Top

INX Media Case: कोर्ट की इजाजत, ED कभी भी कर सकती है चिदंबरम को गिरफ्तार

Harsh Pandey

By Harsh Pandey

Published on 15 Oct 2019 1:00 PM GMT

INX Media Case: कोर्ट की इजाजत, ED कभी भी कर सकती है चिदंबरम को गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री पी.चिदंबरम की मुश्किलें लगातार बढ़ रही है। बता दें कि INX Media Case में मंगलवार को दिल्ली की अदालत ने ईडी को पी चिदंबरम से पूछताछ की इजाजत दे दी है।

यह भी पढ़ें. अरे ऐसा भी क्या! बाथरूम में लड़कियां सोचती हैं ये सब

दरअसल, दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में ईडी की टीम को बुधवार को तिहाड़ जेल जाने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें. झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

कोर्ट ने निर्देश देते हुए कहा है कि ईडी तिहाड़ जेल में जाकर चिदंबरम से पूछताछ करेगी, जिसके बाद वह चिदम्बरम को गिरफ्तार कर सकती है।

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

गिरफ्तार करने के लिए बतानी होगी वजह...

इसके साथ ही ईडी, जेल प्रशासन को चिदंबरम को गिरफ्तार करने की वजह बतानी होगी, साथ ही बताया जा रहा है कि गिरफ्तारी के 24 घंटे के अंदर कोर्ट में पेश करके पूर्व गृह मंत्री की कस्टडी लेगी।

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

इसके साथ ही बड़ी खबर आ रह है कि कल सुबह 8 बजे ईडी की टीम पूछताछ के लिए तिहाड़ जाएगी।

चिदंबरम ने SC में कहा...

यह भी पढ़ें. होंठों का ये राज! मर्द हो तो जरूर जान लो, किताबों में भी नहीं ये ज्ञान

इससे पहले पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम की जमानत याचिका पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई, चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट से जमानत मांगते हुए मंगलवार को कहा कि सीबीआई अपमानित करने के लिए उन्हें जेल में रखना चाहती है।

यह है पूरा मामला…

यह भी पढ़ें. बेस्ट फ्रेंड बनेगी गर्लफ्रेंड! आज ही आजमाइये ये टिप्स

पूरा मामला चिदंबरम के वित्त मंत्री कार्यकाल का है, इस दौरान सीबीआई ने 15 मई 2017 को 2007 में आईएनएक्स मीडिया समूह को एफआईपीबी की मंजूरी दिलाने में बरती गई कथित अनियमितताओं को लेकर एफआईआर दर्ज की थी।

यह भी पढ़ें. ओह तेरी! पत्नी कहेगी पति से, बिस्तर पर ‘ना बाबा ना’

यह मंजूरी 305 करोड़ रुपये का विदेशी धन प्राप्त करने के लिए दी गई थी। इसके बाद, ईडी ने भी 2017 में इस सिलसिले में मनी लॉन्ड्रिंग का एक मामला दर्ज किया था।

यह भी पढ़ें: लड़कियों को पसंद ये! बताती नहीं पर हमेशा ही खोजती हैं ये चीजें

Harsh Pandey

Harsh Pandey

Next Story