death toll

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। इस बीच डॉक्टर नरिंदर मेहरा का दावा है कि भारत के लोगों की इम्युनिटी काफी बेहतर है। जिसके कारण भारत में दूसरे देशों की तरह डेथ टोल नहीं बढ़ेगा। आईसीएमआर के पूर्व नेशनल चेयरमैन और एम्स इम्यूनोलॉजी के पूर्व डीन डॉक्टर नरिंदर मेहरा ने बताया

असम में मरने वालों का आंकड़ा 64 पहुंच गया जबकि बिहार में यह आंकड़ा 102 रहा। शनिवार से दोनों राज्यों में पांच और लोगों के मरने की सूचना मिली। बिहार में बाढ़ से 12 जिलों के 72.78 लाख लोग प्रभावित हैं जबकि असम के 33 जिलों में से 18 में रहने वाले 38.37 लाख लोग प्रभावित हैं।

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार 74 मृतकों में से 68 की शिनाख्त की जा चुकी है, जबकि 6 की पहचान अब तक नहीं हुई है। मृतकों की आयु 23 से 53 वर्ष के बीच है। यह दुर्घटना जियांग्शी राज्य के फेंगचेंग औद्योगिक क्षेत्र में हुई।

18 अप्रैल 1996 को गोरखपुर गोंडा पैसेंजर ट्रेन डोमिनगढ़ स्टेशन के पास एक मालगाड़ी से टकरा गई थी जिसमें 60 लोग मरे थे। 25 मई 1996 को वाराणसी में एक ट्रेन के ट्रैक्टर से टकराने के हादसे में 25 लोग मारे गए थे। मृतक सभी ट्रैक्टर पर सवार थे। 18 अप्रैल 1997 को गोरखपुर में हुए ट्रेन हादसे में 60 लोग मारे गए थे।