Agricultural bill 2020

इटावा में आज कांग्रेस कार्यालय से काँग्रेस जिलाध्यक्ष मलखान सिंह यादव की अगुवाई में दर्जनों कांग्रेसी कार्यकर्ता बाजार में नारेबाजी करते हुए भाजपा सदर विधायक सरिता भदौरिया के आवास पर किसान बिल के विरोध में घेराव करने पहुँचे।

कृषि कानूनों को लेकर चल रहे किसान आंदोलन पर उन्होंने कहा कि इस देश का किसान सीधा-साधा है, भोला है और देश की आत्मा है। जिन राजनैतिक दलों की जमीन खिसक चुकी है

केन्द्र सरकार की तरफ से लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ समाजवादी पार्टी लगतार अपना विरोध जता रही है। भारत बंद को दिए समर्थन के बाद आज सपा नेताओं ने सभी जिलों में धरना दिया।

आज जब प्रधानमंत्री  मोदी  के नेतृत्व में गांव, गरीब, किसान के हितों में फैसले लिए जा रहे तो  विपक्षी दल  फैसलों को गलत साबित करने के लिए झूठ व  देश व प्रदेश का माहौल खराब करने में लगे हुए है। 

जानकारों का मानना है कि फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य कानून किसान के हित में नहीं है। न्यूनतम समर्थन मूल्य जैसे कानून को अगर सरकार गारन्टी दे दे तो फिर देश में लोगों को दालें, तेल, मोटा आनाज, फल और सब्जियां मिलना मुश्किल हो जाएगा

प्रधानमंत्री ने कहा कि काफी विचार-विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरुप दिया है। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बंधन समाप्त हुए हैं, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं और नए अवसर मिले हैं।

किसान बिल के विरोध में देशभर में किसानों का विरोध प्रदर्शन चल रहा है जिसको देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षा को बढ़ाया गया है और पंजाब बॉर्डर पर एक्शन लिया जा रहा है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हाल में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर केंद्र सरकार की ओर से पारित किए गए कृषि कानूनों में बदलाव के लिए संशोधन बिल पारित कराया है। अब इसी मामले को लेकर आप और कैप्टन के बीच जंग शुरू हो गई है।

किसानों की ट्रैक्टर रैली रविवार को पंजाब के मोगा से शुरू हो रही है। यह रैली हरियाणा होते हुए दिल्ली तक जाएगी। रैली में हजारों किसान अपने ट्रैक्टर के साथ शामिल हो रहे हैं।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी आज पंजाब के मोगा में कृषि कानून के विरोध में ट्रैक्टर रैली का नेतृत्व करने वाले हैं। उनकी इस ट्रैक्टर रैली का समापन हरियाणा में होगा। लेकिन हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज का कहना है कि वह राहुल गांधी की ट्रैक्टर रैली को प्रदेश में घुसने की इजाजत नहीं देंगे।