festival

हर साल की तरह ही इस बार भी जयपुर शहर व उसके आस पास के क्षेत्रों में छठ पर्व की धूम रहेगी। सूर्य का महापर्व डाला छठ उत्सव 24 अक्टूबर नहाय खाय से शुरू होकर 27 अक्टूबर उदीयमान (उगते) सूर्य को अर्घ्य देकर समाप्त होगा।

दीपावली दो शब्दों से मिलकर बना है। दीप और आवली यानि दीप की पंक्ति या कतार। यहीं वजह है कि इस दिन दीप जलाने और घरों के आस पास जगमग करने का खास महत्व है।

नई दिल्ली : दीपावली, गणेश, लक्ष्मी, त्योहार,पावली भारत में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा हिंदू त्योहार है। ये त्योहार चार दिनों के समारोहों से चिह्नित होता है, जो अपनी प्रतिभा के साथ हमारी धरती को रोशन करता है और हर किसी को अपनी खुशी के साथ प्रभावित करता है। चार दिन के उत्सव को इसके …

दीपावली के मौके पर कुछ ना कुछ खरीदना अच्छा होता है। उस दिन झाड़ू व धनिया खरीदना और भी अधिक शुभ होता है। माना जाता है कि दिवाली के दिन झाड़ू खरीद कर इसे पूजा के बाद अगले दिन से इस्तेमाल करना चाहिए। यही नहीं इससे कई मान्यताएं भी जुड़ी हुई हैं। इसके फायदों के बारे में बताते हैं।

सहारनपुर: आगामी आठ अक्टूबर को पूरे देश में करवा चौथ पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाएगा। हिंदू महिलाओं के लिए यह पर्व बेहद ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस पर्व को मनाने के लिए महिलाओं ने जहां तैयारी शुरू कर दी है, वहीं इस पर्व को लेकर उनमें खासा उत्साह भी नजर दिखाई देने …

कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का पर्व मनाया जाता है। इस बार 17 अक्टूबर को देश भर में ये पर्व मनाया जाएगा। इसे चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी (अर्थात उस चतुर्थी की रात्रि को जिसमें चंद्रमा दिखाई देने वाला है) उस दिन सुहागिन महिलाएं अपने सुहाग की लंबी आयु, अच्छा आरोग्य तथा सौभाग्य का संकल्प लेकर दिनभर निराहार रहकर उपवास करती है।

आपको आने वाले महीने अक्टूबर में बैंकों से जूड़े काम करने हैं, तो आप जल्द से जल्द इन कामों को निपटा लें। क्योंकि अक्टूबर में बैंक काफी दिन बंद रहेंगे। दशहरा और दिवाली जैसे बड़े त्योहारों की वजह से आने वाले महीने अक्टूबर में करीब 10 दिन बैंक बंद रहेंगे।

हमारे देश में अभी पितृ पक्ष चल रहा है। इस दौरान पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए स्नान, दान, तर्पण समेत अन्य धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं। श्राद्ध सिर्फ हमारे यहां ही नहीं होता, दुनिया के और भी देशों में होती है, बस तरीका अलग और अनोखा होता है।

जब बहन भाई की कलाई पर प्रेम का कच्चा सूत बांधती है हो तो प्यार की डोर और भी मजबूत हो जाती है और ये फेस्टिवल बन जाता है रक्षा बंधन, राखी। जिसमें बहन भाई सलामती के ले दुआ करती है और भाई से ताउम्र रक्षा का वचन लेती है। चाहे आम हो या खास, पर ये त्योहार हर किसी के लिए एक ही संदेश लेकर आता है।

रक्षा बंधन की परंपरा की शुरुआत बहनों ने शुरू नहीं की थी। रक्षा बंधन सावन पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस महीने रक्षा बंधन 26 अगस्त 2018 को है।  राखी की परम्परा सगी बहनों ने शुरू नहीं की थी। तब किसने शुरू किया राखी का चलन? जानते हैं राखी का इतिहास