chandra grahan

5 जून को चंद्र ग्रहण लगने वाला है।यह ग्रहण भारत में रहेगा लेकिन दिखाई नहीं देगा। बता दें कि 5 जून से 5 जुलाई तक  3 ग्रहण लगने वाले हैं। 2 सूर्य और एक चंद्रग्रहण। इसलिए जून और जुलाई का मास ज्योतिष के नकर से खास है। 30 दिनों के अंतराल में 3 ग्रहण लगेगा, जिसमें दो चंद्रग्रहण होगा

साल 2020 का पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी की रात में 10 बजकर 37 मिनट से शुरू हुआ और 11 जनवरी को मध्यरात्रि में 2 बजकर 42 मिनट पर खत्म हुआ। इस चंद्र ग्रहण की अवधि 4 घंटे 5 मिनट की रही। इस दौरान भारत सहित दुनिया के कई देशों में चंद्र ग्रहण अद्भुत नजारा देखने को मिला।

आज यानि शुक्रवार को पहला चंद्र ग्रहण लग रहा है। इस साल कुल 6 ग्रहण लगने वाले हैं जिसमें 2 सूर्य ग्रहण और 4 चंद्र ग्रहण है। पहला चंद्र ग्रहण यह ग्रहण रात 10 बजकर 37 मिनट से लेकर 11 जनवरी को देर रात 2 बजकर 42 मिनट तक बना रहेगा।

10 जनवरी को इस साल 2020  का पहला चंद्र ग्रहण लग रहा है। इस साल कुल 6 ग्रहण लगने वाले हैं जिसमें 2 सूर्य ग्रहण और 4 चंद्र ग्रहण है। पहला चंद्र ग्रहण यह ग्रहण रात 10 बजकर 37 मिनट से लेकर 11 जनवरी को देर रात 2 बजकर 42 मिनट तक बना रहेगा। इस चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 4 घंटे से भी ज्यादा रहने वाली है।

साल का पहला चंद्रग्रहण 10 जनवरी को लगने जा रहा है। चंद्र ग्रहण का समय रात 10 बजट 37 मिनट से शुरू होगा और रात 2 बजकर 42 मिनट पर खत्‍म होगा। इस बार ग्रहण की अवधि 4 घंटे से अधिक की रहेगी। इस बार चंद्र ग्रहण की खास बात यह है कि इसे भारत में भी देखा जा सकेगा।

शुक्रवार को यानी 10 जनवरी चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह प्रच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। इस ग्रहण को आंखों से नहीं देखा जा सकता है, क्योंकि इस ग्रहण में चंद्रमा धूंधला होता दिखाई देगा। इस ग्रहण का भी वैसा ही प्रभाव होता है जितना कि सामान्य ग्रहण का।

इस सम्बन्ध में गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्रा ने बताया कि सूतक काल में सभी देवालयों के कपाट बंद हो जाते हैं। ऐसे में मां गंगा की आरती भी सूतक काल के पहले संपन्न करवा ली जाएगी।

जिससे ग्रहण का प्रभाव ज्यादा पड़ेगा। सूर्य के साथ राहु और शुक्र भी रहने वाले हैं। सूर्य और चंद्र चार विपरीत ग्रह शुक्र, शनि, राहु और केतु के घेरे में रहेंगे। इस दौरान मंगल नीच का रहेगा।ग्रहों का यह योग और इस पर लगने वाला चंद्र ग्रहण तनाव बढ़ा सकता है।

चंद्र ग्रहण 16 जुलाई की रात 1:31 बजे से आरंभ होगा। जिसका मोक्ष 17 जुलाई की सुबह 4:31 बजे होगा। यानि इस चंद्र ग्रहण की पूरी अवधि कुल 3 घंटे की होगी। यह चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा, इसके अलावा एशिया, यूरोप, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका के कई देशों में भी चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। ग्रहण से 9 घंटे पहले  सूतक लगेगा, जिसमें पूजा-पाठ निषेध है। ग्रहण का लोगों पर क्या असर होगा हो जानते हैं...

साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई मंगलवार को लगने जा रहा है। 16 तारीख की रात लगने वाला ये खण्डग्रास चंद्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा और इसका प्रभाव राशियों पर भी पड़ेगा। भारत में चंद्र ग्रहण आधी रात के बाद 1.31 बजे से देखा सकेंगे। ग्रहण का मध्य तीन बजे होगा। ग्रहण का मोक्ष तड़के 4.30 बजे होगा।