ट्रपति ने दिया बड़ा आदेश

Lockdown- वर्क फ्रॉम हॉम ने बढ़ाई महिलाओं की समस्या, रोज हो रहे ये अत्याचार

इस बड़े बैंक के ग्राहकों को तगड़ा झटका, लिया ये बड़ा फैसला