×

live: कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 74 हजार के पार, नहीं थम रहा मजदूरों का पैदल चलना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन -4 का एलान कर दिया है। जल्द ही इसके नियमों के बारे में भी जानकारी दे दी जायेगी। इसके अलावा पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की भी घोषणा की। उम्मीद है आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस पैकेज के बारे में अधिक जानकारी देंगी।

Shivani Awasthi
Published on: 13 May 2020 2:21 AM GMT
live: कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 74 हजार के पार, नहीं थम रहा मजदूरों का पैदल चलना
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन -4 का एलान कर दिया है। जल्द ही इसके नियमों के बारे में भी जानकारी दे दी जायेगी। इसके अलावा पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की भी घोषणा की। उम्मीद है आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस पैकेज के बारे में अधिक जानकारी देंगी।

Lockdown-3 भारत में कोरोना वायरस

देश में अब तक कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या 75 हजार के पार हो गई है। एक दिन में 121 लोगों की जान गई है। कुल 2415 मरीजों की जान अबतक जा चुकी है। राहत की बात ये है कि 24385 लोग ठीक भी हुए हैं।


Live Updates

प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा ने सैफई चिकित्सा विश्वविद्यालय में कोविड-19 समीक्षा बैठक ली

इटावा: सैफई 13 मई उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई के कोविड-19 अस्पताल में जारी सेेवाओं के सम्बन्ध में प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डा0 रजनीश दूबे ने समीक्षा बैठक की।

इस दौरान उन्होंने व्यक्तिगत रूप से कोविड-19 अस्पताल में कार्यरत् सभी कमिटियों के प्रभारी एवं सभी विभागाध्यक्षों से वार्ता कर व्यवस्थाओं एवं तैयारियों की विवेचना की और उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 डा0 राजकुमार के निर्देशन में किये जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि सैफई विश्वविद्यालय ने कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में क्षेत्र एवं राज्य में एक विशिष्ट स्थान बना लिया है जिसे उसे आगे भी अपने उत्कृष्ट योगदान को बरकरार रखना है। उन्होंने विश्वविद्यालय में कार्यरत् सभी हेल्थ वर्कर्स की हौसला अफजायी की। उन्होंने यह जानकारी दी कि उत्तर प्रदेश में कोविड-19 मरीजों की मृत्यु दर 2.2 प्रतिशत है जबकि राष्ट्रीय औसत 3.3 प्रतिशत है और पश्चिम बंगाल में तो 9.0 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में सबसे अधिक आबादी के बावजूद उत्तर प्रदेश कोविड-19 को कन्ट्रोल करने में सफल रहा है।

समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डा0 रजनीश दूबे ने कहा कि कोविड-19 वायरस से लड़ने के लिए जरूरी है कि सभी स्तर पर निर्धारित प्रोटोकॉल एवं क्वालिटी कन्ट्रोल को फालो किया जाये। उन्होंने निर्देश दिया कि विश्वविद्यालय में एक मजिस्ट्रेट को लिखित आदेश देते हुए तैनात किया जाये जो यहां के मरीजों की सुरक्षा हेतु उत्तरदायी होगा और इससे कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए विश्वविद्यालय एवं जिला प्रशासन के बीच बेहतर समन्वय हो सकेगा।

ये भी देखें: आटे का खाली कंटेनर ने ली जान, लुधियाना में मऊ के मजदूर ने लगाई फांसी

उन्होंने अन्य जिलों से सैफई विश्वविद्यालय में रेफर किये जा रहे कोविड-19 मरीजों के बारे में गाइडलाइन जारी किया है। उन्होंने निकटवर्ती जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं जिलाधिकारी को उन्हीं कोरोना मरीजों को रेफर करने के लिए कहा है जिनको लेवल-3 उपचार की जरूरत है या जिन्हें अधिक उम्र या कोमोर्बिड कन्डिशन्स के कारण अधिक खतरा है। इन मरीजों को रेफर करने से पूर्व प्रमुख सचिव, चिकित्सा शिक्षा से अनुमोदन लेकर माननीय कुलपति महोदय और जिलाधिकारी इटावा से क्लियरेंस लेना पड़ेगा एवं उसके उपरान्त ही मरीज को मजिस्ट्रेट की निगरानी में एमओ के साथ एम्बुलेंस में पूरे पेपर वर्क के साथ विश्वविद्यालय को हेन्डओवर करना होगा।

