chandra grahan

इस सम्बन्ध में गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्रा ने बताया कि सूतक काल में सभी देवालयों के कपाट बंद हो जाते हैं। ऐसे में मां गंगा की आरती भी सूतक काल के पहले संपन्न करवा ली जाएगी।

जिससे ग्रहण का प्रभाव ज्यादा पड़ेगा। सूर्य के साथ राहु और शुक्र भी रहने वाले हैं। सूर्य और चंद्र चार विपरीत ग्रह शुक्र, शनि, राहु और केतु के घेरे में रहेंगे। इस दौरान मंगल नीच का रहेगा।ग्रहों का यह योग और इस पर लगने वाला चंद्र ग्रहण तनाव बढ़ा सकता है।

चंद्र ग्रहण 16 जुलाई की रात 1:31 बजे से आरंभ होगा। जिसका मोक्ष 17 जुलाई की सुबह 4:31 बजे होगा। यानि इस चंद्र ग्रहण की पूरी अवधि कुल 3 घंटे की होगी। यह चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा, इसके अलावा एशिया, यूरोप, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका के कई देशों में भी चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। ग्रहण से 9 घंटे पहले  सूतक लगेगा, जिसमें पूजा-पाठ निषेध है। ग्रहण का लोगों पर क्या असर होगा हो जानते हैं...

साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई मंगलवार को लगने जा रहा है। 16 तारीख की रात लगने वाला ये खण्डग्रास चंद्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा और इसका प्रभाव राशियों पर भी पड़ेगा। भारत में चंद्र ग्रहण आधी रात के बाद 1.31 बजे से देखा सकेंगे। ग्रहण का मध्य तीन बजे होगा। ग्रहण का मोक्ष तड़के 4.30 बजे होगा।

चंद्रग्रहण समाप्त होने के बाद घर में शुद्धता के लिए गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए। स्नान के बाद भगवान की मूर्तियों को स्नान करा कर उनकी पूजा करें। जरूरतमंद व्यक्ति और ब्राह्मणों को अनाज का दान करना चाहिए। 

इस साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई को होगा। इस दिन आषाढ़ी पूर्णिमा होने के कारण गुरु पूर्णिमा का भी योग बन रहा है। यह लगातार दूसरा साल है, जब गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। बीते साल भी 27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के दिन ही खग्रास चंद्र ग्रहण लगा था।

जयपुर:  जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है, तो यह चंद्रमा पर पड़ने वाली सूर्य की किरणों को रोकती है और उसमें अपनी छाया बनाती है तब चंद्रग्रहण होता। चंद्रग्रहण सदैव पूर्णिमा को ही होता है। इस समय में वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा उत्सर्जित होती है। इस साल का पहला चंद्रग्रहण …

जयपुर:साल का दूसरा ग्रहण 21 जनवरी को लगेगा। भारतीय समयनुसार यह ग्रहण 20 जनवरी सुबह 10 बजे से लेकर 21 जनवरी की शाम 3 बजकर 33 मिनट तक रहेगा। इसके बाद रात्रि 11 बजकर 40 मिनट से पूर्ण चंद्रग्रहण शुरू होगा। यह ग्रहण साल का पहला पूर्ण चंद्रगहण होगा। हालांकि यह ग्रहण भारत में दिखाई …

जयपुर:चंद्रग्रहण के दौरान क्या न करें, इसका विचार हर व्यक्ति करता है। चंद्रग्रहण का प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन में किसी न किसी रूप में पड़ता है। 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई 2018 लगने वाला है। इस चंद्रग्रहण की रोमांचकता देखना लायक होगी। आषाढ़ पूर्णिमा यानि 27 जुलाई 2018 दिन शुक्रवार को …

सहारनपुर:आगामी 27—28 जुलाई की मध्यरात्रि चंद्रग्रहण होने वाला है। इस चंद्रग्रहण की अवधि एक घंटा 43 मिनट का खग्रास रहेगा। यह चंद्रग्रहण 21वीं सदी का सबसे बड़ा ग्रहण होगा। इसके शुरू होने से अंत तक का समय करीब चार घंटे रहेगा। वैज्ञानिक नजरिए से यह चंद्रगहण वैसे तो बहुत खास रहेगा, लेकिन यदि ज्योतिष की …