Parliament: कांग्रेस सांसदों ने जलाई किसानों से संबंधित बिल की कॉपियां

संसद में मानसून सत्र का आज चौथा दिन है। राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हो गयी है। विपक्ष ने चीन और लद्दाख तनाव पर सरकार को घेरा है।

Published by Shivani Awasthi Published: September 17, 2020 | 9:48 am
Modified: September 17, 2020 | 8:01 pm
Parliament monsoon Session day 4 updates rajnath singh china tension

दिल्ली: संसद के मॉनसून सत्र का आज चौथा दिन है। LAC पर चीन के साथ जारी तनाव पर राजनाथ सिंह ने बयान दिया।रक्षा मंत्री ने इससे पहले मंगलवार को लोकसभा में बयान दिया था। अपने संबोधन में रक्षा मंत्री ने चीन पर निशाना साधा। राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन की LAC में बदलाव की मंशा है, हालांकि हमारे जवानों ने उसकी मंशा को पहले ही भांप लिया। रक्षा मंत्री ने ये भी कहा भारतीय सैनिक हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

मॉनसून सत्र कार्यवाही Live

शिरोमणि अकाली दल ने किया बिल का विरोध

-शिरोमणि अकाली दल के सांसद सुखबीर बादल ने कहा कि हम इस बिल का विरोध करते हैं।इससे 20 लाख किसानों पर असर पड़ेगा। आजादी के बाद हर राज्य ने अपनी योजना बनाई।

-कैसे अपने राज्यों को आगे ले जाना है। पंजाब खेती का राज्य है। पंजाब की सरकार ने पिछले 50 साल खेती के ढांचा को बनाया। पंजाब में किसान खेती को अपना बच्चा समझता है। पंजाब अपना पानी देशवासी को कुर्बान कर देता है।

कांग्रेस सांसदों ने जलाई किसानों से संबंधित बिल की कॉपियां

-कांग्रेस के सांसदों ने संसद परिसर में किसानों से संबंधित बिल की कॉपियों को जलाया।

कांग्रेस का संसद परिसर में प्रदर्शन

-ऑर्डिनेंस के खिलाफ कांग्रेस ने संसद भवन में गांधी स्टैचू पर धरना दिया और कहा कि इसे वापस लेना चाहिए। यह किसान के हितों के खिलाफ है।

-कांग्रेस सांसदों का कहना है कि यह काला कानून है। किसान के पेट पर लात मारने वाला कानून है। इससे किसान को नुकसान होगा।

-किसान हमारा अन्नदाता है, हमारा पेट भरता है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी कहा कि मोदी सरकार किसान विरोधी सरकार है।

-समय-समय पर वह ऐसे काले कानून लाकर जनता के पेट पर लात मारती रहती है।अब किसानों के साथ धोखा किया गया है।किसानों को उनकी फसलों का उचित दाम नहीं मिलेंगे।यह तो हम कभी बर्दाश्त नहीं कर सकते।

किसानों से संबंधित बिल पर कृषि मंत्री ने क्या कहा

-विधायी तथा पारित किए जाने के लिए विधेयक- कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य विधेयक, 2020 और कृषक कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020।

-कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि ये दोनों विधेयक खेती को मुनाफे में लाने वाले, किसानों को आजादी दिलाने वाले और खेती को उन्नत बनाने के लिए केंद्र सरकार का महत्वपूर्ण कदम है।

-इस विधेयक से किसानों को अपनी उपज किसी भी स्थान से, किसी भी व्यक्ति को बेचने का अधिकार होगा।निजी निवेश गांव तक पहुंचेगा और रोजगार बढ़ेगा।किसानों अच्छी फसलों की तरफ आकृषित होगा।

-कृषि निर्यात को बढ़ावा मिलेगा।किसान अपनी खेती को मुनाफे में ला सकेगा।कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री की अगुवाई में कृषि के क्षेत्र में योजनाओं का जन्म हुआ है।

-किसी को भ्रम में नहीं रहना चाहिए।एमएसपी पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। एमएसपी आगे भी जारी रहेगी।

राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित

रक्षा मंत्री के बयान के बाद राज्यसभा की कार्यवाही कल सुबह 9 बजे तक स्थगित कर दी गई है।

एके एंटनी ने मांगी सफाई

-पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा कि हम सभी देश के जवानों के साथ खडे़ हैं। मैं स्पष्टीकरण चाहता हूं।

-रक्षा मंत्री के बयान का क्या मतलब है कि सरकार देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए सब कुछ करेगी?