उन्होंने जोर दिया कि कोविड-19 अस्पताल के हर वार्ड में सीसीटीवी कैमरा लगाया जाय और एक मोबाइल फोन भी रखा जाये जिससे कन्ट्रोल रूम से चैबिस घंटे मानिटरिंग की जाये। उन्होंने निर्देश दिया कि किसी भी दशा में सैफई विश्वविद्यालय में सस्पेक्टेड मरीजों को क्वारंटाइन न किया जाय। जरूरत पड़ने पर उक्त हेतु उपजिलाधिकारी डिग्री कालेजों में व्यवस्था सुनिश्चित करें।

ये भी देखें: सितम्बर है खतरनाकः आधी से अधिक आबादी होगी संक्रमित! अभी से रहें सावधान

कुलपति प्रो0 डा0 राजकुमार द्वारा अवगत् कराया गया कि टेलिमेडिसिन सेवा जल्द ही शुरू की जा रही है जिससे आस-पास के जिलों के सभी नॉन कोविड मरीजों को भी इलाज में कोई समस्या न आये। उन्होंने यह भी अवगत् कराया कि डायलिसिस के लिए युद्ध स्तर पर नया आरओ प्लांट ट्रामा एवं इमर्जेंसी बिल्डिंग के भू-तल पर इंस्टाल कर दिया गया है और अतिशीध्र ही कोविड एवं नॉन-कोविड मरीजों के डायलिसिस की रेगुलर व्यस्था बहाल कर दी जायेगी। साथ ही डायलिसिस टेक्नोलाॅजी में डिप्लोमा कर रहे अन्तिम वर्ष के 14 छात्रों को बुलाये जाने की कार्यवाही भी की जा रही है। इस पर प्रमुख सचिव ने संतोष प्रकट किया और डायलिसिस टेक्नोलाॅजी कोर्स के फाइनल ईयर स्टूडेन्ट्स को एवं स्टाफ नर्स को डायलिसिस के शार्ट टर्म ट्रेनिंग करवाकर डायलिसिस की सेवाओं को मजबूत करने के सलाह की संस्तुति की। उन्होंने हेल्थ केयर वर्कर्स के वेन्टिलेटर ट्रेनिंग पर भी विशेष जोर दिया।

ये भी पढ़ेंः IMD की भविष्यवाणी, जल्दी आएगा मानसून, इन राज्यों में इस दिन से शुरू होगी बारिश

प्रभारी किचन डा0 आई के शर्मा द्वारा अवगत् कराया गया कि मरीजों को आहार देने से पूर्व डायटिशियन व चिकित्सक द्वारा उसकी गुणवत्ता का परीक्षण किया जाता है। माननीय कुलपति महोदय द्वारा अवगत् कराया गया कि कोरोना रोगियों को आयुर्वेदिक काढ़ा (एनआरके) तथा माडरेट सिम्प्टम वाले मरीजों को विशेष अयुर्वेदिक औषधि निर्वाण देव बूटी (एनआरबी) दी जा रही है जिसके बहुत अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं तथा एनआरबी पर चल रहे रिसर्च को विश्वविद्यालय की एथीकल कमेटी द्वारा अनुमोदित किया जा चुका है तथा इसे आगे भी जारी रखा जायेगा। इसके साथ-साथ रोगियों को एलोपैथी औषधि भी गाइडलाइन के अनुसार दी जा रही है। प्रमुख सचिव, चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा रोगियों को उपलब्ध कराये जा रहे आहार के सम्बन्ध में संतुष्टि व्यक्त किया गया।

