independence

 20 फरवरी 1947 को ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री क्लेमेंट एटली ने भारत को 30 जून 1948 तक ब्रिटेन की गुलामी से आजाद करने की घोषणा की थी। इसके लिए चार जुलाई 1947 को ब्रिटिश संसद में एटली द्वारा भारतीय स्वतंत्रता विधेयक प्रस्तुत किया गया।

जिसके बाद पाकिस्तान में सिंधी राष्ट्रवाद की आवाज उठाने वाली पार्टी जिये सिंध कौमी महाज के चेयरमैन और अन्य नेताओं पर मामला दर्ज किया गया है।

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर पुलिस लाइन में बैंड सेरेमनी का आयोजन किया गया जिसमें सेना व पुलिस दोनों के ही जवानों ने मनमोहक प्रस्तुतियां दी । देशभक्ति की धुनों पर निकलने वाले संगीत ने वहां मौजूद सभी के  दिल को जीत लिया ।

70वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्र के नाम संदेश दिया। उन्होंने कहा कि गणतंत्र दिवस देश के सभी नागरिकों के लिए स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे के आदर्शों के प्रति अपनी आस्था को दोहराने का अवसर है और इन सबसे बढ़कर, हमारा गणतन्त्र दिवस, हम सबके भारतीय होने के गौरव को महसूस करने का भी अवसर है।

नई दिल्ली: लंबी लड़ाई के बाद आख़िरकार कैटेलोनिया स्पेन से अलग हो ही गया। कैटेलोनिया की पहचान अब एक आजाद मुल्क के तौर पर होगी। कैटेलोनिया की संसद में मतदान के बाद स्वतंत्रता की घोषणा की गई है। बता दें, कि शुक्रवार (27 अक्टूबर) को ही स्पेन की संसद कैटेलोनिया पर सीधे नियंत्रण बनाए रखने …

बार्सिलोना : स्पेन से अलग होकर एक स्वतंत्र देश कैटालोनिया के गठन के मुद्दे पर रविवार को हो रहे जनमत संग्रह में शुरुआत में ही उस समय अफरातफरी मच गई जब स्पेन की राष्ट्रीय पुलिस ने मतदान केंद्रों में पहुंचकर मतपेटियों और मतपत्रों को जब्त करना शुरू कर दिया। सीएनएन के मुताबिक, गिरोना के एक …

बगदाद : इराकी कुर्दो ने सोमवार को विवादास्पद स्वंतत्रता जनमत संग्रह के लिए हो रहे मतदान में वोट डालना शुरू कर दिया है। इस चुनाव के मद्देनजर बगदाद में सरकार और देश के सबसे बड़े जातीय समूह के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, मतदान सोमवार सुबह छह बजे शुरू हुआ …

लखनऊ: प्रथम पूज्य भगवान गणपति का आविर्भाव। गणेशोत्सव (गणेश+उत्सव) भारत का बहुत बड़ा उत्सव है। वैसे तो यह कमोबेश पूरे भारत में मनाया जाता है, किंतु महाराष्ट्र का गणेशोत्सव विशेष रूप से प्रसिद्ध है। महाराष्ट्र में भी पुणे का गणेशोत्सव जगत प्रसिद्ध है। यह उत्सव, हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास की चतुर्थी से चतुर्दशी …

सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक पर रोक लगाने के बाद गुरुवार को एक और अहम फैसला सुनाया। शीर्ष अदालत ने निजता के अधिकार को भारत के संविधान के तहत मौलिक अधिकार घोषित किया। प्रधान न्यायाधीश जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली नौ सदस्यीय संविधान पीठ ने फैसले में कहा कि संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत दिए गए अधिकारों के अंतर्गत प्राकृतिक रूप से निजता का अधिकार संरक्षित है। पीठ के सभी नौ सदस्यों ने एक स्वर में निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार बताया।