-संप्रभुता की रक्षा करने का मतलब है यथास्थिति बहाल करना। गलवान घाटी कभी भी विवाद की जगह नहीं थी।

ये भी पढ़ें-रेलवे का शक्तिशाली इंजन: खिचेंगा मालगाड़ी के 150 डिब्बे, बचेगा वक्त

देश सेना के साथ है: आनंद शर्मा

-कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि चीन के मुद्दे पर हम सरकार के साथ हैं।देश सेना की साथ खड़ा है। हम सभी एकजुट हैं।

सभापति ने रक्षा मंत्री को सलाह दी

-राज्यसभा के सभापति ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सलाह दी कि वह अपने चैंबर में कुछ वरिष्ठ सदस्यों को बुलाएं और उनके साथ विवरण साझा करें.

ये भी पढ़ें- मां बनने के बाद खुद को ना भूलें, सीखें अपने लिए भी जीना, Tips

सीमा पर मजबूती के साथ डटे हैं जवान: राजनाथ सिंह

-राजनाथ सिंह ने कहा कि हमारी सेनाएं सीमा पर मजबूती के साथ डटी हुई हैं।मैं सदन को आश्वस्त करना चाहता हूं मैं इस मुद्दे पर ज्यादा विस्तार से नहीं बोलना चाहता हूं और इस संवेदनशीलता को सदन समझेगा।

-राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत की तरफ से पहले सैन्य कार्रवाई नहीं की गई, जबकि चीन की तरफ से की गई है, लेकिन हमने उनके इरादों को कामयाब नहीं होने दिया।

-राजनाथ सिंह ने कहा कि हम इस मुद्दे को शांतिपूर्वक ढंग से सुलझाना चाहते हैं और हम चाहते हैं कि चीनी पक्ष हमारे साथ मिलकर काम करें। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन ने पिछले कई दशकों में सीमावर्ती क्षेत्रों में अपनी तैनाती क्षमताओं को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा निर्माण गतिविधि की।

-हमारे सरकार ने भी सीमावर्ती बुनियादी ढांचे के विकास के लिए बजट को पिछले स्तरों से लगभग दोगुना कर दिया है।

शांति बहाल करने के लिए कई समझौते किए गए: राजनाथ सिंह

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि शांति बहाल करने के लिए कई समझौते किए गए।

-चीन औपचारिक सीमाओं को नहीं मानता। उसकी कथनी और करनी में फर्क है। हमारे जवानों ने चीन को भारी क्षति पहुंचाई है। चीन ने एलआईसी की यथास्थिति को बदलने की कोशिश की।

ये भी पढ़ें-पुलिस को हाइवे किनारे अर्धनग्न हालत में मिली इस नेता की लाश, मच गई खलबली

चीन से तनाव पर बयान दे रहे रक्षा मंत्री

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में कहा कि 15 जून को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में हमारे 20 जवान शहीद हुए। पीएम मोदी ने लद्दाख में जाकर जवानों का हौसला बढ़ाया। रक्षा मंत्री ने कहा कि बॉर्डर पर तनाव रहेगा तो द्विपक्षीय रिश्तों पर असर आएगा।

पीएम के नेतृत्व में पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा- स्वास्थ्य मंत्री

-स्वास्थ्य मंत्री हॉ हर्षवर्धन ने कहा कि बीते कुछ महीने से राज्य और केंद्र की सरकार कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रही है।पीएम मोदी के नेतृत्व में पूरा देश मिलकर कोरोना की लड़ाई को लड़ रहा है।

– 7 जनवरी को WHO ने सूचना को मिली थी कि चीन में कोरोना का केस मिला है। हमने 8 जनवरी से बैठकें शुरू कर दी। इतिहास इस बात को लेकर पीएम मोदी को याद करेगा कि कैसे लगातार 8 महीने तक उन्होंने कोरोना को लेकर हर एक्शन पर नजर रखी।उन्होंने सबकी सलाह ली।