संकायाध्यक्ष ने अवगत् कराया कि अधिकांश इन्टर्न ड्यूटी ज्वाइन कर चुके हैं तथा उन्हें ट्रेनिंग भी दी जा रही है। डीन नर्सिंग कालेज ने अवगत् कराया कि कुल 114 नर्सिंग फाइनल ईअर स्टूडेन्ट्स कोर्स कम्पलिट करने के उपरान्त घर चले गये जिनमें 60 बीएससी नर्सिंग एवं 54 जीएनएम के स्टूडेन्टृस हैं प्रमुख सचिव ने इन सभी को तत्काल रूप से बुलाकर और विशेष ट्रेनिंग मोड्यूल के अन्र्तगत प्रशिक्षित कर वर्तमान में उपलब्ध मैन पावर को मजबूत करने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के शुरूआत से ही मेडिकल एजूकेशन डिपार्टमेंट जिसमें मेडिकल कालेज तथा चिकित्सा विश्वविद्यालय हैं कि जिम्मेदारियों में व्यापक इजाफा हुआ है। प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डा0 रजनीश दूबे ने जिलाधिकारी इटावा को निर्देश दिया कि विश्वविद्यालय के आस-पास के स्थित अधिकांश गेस्ट हाउस को कोविड-19 अस्पताल में कार्यरत् हेल्थ वर्कर्स के क्वारंटाइन के लिए उपलब्ध कराया जाय।

शासन द्वारा भेजे गये कोविड-19 के लिए ओएसडी डा0 शैलेन्द्र कुमार यादव से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वे प्रतिदिन पूरी तैयारियों का जायजा स्वयं लेकर विभिन्न प्रोटोकाॅल को निर्धारित करेंगे। उन्होंने ओएसडी को यह भी निर्देश दिया कि कोविड-19 से सम्बन्धित हेल्थ केयर वर्कर्स की ट्रेनिंग को आकस्मिक चेक कर गुणवत्ता को सत्यापित करेंगे और डेड बाडी डिस्पोजल एवं डेथ आॅडिट के पूर्व निर्धारित प्रोटोकाॅल को क्रियान्वित करेंगे।

ये भी देखें: आ रहा भयानक तूफान: 16 मई को यहां देगा दस्तक, IMD का अलर्ट जारी

इस दौरान समीक्षा बैठक में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 (डा0) राजकुमार, प्रतिकुलपति डा0 रमाकान्त यादव, जिलाधिकारी इटावा जेबी सिंह, मुख्य विकास अधिकारी राजा गणपति आर, संकायाध्यक्ष (चिकित्सा संकाय) डा0 आलोक कुमार, संकायाध्यक्ष (छात्र कल्याण प्रकोष्ठ) डा0 आलोक दीक्षित, वित्त नियंत्रक गुरूजीत सिंह कलसी, कुलसचिव सुरेश चन्द्र शर्मा, चिकित्सा अधीक्षक डा0 आदेश कुमार, कोविड-19 अस्पताल नोडल अधिकारी डा0 रमाकान्त रावत, सभी कमेटियों के प्रभारी एवं विभागाध्यक्ष आदि उपस्थित रहे।

बैठक के उपरान्त सभी के द्वारा चिकित्सालय का निरीक्षण किया गया। इमर्जेंसी ट्रामा एवं फ्लू ओपीडी का भी निरीक्षण किया गया। समस्त व्यवस्थाओं से मा0 प्रमुख सचिव महोदय द्वारा सन्तोष व्यक्त किया गया।

प्रमुख सचिव, चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा हेल्थ केयर वर्कर्स (रेजिडेंट डाक्टर्स, नर्सिंग आफिसर, वार्ड ब्वाय, हाउसकीपर) को निम्नलिखित निर्देश दिये गये।

(क) बार-बार मरीज के पास जाकर हाल-चाल पूछना ।

(ख) पीपीई किट पहनने व उतारने का तरीका सीखना।

(ग) जब वरिष्ठ चिकित्सक वार्ड के अन्दर आये तो मरीजों को बताना।

(घ) ड्यूटी पर तैनात चिकित्सकों को हर दो घंटे में राउन्ड लेकर मरीज का परीक्षण तथा गंभीर मरीज का हर घंटे परीक्षण करने के निर्देश दिये।

(ड0) ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डाक्टर्स को मोबाइल फोन के माध्यम से रोगी के सम्बन्ध में आइसोलेशन वार्ड के बाहर संबन्धित सीनियर डाक्टर्स को लगातार सूचना देना।

(च) हर दो घंटे में एक बार पल्स आक्सिमीटर द्वारा मरीज के आॅक्सीजन सेचुरेशन की जाॅच करना तथा जरूरत पड़ने पर तुरन्त आक्सीजन देना।

ये भी देखें: जेल में मचा हड़कंप: अब यहां कैसे पहुंचा कोरोना, 10 बंदियों की रिपोर्ट पॉजिटिव

हॉटस्पॉट इलाकों का डीएम और एसपी ने किया निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

शामली: पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल एवं जिलाधिकारी जसजीत कौर द्वारा जनपद में चिन्हित किये गए नए हॉटस्पॉट मौहल्ला बडी आल पहुंच कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया । मोहल्ले को सील किए जाने हेतु किये जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी ली । मौके पर पहुंचकर पुलिस अधीक्षक शामली द्वारा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली से हॉटस्पॉट पर लगाए गए बैरिकेडिंग व पुलिस बल के संबंध में जानकारी की गई ।

पुलिस बल को मास्क, ग्लब्स एवं अन्य संसाधन उपलब्ध कराए जाने के बारे में पूछा । मुहल्ले में रह रहे नागरिकों के लिए सामग्री की आपूर्ति हेतु चयनित किए गए वॉलिंटियर्स के बारे में जानकारी की । जिलाधिकारी शामली द्वारा क्षेत्र में आपूर्तिकर्ता/दुकानदार, दुग्ध सप्लायर के संबंध में पूछा गया । उपस्थित अधिकारियों द्वारा बताया गया कि आवश्यकता की वस्तुओं की सप्लाई वॉलिंटियर्स के माध्यम से मौहल्ले में की जा रही है ।

अधिकारियों द्वारा मुहल्ले में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा सर्वे की जानकारी की गई एवं क्षेत्र के सेनिटाइज किए जाने के बारे में भी पता किया गया । मौजूद अधिकारियों द्वारा बताया गया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम सर्वे का काम कर रही है तथा सैनिटाइजेशन का काम पूर्ण हो चुका है । पुलिस अधीक्षक शामली ने प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि पुलिस बल ड्यूटी पर मुस्तैद रहे एवं खुद को संक्रमण से बचाते हुए पूर्ण मनोयोग से ड्यूटी करे तथा वॉलिंटियर्स मास्क का प्रयोग करें और पैरों में जूते अवश्य पहने तथा हाथों में सैनिटाइजर का प्रयोग करें जिससे वे संक्रमित न होने पाये । सील किए गए हॉटस्पॉट में लोग लॉकडाउन का अनुपालन करें तथा घरों में ही रहे इसका मैसेज लॉउडस्पीकर के माध्यम से मौहल्ले मे कराया जाए ।

ये भी देखें: मौत के सफर पर निकले प्रवासी मजदूर, चाहत सिर्फ घर पहुंचने की

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाज के विभिन्न समूहो, नेताओं और मंत्रालयों के साथ चर्चा करने के बाद इस पैकेज की घोषणा की है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा 2014 में बनी प्रधानमंत्री की सरकार जिम्मेदार और लोगों को सुनने वाली थी​ इसलिए चाहे सरकार का लक्ष्य नया भारत बनाने का हो या आत्मनिर्भर भारत बनाने का हो हमने इसके लिए नये तरह से काम किया है।

पुलिस का लॉक डाउन का पाठ, बिना लाठी डंडे के करवा रहे पालन

इटावा: कोरोना से बचाव के चलते भारत में लॉक डाउन जारी है। यूपी के इटावा में 2 दिन से जिला प्रशासन ने इटावा की जनता को राहत देने के लिए सुबह 11 से शाम 6 बजे तक, सड़क के अगल-बगल की दुकानों में से एक दिन दाएं और एक दिन बाएं की दुकानें खोलने के आदेश जारी कर दिए। जिससे आम जनता की परेशानी कम की जा सके, लेकिन जनता तो जनता ही ठहरी प्रसाशन के आदेश मिलने के बाद से ऐसा दिखाई पड़ रहा मानो कोरोना की बीमारी खत्म हो गयी।