ये भी पढ़ें-मुस्लिमों पर खतरा: पाकिस्तान में खून के प्यासे हुए आतंकी, इमरान भी शामिल

कोरोना पर गुलाम नबी क्या बोले

-कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार ने कोविड 19 को रोकने के लिए जो स्वर्णिम महीने थए वो बर्बाद कर दिए।डब्ल्यूएचओ ने दिसंबर 2019 में एक चेतावनी दी थी।जैसा कि चीन हमारा पड़ोसी देश है, हमें पहले सतर्क होना चाहिए था।

-राहुल गांधी ने भी सचेत किया था कि एक महामारी हमारे ऊपर हावी होनी वाली है।

चीन से तनाव पर बयान दे रहे रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में कहा कि 15 जून को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में हमारे 20 जवान शहीद हुए। पीएम मोदी ने लद्दाख में जाकर जवानों का हौसला बढ़ाया। रक्षा मंत्री ने कहा कि बॉर्डर पर तनाव रहेगा तो द्विपक्षीय रिश्तों पर असर आएगा।

ये भी पढ़ें-तीन हजार का तमंचा पंचायत चुनाव का टिकटः बाहुबली बन जीतना चाहते हैं चुनाव

सुधांशु त्रिवेदी ने दिया संजय सिंह को जवाब

बीजेपी सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने राज्यसभा में कहा कि कोरोना अबतक की सबसे बड़ी आपदा है। उन्होंने कहा कि जो लोग कह रहे हैं कि क्या ताली-थाली बजाने से कोरोना खत्म हो जाएगा। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या चरखा चलाने से आजादी मिली थी। चरखा चलाना एक प्रतीक था। ठीक उसी तरह ताली-थाली बजाना एक प्रतीक था जिसके जरिए कोरोना से जंग में जुटे लोगों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की गई।

सांसद संजय राउत ने कोरोना पर घेरा

कोरोना पर चर्चा के दौरान शिवसेना के सांसद संजय राउत ने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना से कई लोग ठीक हो चुके हैं, क्या वो भाभी जी पापड़ खाकर ठीक हुए हैं। उन्होने विनय सहस्रबुद्धे के बयान पर चंज कसा। बता दें कि विनय सहस्रबुद्धे ने बुधवार को सदन में कोरोना को लेकर महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधा था।

लोकसभा

संजय राउत ने कहा कि मैं सदन के सदस्यों से पूछना चाहता हूं कि कोरोना से अब तक जो लोग ठीक हुए हैं क्या वो भाभी जी पापड़ खाकर ठीक हुए हैं। ये राजनीतिक लड़ाई नहीं है, ये लोगों की जिंदगी बचाने की लड़ाई है।

ये भी पढ़ेँः मोदी सकार दिवाली से पहले दे सकती है ये बड़ी सौगात, सभी को होगा फायदा

राज्यसभा की कार्यवाही शुरू

राज्यसभा की तीसरे दिन कार्यवाही शुरू हो गई है। आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह चीन से तनाव पर 12 बजे सदन में बयान देंगे।

ये भी पढ़ें- कंगना ने बताया पोर्न स्टार: इस एक्ट्रेस पर भड़की, किया ये दावा

‘पंजाबी’ को J-K की छठी आधिकारिक भाषा घोषित करने की मांग

राज्यसभा शिरोमणि अकाली दल के सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा ने राज्यसभा में शून्य काल नोटिस दिया है। उनकी ओर से पंजाबी भाषा को जम्मू और कश्मीर की छठी आधिकारिक भाषा घोषित करने की मांग की गई है।

ये भी पढ़ेंः मोदी की ताकत का राज: ख़ास है अनूठी भाषण शैली, देश विदेश तक लोग फैन

नड्डा ने किया किसानों के तीन विधयक का बचाव

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने केंद्र सरकार द्वारा संसद में कृषि क्षेत्र से संबंधित पेश किए गए तीन विधेयकों का मजबूती से बचाव करते हुए उन्हें बहुत ही क्रांतिकारी, जमीनी स्तर पर परिवर्तन लाने वाला और किसानों की तस्वीर बदलने वाला बताया। किसान इन तीनों विधेयकों का विरोध कर रहे हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App