ये भी देखें: सैकड़ों वर्षों की शौर्य गाथा, कोई बना राजा तो किसी को बनाया रंक

लॉक डाउन में मिली छूट के दौरान पब्लिक करती दिखी मनमानी जिसके बाद थाना कोतवाली पुलिस ने कमर को कसते हुए लॉक डाउन में सशर्त छूट का पढ़ाया पाठ पुलिस ने बिना लाठी डंडे का प्रयोग कर लोगो को समझाया शोसल डिस्टेंस और मास्क लगाना पुलिस ने किसी से किया निवेदन तो किसी को मास्क न लगाने पर दी सज़ा शहर के साबितगंज,न्यू हिन्द टॉकीज क्षेत्र में पुलिस ने दुकानदारों, हथठेला वालों को शोसल डिस्टेंस का करवाया पालन खरीददारी कर रहे लोगो द्वारा मास्क न लगाएं होने पर थाना कोतवाली के एसआई जगमोहन सिंह, एसआई इमरान फरीद ने सामान रखवाकर मास्क खरीद कर लगाने पर वापस दिया समान वही बाजार में पहुंचे बुजुर्गो को हाथ जोड़कर समझाकर शोसल डिस्टेंस और मास्क लगवाने का करवाया पालन।

ये भी पढ़ेंः पैकेज इफेक्ट : देश के कामकाज में आने वाला है ये बहुत बड़ा बदलाव

वही शहर में लॉक डाउन का पालन पूरी तरह से हो इसके लिए सिटी मजिस्ट्रेट ने नगर क्षेत्र इसकी व्यवस्था देखी और पुलिस को सख्त निर्देश दिए मास्क और शोसल डिस्टेंस बनवाने के लिए।

दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 7998 हुई, अब तक 106 लोगों की मौत

दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। जिसमें अभी तक 106 लोगों की मौत हो चुकी है।

बासाहेब भीमराव अस्पताल के 106 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

दिल्ली में बाबासाहेब भीमराव अस्पताल के 106 स्टाफ कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। किसी अस्पताल में हेल्थ स्टाफ के संक्रमित होने का ये अब तक का सबसे बड़ा मामला है।


उत्तर प्रदेश में कोरोना

यूपी में कोरोना वायरस के 3664 केस आ चुके हैं, हालांकि, इनमें से 1873 लोग पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं और 82 लोगों की मौत हो चुकी है।


सीआईएसएफ के कुल 68 जवान कोरोना पॉजिटिव, सिर्फ मुंबई में 28 मरीज

ये भी पढ़ेंःपैकेज इफेक्ट: देश के कामकाज में आने वाला है बहुत बड़ा बदलाव


सीतारमण बताएंगी 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज किस वर्ग को कितनी राहत

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज 20 लाख करोड़ के आर्थिक राहत पैकेज का ब्लू प्रिंट दे सकती है। वो बता सकती है कि किस वर्ग को कितनी राहत मिलेगी। सबसे ज्यादा उम्मीदें इस पैकेज से मजदूर वर्ग और उद्योग जगत को है। बता दें कि बीते दिन पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की थी।

ये भी पढ़ेंःयोगी सरकार का बड़ा फैसला, अधिकारियों और कर्मचारियों के ट्रांसफर पर लगी रोक


राजस्थान में कोरोना से 117 मौतें

राजस्थान में कोरोना के 87 नए केस मिले हैं। इसके साथ ही कुल संख्या 4213 हो गई है। 24 घंटे में किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। फिलहाल मृतकों की संख्या 117 है।


देश में कोरोना से मौतों का आंकड़ा :

गुजरात में 24 घंटे में 24 लोगों की जान गई है। इनमें से 21 तो अकेले अहमदाबाद से हैं। दूसरी ओर, दिल्ली में मंगलवार को 406 नए केस आए हैं और 13 लोगों की मौत हुई है। जिसके बाद दिल्ली में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 7500 हो गई है। मध्य प्रदेश में भी कोरोना के 201 नए केस मिले हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story